मुखपृष्ठ  कहानीकविता | कार्टून कार्यशालाकैशोर्यचित्र-लेख |  दृष्टिकोणनृत्यनिबन्धदेस-परदेसपरिवार | फीचर | बच्चों की दुनियाभक्ति-काल धर्मरसोईलेखकव्यक्तित्वव्यंग्यविविधा |   संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

प्रकृति की गोद में इंद्रधनुषी
छटा बिखेरता नागालैंड

प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर पूर्वोत्तर राज्यों की सकारात्मक खूबियां लंबे समय से चल रहे अलगाववाद, हिंसात्मक उथल पुथल के बीच दबकर रह गयी है। इनके पहचान के साथ उग्रवाद जुड़ गया। हालांकि देश के शेष भाग के सामने यहां का एकतरफा चेहरा और उनका राजनीतिक, सामाजिक, आर्थिक और सांस्कृतिक पहलू का दबा कुचला स्वरूप ही सामने आता है। पूर्वोत्तर को समझने के लिए हर क्षेत्र को करीब से समझना, देखना और इनके सीने में दबे दर्द को सहानुभूति व सौहार्दपूर्वक महसूस करना होगा। राजनीतिक विफलताओं ने गाजे-बगाहे छोटे-बड़े अलगाववादी, भूमिगत उग्रवाद को पनपने दिया है। जितनी राजनीतिक पार्टियां इन क्षेत़्रों में नहीं होंगी, उनसे ज्यादा हथियारबंद संगठन सक्रिय हैं। सरकारी नौकरी में घुमन्तू प्रवास के दौरान पूर्वोत्तर राज्यों में काफी संवेदनशील तथा लंबे समय से हिंसा से जूझ रहे अशांत और कठिन राज्य नागालैंड को करीब से महसूस करने और समझने का अवसर मिला। करीब तीन साल तक नागालैंड की राजधानी कोहिमा में रहकर वहॉं के राजनीतिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और आर्थिक पहलू से रू-ब-रू हुआ।

      जैसे, बिहार आने के नाम से, देश के अन्य भाग के लोगों को सॉप सूँघ जाता है, वैसे ही नागालैंड जाने के नाम पर भी दहशत होती है। कोहिमा जाने को लेकर छाये खौफ ने ठीक से खाने तो क्या सोने भी नहीं दिया था। बात एक या दो दिन की नहीं थी कम से कम दो साल वहॉ व्यतीत करना था। वर्ष २००१ के अक्टूबर माह में मेरा तबादला नागालैंड की राजधानी कोहिमा के आकाशवाणी में हुआ। खौफ और ज्यादा था कि वहॉं एक भी अपना परिचित नहीं था। उपर से जो भी थोड़ी बहुत जानकारी नागालैंड के बारे में रखता था, उसकी बातें रोज मुझे सताती थी। जिस दौर में नागालैंड के भूमिगत उग्रवादियों और भारत सरकार के बीच सीजफायर नहीं थी और रोजाना मुठभेड़ की खबरें आती थी, उसे देख चुके एक सहकर्मी की बातें मेरे अंदर डर पैदा करती रहती थीं। हालांकि वे कहते कि तबादले पर जाने वाला व्यक्ति नागालैंड पहुंचते ही अपने टेन्योर  की उल्टी गिनती गिनना शुरू कर देता है। क्योंकि नागालैंड में मैदानी लोग या फिर गैर नागाओं में जो असुरक्षा की भावना दिखती है वह उनके प्रवास तक बरकरार रहती है।

       दूसरी ओर, वहां के प्राकतिक सौन्दर्य और सदाबहार मौसम की चर्चा करते हुए सहकर्मी बताते कि जाने के बाद वहां से आने का मन नहीं करेगा।इस बीच जो भी जानकारी मिलती उसे मैं अपने जेहन में डालता जा रहा था। कोहिमा से आए मेरे सहकर्मी यह कहकर भी डराते कि जाइए कोहिमा, वहॉं कुत्ता का मांस खाने को मिलेगा। आखिर वह दिन भी आया जब मुझे पटना से ट्रेन पकड़नी थी यानी १२ मई, २००२। हालॉंकि मैंने ठान लिया था कि जाते ही एक- दो दिनों में वहॉं से भाग आउंगा। लौटने का टिकट भी ले  रखा था। इस बीच ट्रेन आ गयी। ट्रेन में भीड़ थी, धकियाते-फानते अपनी सीट पर पहुंचा, जहां पहले से ही लोग काबिज थे। सामान रखते-रखते ट्रेन चल पड़ी थी। और मैं अनचाही यात्रा पर चल पड़ा। धीरे-धीरे आसपास के लोगों से बातचीत शुरू हुई। सभी गौहाटी जा रहे थे हालॉंकि उनमें से कई को गौहाटी से बस या फिर रेल से दूर-दराज के इलाकों में जाना था। मैं चकित था कि परिवार के साथ जा रहे लोग वर्षों से पूर्वोत्तर के राज्यों में व्यापार, नौकरी कर जीवन व्यतीत कर रहे हैं। लेकिन सभी ने इसके नकारात्मक पहलू से ही रू-ब-रू कराया। पूर्व में सुनी बातें ट्रेन में भी सहयात्रियों ने दोहराया लेकिन यह भी बताया कि अब हालात पहले जैसे नहीं हैं। थोड़ी शांति है। फिर भी वहां का मिजाज कब खराब हो जाए कहना मुश्किल है। दूसरे दिन मैं गोहाटी पहुंचा। स्टेशन के अंदर और बाहर सैनिकों की तैनाती देख पूर्वोत्तर की हिंसा का एहसास होने लगा था।

      खैर, मैंने गौहाटी से कोहिमा फोन कर पहुंचने की जानकारी दी। शाम में कोहिमा की यात्रा बस से शुरू हुई। ठंडी हवा के झोंको ने सुबह पांच बजे मेरी नींद उड़ा दी थी। बाहर देखा तो बस प्रकृति की गोद में फिसलती जा रही थी। पटना की गर्मी और कोलाहलपूर्ण वातावरण की जगह शांति और हरियाली के बीच अपने आप को पाकर अजीब सी अनुभूति का अहसास हो रहा था। कुछ ही देर में पेड़ों को चीरती हुई बस ने रिहायशी क्षेत्र में प्रवेश किया। एक बात तो बताना भूल ही गया। रास्ते में कोहिमा प्रवेश करने के पहले चेक पोस्ट पर बस को रोककर नागालैंड पुलिस ने चेकिंग शुरू कर दी थी। सामानों के साथ-साथ वे गैर नागाओं से पास की मांग कर रहे थे। मैंने अपना परिचय पत्र दिखाया। देखने के बाद उन्होंने कुछ नहीं कहा। वहीं दो-तीन लोगों को पास नहीं रहने के कारण बस से उतार दिया। बात समझ में नहीं आ रही थी कि लोगों को क्यों उतार दिया गया और किस तरह के पास की वे बात कर रहे थे। इस बीच मैंने बाहर देखा तो सड़क के किनारे एक बोर्ड पर साफ-साफ अंग्रेजी में लिखा था कृपया अपना इनर लाइन परमिट यहां दिखाएं। बात मेरी समझ में आने लगी थी कि नागालैंड में प्रवेश के लिए विशेष परमिट की जरूरत पड़ती है। लेकिन भारत सरकार के कर्मचारियों के लिए उनका प्रवेश पत्र ही चलता था। दरअसल, विदेशी नागरिकों की घुसपैठ को रोकने के लिए इनर लाइन परमिट को अनिवार्य बना दिया गया है। नागालैंड में प्रवेश के लिए विदेशी नागरिकों को गृह मंत्रालय से विशेष परमिट लेना होता है। वैसे भारतीय नागरिकों के लिए मात्र पॉंच रूपये में कोलकाता, दीमापुर, गौहाटी और दिल्ली से परमिट बन जाता है। जब मेरी आंख खुली तो अपने को कोहिमा में पाया। यहॉं की आबोहवा देख ऐसा लग रहा था कि मैं हिल स्टेशन पर कम, विदेशी जमीन पर ज्यादा हॅू। बस अपने गंतव्य पर आकर रूक गयी थी। सामान उतारकर मैं सोच ही रहा था कि कहॉं जाउं। मेरी निगाह होटल तलाश रही थी। तभी जीन्स पैंट पहने एक नागा व्यक्ति ने मेरे पास आकर अंग्रेजी में पूछाआप पटना से आए हैं ? ऐसे सवाल की उम्मीद मैंने नहीं की थी। मेरी निगाह आकाशवाणी की गाड़ी पर गयी। मैंने पूछा; आप आकाशवाणी से हैं। जवाब और गाड़ी से आश्वस्त होकर मैं गाड़ी में बैठ गया। डर भी लगा रह था, पता नहीं कौन है। कहीं भूमिगत उग्रवादी तो नहीं। सुन रखा था कि उनका नेटवर्क बहुत ही मजबूत है और प्रदेश में आने वाले हर लोगों की सूचना उन्हें पहले मिल जाती है। उपर से मैं सरकारी मीडिया में आया था। गाड़ी के आकाशवाणी पहुंचते ही मेरा डर काफूर हो गया था। हॉं, गेट के पास अर्द्धसैनिकों को देखकर यहॉं के हालात का अंदाजा होने लगा था। अभी गाड़ी से उतरा ही था कि कंटोल रूम से एक आदमी आया और कहा कि आपका फोन है।  फोन समाचार एकांश में काम करने वाले एक सहकर्मी का था जिसने मुझे न्योता दिया कि आप मेरे यहां आकर रह सकते हैं।

      मैं सोच  ही रहा था, काश, कोई ऐसा व्यक्ति मिल जाए जिसके साथ रह सकूं। मेरी स्थिति यहॉं के हालात को देख अकेले रहने की नहीं थी। अचानक साइरन की आवाज सुनकर मैं घबरा गया। भागकर बाहर आया तो देखा कि जवान इधर से उधर भाग रहे थे। पास में खड़े एक व्यक्ति से पूछा-क्या हुआ ? उसने बड़े ही इत्मिनान से बताया कि कुछ नहीं, यह तो रूटीन है। सहकर्मी के घर जाने के क्रम में सड़क के किनारे और अर्द्धसैनिक बलों के जवानों का मोर्चा संभाले, गश्त लगाती आर्मी की गाड़ियों पर लगी मशीनगनों का मुख सामने और ट्रीगर पर जवानों की अंगूली दहशत पैदा कर रही थी। मैंने डाइवार से पूछा-ऐसा हमेशा रहता है। उसने बताया कि पिछले कुछ साल से सीज-फायर चल रहा है, इसलिए यहॉ का माहौल शांत है, नहीं तो स्थिति विस्फोटक थी। हालॉकि जवान रात हो या दिन किसी भी समय लोगों और गाड़ियों की चेकिंग करते रहते हैं। उसने धीरे से बताया कि यहॉं भूमिगत उग्रवादियों की अपनी समानांतर सरकार चलती है। सबसे बड़ी बात तो यह है कि नागालैंड में सब कुछ खुशी-खुशी चलता है। बात करते-करते हम आकाशवाणी कॉलोनी पहुंच गए थे। नजर घुमाकर देखा तो उपर नीचे पहाड़ों पर मकान ही मकान नजर आए। खैर सहकर्मी के घर पहुंचा, जो केरल का रहने वाला था और पिछले दस साल से कोहिमा में कार्यरत था। तबादले को लेकर वह प्रयासरत था। कोहिमा से मेरे वापस आने के दो महीने पूर्व ही उसका भी तबादला केरल हो गया था और वह इतना खुश था मानो कोई जंग जीत ली हो। उसने कोहिमा के हालात से अवगत कराते हुए कई तरह की हिदायतें दी।

      पहला दिन ठीक ठाक गुजरा, रहने-खाने का फिलहाल मामला सुलझ गया था। यहॉं ढंग के होटल कम ही उपलब्ध है। हालांकि राइस होटल ढ़ेर सारे हैं, जहां चावल के साथ कुत्ता, गाय आदि का मांस मिलता है। कार्यालय में पहले ही दिन बिहार, उत्तर प्रदेश तथा मैदानी क्षेत्र के कार्यरत सहयोगियों ने मेरा हौसला बढाया। कई नागा भाइयों ने गर्मजोशी के साथ मेरा स्वागत किया तो कुछ ने यहां तक कहा कि अच्छा, ''इंडिया से आया है``। खैर, खूबसूरत वादियों से घिरे कोहिमा में प्रकृति का अद्भूत नजारा खुद ब खूद सभी चिंताओं को दूर कर दिल और दिमाग को ताजा कर देता था। यहां का मौसम इतना खुशनुमा था कि ऐसा लगता  जैसे स्वर्ग जमीन पर उतर आया हो। कोई शोर नहीं। चारों तरफ शांति ही शांति थी। मैं बड़ा आश्चर्यचकित था कि प्रकृति के इस अद्भूत नजारे के बीच एक भी पक्षी के चहचहाने की आवाज सुनाई नहीं दे रही थी। आकाश में भी पक्षियों को उड़ते हुए नहीं देखा। बाद में पता चला कि यहां नागा लोग पक्षियों को देखते ही उसके पीछे पड़ जाते हैं और मारकर खा जाते हैं। पक्षियों के हो रहे शिकार की वजह से ही वहां के राजकीय पक्षी 'हार्नबिल पक्षी` लगभग लुप्तप्राय: हो चुके हैं ।     

      नागालैंड अपने आप में जितना खूबसूरत है उतना ही इसके आसपास का माहौल भी। इसके पूरब में म्यांमार और अरूणाचल प्रदेश, पश्चिम एवं उत्तर में असम और अरूणाचल प्रदेश तथा दक्षिण में मणिपुर है। मूलत: कृषि पर आधारित नागालैंड के लोगों के बारे में कहा जाता है कि नागा लोग जन्म से ही प्रकृति प्रेमी होते हैं और संगीत तथा उत्सव इनके रंग-रंग में बसा रहता है। धीरे-धीरे अपनी आदत के मुताबिक लोगों से मिलना-जुलना मैंने शुरू कर दिया। नागाओं के हमेशा हंसते रहना और खुशमिजाज व्यवहार मुझे भ्रमित करता था। खैर, जहॉं अपने ही लोग मुझे डराते रहते थें, वहीं मैंने देखा कि कुछ नागा मुझसे बडे  स्नेह से मिलते और घंटों लालू यादव और राबड़ी देवी के बारे में तरह-तरह के सवाल पूछा करते थे।   कोहिमा पहुंचने के बाद एक-एक कर बहुत सी बातें सामने आने लगी थी। उत्सुकता भी थी कि आखिरकार नागालैण्ड के बारे में सुनी गई बातों में सच्चाई कितनी है। सबसे पहले वहंश के राजनीतिक हालात से ही रूबरू होना पड़ा। एक दिन पता चला कि एक केन्द्रीय कार्यालय के प्रभारी से तीन लाख रूपए की मांग की गई थी। उन्होंने उपर के अधिकारियों को इसकी जानकारी दी। जब वहां से कोई निर्देश नहीं मिला तो उन्होंने नागालैंड ही छोड़ दिया। बाद में विभाग ने उनका तबादला कर दिया। इसी तरह एक दिन पत्नी के साथ दुकान में जरूरत का सामान ले रहा था, तभी दुकानदार को एक व्यक्ति रसीद पकड़ा गया। मालूम हुआ वह '' मंत्रालय `` से टैक्स वसूली का था।  दुकानदार ने बताया कि यह यहां के लिए यह आम बात है और बिना पैसे दिये यहां बिजिनेस नहीं किया जा सकता है। हांलाकि संगठन के लोगों के नाम पर कुछ असामाजिक तत्व भी फायदा उठा लेते हैं। संगठनों की इस रंगदारी में यह ईमानदारी काबिले तारीफ है कि उनके मांग या तय राशि के बाद जबरन कुछ नहीं लिया जाता। नागालैण्ड की राजधानी कोहिमा देश के महंगे शहरों में गिना जाता है। दरअसल संगठन और अन्य लोगों द्वारा पैसों के मांग की भरपाई यहाँ का व्यापारी तबका कीमतें बढ़ा कर करता है। ऐसे में यहाँ हर चीज महंगी बिकती है।

कई बार सुनने को मिला कि नागालैण्ड में सत्ता में तो राजनीतिक दल काबिज रहते हैं लेकिन यहां भूमिगत संगठनों की भी अपनी समानान्तर सरकार चलती हैं। उनका अपना संसद और मंत्रालय भी है। वर्षों से नागा विद्रोहियों ने अपने-अपने प्रभाव क्षेत्रों में टैक्स जमा करने की एक व्यवस्था ही बना ली है। जिसके बारे में सभी जानते हैं। बजाप्ते संगठनों द्वारा रसीदें दी जाती हैं, जिसमें वित्त मंत्रालय को दिये जाने वाले टैक्स की चर्चा  रहती है।

       नागालैण्ड में उद्योग के नाम पर टूरिज्म ही दिखा, लेकिन अलगाववाद से पैदा हुए हालात ने इसे पनपने नहीं दिया है। डर से यहां कम ही लोग आते हैं। यहां उद्योग-धंधों का अभाव है। भूमिगत संगठनों द्वारा भारी रकम की मांग उद्योगपतियों को  बोरिया बिस्तर समेटने को मजबूर किया। हालांकि सीजफायर के बाद समय-समय पर भूमिगत संगठने जबरन पैसे वसूल करने की बात का खंडन करते रहते हैं। इस में दोराय नहीं कि अलगाववादी राजनीति से नागालैण्ड सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है। वर्षों के हिंसक माहौल से गुजरने के कारण सीजफायर के बावजूद आज भी नागालैण्ड की फिजा में अजीब तरह के खतरे की बू आती है। उपर से शांत लेकिन अंदर से विस्फोटक राज्य के व्यवसायिक शहर दीमापुर को छोड़ कर राजधानी कोहिमा सहित सभी शहर, बाजार शाम चार-पांच बजते-बजते बंद और शांत हो जाते हैं या यूं कहें कि मृतप्राय हो जाते हैं। यहंश तक की दवा की दुकानें भी बंद हो जाती हैं। सड़कों पर वाहनों का आना-जाना लगभग समाप्त सा हो जाता है। केवल इक्के-दुक्के  सरकारी-निजी वाहन ही चलते हैं। शाम होते ही शहर में सैनिक मोर्चा संभाल लेते हैं मानो कर्फ्यू लग गया हो। लम्बे समय से रह रहे बाहर और स्थानीय लोगों के अनुसार हालांकि, पहले ऐसा नहीं था। शाम सात-आठ बजे तक बाजार खुले रहते लेकिन, हालात  जैसे-जैसे बिगड़ने लगे वैसे-वैसे जीवन भी प्रभावित होने लगा। यही नहीं, बताते है कि पैसों की बढ़ती मांग और उत्पीड़न से तंग आकर कोहिमा से बड़े व्यापारी पलायन कर गये हैं। केवल छोटे व्यापारी ही रह गये।

      नागालैंड के इस शांत जिंदगी के बीच दीमापुर में थोड़ी लाइफ दिखी। बाजार और आवागमन कम से कम आठ-नौ बजे तक खुले रहते हैं। हालांकि बाजार पर कब्जा पूरी तरह से मैदानी क्षेत्र के लोगों का है। हांलाकि अब धीरे-धीरे नागा लोग भी व्यवसाय में आ रहे हैं। दीमापुर की संस्कृति मिली-जुली है। वजह यह है कि पहले असम का हिस्सा रहा है। इसके अलावा दीमापुर सड़क व वायु मार्ग से जुड़ा होने के कारण यहंश जीवन देखने को मिला जबकि यह भूमिगत संगठनों का केंद्र माना जाता है। केंद्र सरकार ने नागालैंड को अशांत व गड़बडी वाला क्षेत्र घोषित कर रखा है जिस वजह से सुरक्षाकर्मियों की विशेष निगाह सभी पर रहती है। लम्बे समय तक हिंसाग्रस्त रहे इस प्रदेश में स्वाभाविक था सुरक्षाकर्मियों के व्यवहार में खास तरह की ठसक। नागा मित्रों ने बताया कि हालात में अभी सुधार है वरना पहले वे पूछते तक नहीं थे। कई बार ऐसे मौके आये वाहन जांच के क्रम में आर्मी/विशेष पुलिस से दो चार होना पड़ा।

      खुबसूरत वादियों से घिरे अशांत नागालैंड में एक अजीब तरह की शांति हैं। यह शांत वातावरण एक अनहोनी का भी अहसास कराता रहता है। खुल कर कोई कुछ कहने की स्थिति में नहीं दिखा। ठहरी हुई जिंदगी में जब जीने की आदत सी हो रही थी, तभी दो तीन महीने बाद ही नवम्बर और दिसम्बर की कड़ाके की ठण्ड में एक नई उर्जा से भरपूर माहौल ने दिल को गरमा दिया। देर शाम तक हर ओर चहल पहल और लोगों में खास उत्साह झलकने लगा था। घरों और दुकानों की सजावटें मेरी उत्सुकता को रोक नहीं पायी और विचारों के अनुकूल मैंने खोजबीन शुरू कर दी। नागा मित्र हंसते और बताते दिसम्बर आने दो फिर देखना !

      सच, दिसम्बर में नगालैंड की खूबसूरती देखते ही बनी। शांत वातावरण और रात भर गीत संगीत के बीच थिरकते कदमों के उत्सवी माहौल ने मेरे सोच को बदलने पर मजबूर किया। नवम्बर के अंतिम सप्ताह से उत्सवी माहौल का नजारा दिखने लगा था और क्रिसमस के मद्देनजर दिसम्बर आते-आते पूरा नागालैंड लाल रंग की रोशनियों में सरोबर हो गया। नागाओं के साथ-साथ गैर नागा भी अपने अपने घरों के बाहर रोशनी वाले लाल स्टार सजाते, जो खासकर रात में टिमटिमाते जुगनुओं का आभास कराते थे। हमेशा की तरह देर शाम कार्यालय से लौटता तो मुहल्लों, सड़कों और नुक्कड़ों पर खास कर युवा जोड़े गर्मजोशी के साथ बतियाते-घुमते मिलते। गीत-संगीत में सराबोर इन जोड़ों को देख दुविधा होती क्या यह वही खौफजदा नागालैंड है ? नागा मित्रों ने बताया कि क्रिसमस आते-आते पूरा नागालैंड उत्साहित हो जाता है। यों, उत्सवी माहौल की शुरुआत क्रिसमस के पहले हॉर्नबिल फेस्टीवल से ही हो जाती है। जो हर वर्ष एक से पांच दिसम्बर तक शिकार की वजह से लुप्तप्राय: हो चले हॉर्नबिल पक्षी के प्रति जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से राजधानी कोहिमा में मनाया जाता है। हालांकि वर्ष २००४ से यह कोहिमा से लगभग पंद्रह किलोमीटर दूर खूबसूरत पर्यटन स्थल फेसमा में आयोजित होने लगा है। तीन बार वहां जाने का मौका मिला और एक प्लेटफार्म पर नागा संस्कृति का अदभूत समां बंधते देखा। नागा जनजाति के अपने-अपने पारंपरिक रिवाजों पहनावों के साथ नागा यहां जमा होते हैं। वास्तविक रूप से प्रदर्शित मोरूंग यानी परंपरागत घर पूरे आयोजन स्थल को नागा संस्कृति से इस तरह जोड़ देते थे मानो समूचा नागालैण्ड़ एक प्लेटफार्म पर सिमटा हो।

      यहां आने के बाद मौसम ने मुझे जितना प्रभावित किया उससे ज्यादा सांस्कृतिक माहौल ने मेरे अंदर एक उर्जा भर दी। यों, तो अपना देश सांस्कृतिक विरासत के लिए विश्वविख्यात है। त्योहारों-उत्सवों की यह भूमि है और हर धर्म के लोगों के आपसी एकता और सौहार्द्ध की मिसाल भी, जो हर समय मिलकर खुशियां बांटते हैं। ऐसे में ईसाई धर्म को अपना चुके जनजाति बाहुल्य वाला राज्य नागालैण्ड सांस्कृतिक विरासत के मामले में देश के अन्य भागों से बिल्कुल ही अनोखा है। खासकर इसके उत्सव, जो उनके पुरखों के दौर से चले आ रहे हैं, अनूठे हैं। यहां की विभिन्न जनजातियां सालों भर रंग-बिरंगे उत्सव मनाते रहते हैं। जिनमें उनकी संस्कृति की झलक मजबूती से दिखाई देती है। नागाओं के जीवन में ये उत्सव बड़े प्यारे है। लगभग हर महीने कोई-न-कोई त्योहार/उत्सव यहां मनाए ही जाते हैं। इसलिए नागालैंड को उत्सवों की धरती भी कहा जाता है।

      राज्य में १६ प्रमुख जनजातियां एवं कई उप जनजातियां हैं। इनकी पारम्परिक वेशभूषा व रहन-सहन की तरह इनके उत्सव / त्योहार भी अलग-अलग हैं। इनकी संस्कृति में कृषि की भूमिका बहुत मायने रखती है और यही वजह है कि इनके उत्सवों में भी इसका पुट मिलता है। फसल की बुआई से पहले या बाद में अच्छी फसल होने के लिए प्रार्थना हो या फिर फसल होने के बाद भगवान को धन्यवाद देने का अवसर, सभी उत्सव का रूप लेकर नागाओं के लिए उमंगे लाता है। हालांकि अलग-अलग उत्सवों में अलग-अलग नागा प्रजातियों की पारलौकिक भावनाएं, धार्मिक विधियां जुड़ी रहती है। फिर भी सभी में उसी परमात्मा ईश्वर की पूजा की जाती है, जिन्हें अलग-अलग नागा बोलियों में अलग-अलग नाम से जाना या बोला जाता है। चाहे वे कोन्यकों के गवांग हों या आओ के सूंगरेम या फिर सूमियों के अल्हो या तिमिल्हो। प्राय: सभी जनजातियों के उत्सवों में कुछ रस्में एक सी होती हैं, जैसे जानवरों की बलि और चावल से बनी विशेष शराब और मांस का समायोजन और नृत्य-संगीत की अहम् भूमिका। हांलाकि कई बार सामूहिक उत्सवों में शराब की जगह लाल चाय पिलायी जाती है। आओ जनजाति के उत्सव मोत्सू मोंग में जाने का मुझे मौका मिला। रंगा-रंग उत्सव एक बडे से मैदान में मनाया जा रहा था। मेरे लिए उत्सव का रोचक पहलू यह रहा कि इसमें शामिल सभी को बांस से बने कप में लाल चाय और सींक में लगी छोटे-छोटे पके मांस के टुकड़े लगा कर दिये जा रहे थे। सकोंच करते हुए मैंने मांस और चाय ले ली क्योंकि नहीं लेने पर अनादर समझा जाता है। खैर मैंने बांस से बनी कप में चाय पी और मांस पास में बैठे नागा मित्र को दे दिया। ईसाई धर्म अपनाने के बावजूद नागाओं ने अपनी सांस्कृतिक विरासत को नहीं छोड़ा है।

      कोहिमा पहुंचते ही जो चीज मुझे स्पष्ट दिखने, लुभाने लगी थी, वो था उनका पहनावा, रंग-बिरंगी वेश-भूषाएं, अहलेसुबह शुरू होती उनके रोजमर्रे की जिंदगी, सुबह-सुबह खुलते बाजार और काम पर निकलते आधुनिक दिखते युवकऱ्युवतियां, महिलाएं-पुरूष यानी कुल मिलाकर उनका दैनिक जीवन। एक ओर तो पाश्चात्य आधुनिक पोशाकों को मात देती लड़कियां तो दूसरी ओर पारंपरिक 'मेखला` में भी सुसज्जित। इसे मेखला कहते है यह तो खैर मैने बाद में जाना, पर यह एक शॉलनुमा वस्त्र है जिसे लोग कमर में लपेट कर पहनते है। इसके अलावा लोग यहां करघे से बुने शॉल ओढ़ते भी हैं। यूं तो सभी शॉल मुझे पहले एक से लगते थे पर बाद में पता चला कि अलग-अलग नागा जनजातियों और स्त्री-पुरूषों के पहनावे अलग-अलग होते हैं। जिस तरह नागालैंड का सांस्कृतिक माहौल विभिन्न जनजातियों के भिन्न रंगों से रंगा है, उसी तरह इनके पहनावे भी अलग-अलग हैं। शॉल उनका प्रमुख पहनावा है और इनके डिजाइनों से नागा जनजातियों का पता लगाया जा सकता है। शॉलों के अलावा उनके अन्य पारंपरिक वस्त्र अक्सर कौड़ियों से सजे होते हैं। हालांकि नागा जिस सहजता से पारंपरिक वस्त्र पहनते हैं उतने ही आराम से वे आधुनिक परिधानों में भी नजर आते हैं। बल्कि इस मामले में तो कोहिमा फैशन की नगरी मानी जाती है।

      इनका खानपान भी बड़ा रोचक है। एक दिन कोहिमा के सब्जी बाजार के किनारे जीव-जन्तु, तरह-तरह के रंग बिरंगे पिल्लुओं और कीड़े-मकौड़ों को बिकते देखा तो उत्सुकता बढ़ गयी। यहां ग्लास से नाप कर बिकते घोंघा मन में भ्रम पैदा कर रहे थे। लेकिन जब अपने पड़ोसी और उसके बच्चों को भात के साथ पकाया घोंघा खाते देखा तो बरबस ही बिहार-झारखंड और उड़ीसा की याद आयी जहंश समय-समय पर अखबारों में आदिवासियों को घोंघा खाते फोटो और समाचार छाप कर मीडिया उनके भूख और गरीबी को सामने लाती रहती है। पहली बार कोहिमा आने वालों को मैं वह बाजार जरूर दिखाने ले जाता था। इस बाजार का दिलचस्प नजारा होता है, पानी से भरे पॉलिथिन में बेचने के लिये रखे रंग-बिरंगे जिंदा मेढक या फिर एक साथ पांच-दस मेढ़कों के पैर आपस में बांधकर सड़क किनारे ग्राहकों के लिए रखा जाता था। मेढ़कों के आपसी खींचातान का नजारा देखने लायक रहता है, जब तक कि कोई ग्राहक खरीद न ले जाये। खानपान को लेकर कई बार उन्हें अलग नजरिये से देखा जाता है। कहते हैं कि वे 'कुछ` भी खा लेते हैं, खासकर मांस के मामले में। नागाओं के भोजन में कुत्ते का मांस सबसे प्रिय माना जाता है। वे बताते हैं कि मांस में यहंश कुत्ता, सुअर, गाय, मुर्गा, बकरा, मछली को क्रमवार पसंद किया जाता है। एक नागा मित्र ने बताया कि काले कुत्ते का मांस या सूप सेहत के लिये काफी फायदेमंद होता है। नागाओं को मांस के अलावा साग, पत्ते, स्क्वॉयस, नागा बैगन, बीन, पत्ता गोभी भी चाव से खाते देखा। हालांकि अब मैदानी क्षेत्रों में मिलने वाली सभी सब्जियां यहां मिलने लगी हैं। वैसे मैदानी भाग के लोगों के खाने-पीने की सभी चीजें आराम से उपलब्ध हो जाती हैं। खान-पान के मामले में नागालैंड बदल रहा है।

      नागालैंड में अगर सबसे ज्यादा किसी चीज की दुकान है तो वह है पान की। शायद ही कोई ऐसा हो जो पान नहीं खाता हो। लड़का हो या लड़की, या फिर महिला या पुरूष लगभग सभी खाते मिलते हैं। यही नहीं पान के साथ जरदा तो खाते ही हैं साथ में कच्चा सुपारी जिसे तामुल कहते हैं, खाते हैं। तामुल शरीर को काफी गरम करता है। देख कर आश्चर्य होता था कि तीन चार डिग्री के तापमान में जब वे तामुल खाते तो शरीर से तुरंत ही पसीना निकलने लगता था। इससे नशा भी जबरदस्त आता है। एक दिलचस्प बात यह भी देखने को मिला कि ज्यादातर पान के और अन्य दुकानों पर नागा महिला विक्रेता ही रहती हैं। सिर्फ दुकान ही नहीं यहां के जीवन में ज्यादातर महिलाएं ही सक्रिय नजर आयी । ऑफिस में भी महिलाकर्मियों की संख्या काफी है। पुरूष ज्यादातर टैक्सी ड्राइवर आदि का काम करते हैं। वैसे यहां महिलाओं का जीवन काफी कठिन है। ऑफिस, घर के काम काज, बच्चों को संभालने के अलावा खेतों पर भी वे ही काम करती दिखती हैं। और हां, एक बात तो बताना ही भूल गया कि दूर-दूर से पानी लाने का काम भी छोटे-छोटे बच्चों के साथ वे ही किया करती हैं, जब कभी सप्लाई वाटर की दिक्कत होती है। और ऐसा यहां अक्सर ही होता है। वो दिन जिंदगी में कभी नहीं भूल पाएंगे जब हमें कई दिनों तक करीब तीन सौ सीढ़ियां नीचे एक कुएं से पानी लाना पड़ा था।

      यहां सबसे बड़ी समस्या पानी की हैं। नियमित पानी नहीं मिल पाता है। सरकारी और निजी स्तर पर पानी की सप्लाई की जाती है। फिर भी कई बार कई दिनों तक पानी नहीं आता है। बरसात के दिनों में तो फिर भी ठीक है क्योंकि हर घर के टिन की छत पर से एक पाइप इस तरह से लगा होता है कि बारिस का पानी छतों से टघर कर नीचे घर में रखे ड्रम में इकट्ठा हो जाये। बारिस आते ही लोग खुश तो होते ही हैं, छतों के कोने से टपकने वाले पानी के नीचे बाल्टी लगाने की होड़ भी मच जाती है। पानी की एक-एक बूंद की कीमत का अंदाजा यहां आकर मालूम हुआ। खैर, मैं फिलहाल यहां के महिलाओं की बात कर रहा था ! यों तो हर जनजातीय समाज की तरह नागालैंड भी महिला प्रधान समाज कहा जाता है पर नजदीक से देखा तो पाया कि यहां भी महिलाओं पर पुरूष ही हावी हैं।

       नागाशलैंड ''ड्राई एरिया घोषित है। इसके बावजूद जब, जहंश चाहे, वहां शराब मिल जाती है। हालांकि नागा भूमिगत संगठनं समय-समय पर शराब और नशे से जुड़ी सामग्री जब्त कर उसे नष्ट करती रहती है। नशे की वजह से यहां का जीवन काफी प्रभावित हुआ है।नागालैंड का जीवन अन्य पहाड़ी राज्यों की तरह ही है। लेकिन कुछ मामलों में नहीं। यहाँ का जीवन आम मैदानी क्षेत्रों के तुलना में कठिन है। दीमापुर को छोड़ कर सभी शहरों में जीवन वैसा नहीं है जैसा कि गंगटोक, शिलौंग, शिमला का है। शाम चार-पांच बजते ही बाजार बंद होना शुरू होने लगता है। छह: बजे से पहले बाजार और वाहनों की आवाजाही बंद हो जाती हैं। केवल पुलिस / सुरक्षा बलों के वाहन और कुछ निजी वाहन ही चलते नजर आते हैं। कोहिमा सहित किसी भी प्रमुख शहर में मनोरंजन का कोई खास साधन नहीं हैं। सिनेमा हॉलों का पूर्णतया: अभाव है। कोहिमा सहित प्रमुख शहरों में वैसे वीडियो हॉल हैं जहां हिन्दी, अंग्रेजी फिल्में दिखायी जाती हैं। पर यहंश के बाजार की कई खासियतें हैं। विदेशी सामान और कपड़ों की भरमार तो है ही, एक बड़ी खासियत सेकेंड हैंड कपड़ों का है। करोंड़ों के टर्न ओवर वाला यह बाजार राज्य के कई शहरों में फुटपाथ से लेकर बड़े-बड़े मैदानों में लगा रहता है। गरीब हो या अमीर सभी तबके के लोग इन्हे खरीदते हैं।

विविधता वाले नागालैंड में सभी प्रमुख नागाओं की अपनी-अपनी बोलियां हैं। यहां एक भाषा बोली नहीं बोली जाती है। मजेदार बात यह है कि छोटे-छोटे क्षेत्रों में बंटे रहने वाले विभिन्न नागा जनजातियों की भी विभिन्न बोलियां हैं। एक नागा जनजाति दूसरे जनजाति की बोली नहीं के बराबर बोलते या समझते हैं। अलग-अलग बोलियों को जनजातियों के नाम से ही जाना जाता है। मसलन प्रमुख नागा जनजातियों में अंगामी, आओ, चाकेसांग, चांग, कोन्यक, लोथा, संगमत, सूमी, जेलिआंग, इमचूंगर, रेंग्मा, पोचूरी, कछारी, खियामनियूंगर, कूकी, फोम आदि की बोलियां इनकी जाति के नाम से ही जानी जाती है। एक दूसरे के बीच संवाद कायम रखने के लिए बंग्ला-असमिया को मिला कर ''नागामिज`` बनाया गया। हालांकि यह हिन्दी, बंग्ला, असमिया और नागा बोलियां का मिश्रण है। इसकी अपनी कोई लिपि या व्याकरण नहीं हैं। जहाँ तक हिन्दी का सवाल है तो नागालैण्ड में बखूबी समझी और बोली जाती है। भले ही लोग धाराप्रवाह नहीं बोलते, लेकिन बेहिचक हिन्दी बोलते हैं। हालांकि अंग्रेजी राजकाज की भाषा है। आकाशवाणी कोहिमा देश का इकलौता केंद्र है जहाँ से अंग्रेजी और नागामिज सहित प्रमुख चौदह जनजाति बोलियों में समाचार और अन्य कार्यक्रमों का प्रसारण रोजाना किया जाता है।

      जिस तरह नागालैंड की लोक संस्कृति, जीवन, भाषा आदि ने मुझे प्रभावित किया उसी तरह पूरब का स्वीट्जरलैंड के तौर पर जाना जाने वाले इस प्रदेश के खूबसूरत पर्यटन स्थलों ने भी। खूबसूरत जैफू चोटी, जंगली फूलों से भरी पड़ी रमणीय जकाउ घाटी, दुनिया का सबसे बड़ा रोडोडेन्ड्रान का पेड़, आर्किड की सैकड़ों प्रजातियां चित्ताकर्षक हैं, तो वहीं द्वितीय विश्व युद्ध के समय जापानी सेना से युद्ध के दौरान शहीद हुए अफसरों और जवानों की याद में कोहिमा में बना ''वार सिमेटरी`` इतिहास को संजोये है। इन्हें देखते ही इतिहास के पन्ने खुद ब खुद खुलने लगते हैं। यहां सालों भर आया जा सकता है। वैसे घूमने के लिए सर्वोत्तम समय अक्टूबर से मई महीना है।

कठिन और अशांत क्षेत्र घोषित नागालैंड लेकिन पूरी तरह शांति की चादर ओढ़े (भूमिगत गतिविधि को हटाकर) इस राज्य का चप्पा-चप्पा प्राकृतिक नजारों से पटा है। प्रमुख शहरों में दीमापुर, कोहिमा, मोकोकचुंग, मोन, फेक, त्वेनसांग, वोखा, जुन्हेबोटो मिल कर नागालैंड को खुबसूरत बनाते हैं।

      नागालैंड का एकमात्र रेलवे स्टेशन होने के कारण सबसे पहले दिमापुर शहर से मुलाकात हुई। दीमापुर, नागालैंड की व्यवसायिक राजधानी के रूप में जाना जाता है और यह राज्य का एक मात्र शहर है जो रेल, सड़क और हवाई मार्ग से देश के अन्य क्षेत्रों से जुड़ा है। इस कारण राज्य का द्वार भी कहते हैं। राजधानी कोहिमा से मात्र ७४ किलोमीटर दूर दीमापुर प्राचीन काल में कछारी राजवंश की राजधानी हुआ करता था। यहंश आज भी १३ वीं सदी की कई यादगार धरोहर कछारियों के शासन काल की याद को ताजा कर जाती हैं।   

       कोहिमा एक खुबसूरत हिल स्टेशन है। समुद्र सतह से  १४४४.१२ मीटर पर स्थित दीमापुर से प्रकृति का अद्भुत परिदृश्य देखते ही बनता है। दीमापुर से सड़क मार्ग हो कर आया जा सकता है। इसके लिए  ७४ किलोमीटर का रास्ता मनमोहक पहाड़ियों के बीच से होकर गुजरना एक अद्भुत अनुभूति का एहसास दिलाता है। प्रकृति का आंनद उठाने के लिए जगह जगह पर व्यू प्वाइंटस बने हैं। ठहरने के लिए ज्यादा तो नहीं लेकिन अच्छे होटल हैं। यहां का सबसे चर्चित विश्वविख्यात जगह ''वार सिमेटरी`` है। जो द्वितीय विश्व युद्ध के समय जापानी सेना के साथ युद्ध में शहीद अफसरों और जवानों की याद में बना है।''वार सिमेटरी`` शहीदों की याद में खूबसूरत तरीके से बने हरेक स्मारक के उपर सुनहरे अक्षरों में यादगार शब्द खुदे हैं, जिन्हें पढ़ना एक सुखद अहसास है।     पारंपरिक नागा जीवन शैली देखना हो तो, ''स्टेट म्यूजियम`` में एक ही जगह देखा जा सकता है। जनजातियों की रंगीन जीवन शैली, उनका इतिहास, संस्कृति, शस्त्र, पहनावा, रहन- सहन को एक ही छत के नीचे देखने की अनुभूति रोमांच पैदा करता है। वहीं, जैफू पहाडियों के बीच समुद्री सतह से २४३८ मीटर उपर जुकाउ घाटी जून से सितम्बर तक फूलों की मखमली दरी बिछा कर प्रकृति का अदभुत् नजारा पेश करती है। इसकी सर्पीली धाराएं सर्दियों में जम जाती हैं और सालोभर बांस के पेड़ों की हरियाली यूं होती है मानो हरी लॉन हो। प्रकृति के रोमांच का अद्भुत नजारा दिखता है। वहीं नागालैण्ड की दूसरी सबसे उंची चोटी 'जैफू` समुद्र सतह से ३०४८ मीटर उपर स्थित है। कोहिमा से करीब १५ किलोमीटर दक्षिण स्थित इस चोटी से सूर्योदय का अद्भुत नजारा देखते ही बनता है। गिनीज बुक में दर्ज विश्व का सबसे लम्बा रोडोडेन्ड्रान का पेड़ यहीं स्थित है, जिसकी उचंशई १३० फीट और आधार के पास चौड़ाई ११ फीट से भी ज्यादा है। प्रकृति के साथ ही साथ यहंश का वास्तुशिल्प भी अपने आप में अलग है। वर्ष १९७८ में निर्मित, समूचे उत्तर पूर्व का सबसे बड़ा कैथेड्रल चर्च कोहिमा शहर के महत्वपूर्ण पर्यटन स्थलों में से एक है।

      जीव-जंतुओं के चेहरे, सींग खुदे लकड़ी के दरवाजों वाले गेट तथा अन्य पारम्परिक सज्जाओं से स्वागत करता एशिया का सबसे बड़ा गांव कोहिमा विलेज शहर से ज्यादा दूर नहीं हैं। गांव में प्रवेश करने के लिये पारंपरिक दरवाजे से होकर गुजरना पडता है। साथ ही  नागालैण्ड के कई गांव भी दर्शनीय है। खोनोमा गांव कोहिमा से करीब २० किलोमीटर के फासले पर है। वहीं पास में मेजोमा गांव भी है। इन दोनों गांवों ने अंग्रेजों के सैनिक, सांस्कृतिक व धार्मिक आक्रमणों का कई वर्षों तक घोर संघर्ष किया था। राष्ट्रीय राजमार्ग ३९ पर स्थित जख्मा, किंग्वेमा, फेसमा गांव अपनी प्राचीन संस्कृति के लिये आज भी याद किये जाते हैं। ये गांव द्वितीय युद्ध में संघर्ष स्थल बन गये थे। उस समय की यादें आज भी वहंश देखने को मिलती है।     

      नागालैंड का मोकोकचुंग शहर आओ जनजाति बाहुल्य क्षेत्र है, जो राजधानी कोहिमा से १६२ किलोमीटर और समुद्र सतह से १३२५ मीटर  पर स्थित है। यहंश के टाउन पार्क से शहर का खूबसूरत नजारा देखने लायक होता है। मई और अगस्त महीने में आओ उत्सवों के कारण  शहर और भी रंगीन हो जाता है। यहां के लांगखुंग गांव से अरूणाचल प्रदेश स्थित हिमालय पर्वत श्रृंखला का नजारा देखा जा सकता है। शरीर पर टैटू गुदे कोन्यक जनजातियों के बाहुल्य वाले ''मोन`` शहर की प्राकृतिक खूबसूरती का भी कोई जबाव नहीं। मोन में पारंपरिक पहनावे और पंख से बने मुकुट पहने कोन्यक यहां यों ही दिख जाते हैं। कोन्यक बड़े कलाकार और हस्तशिल्प में माहिर माने जाते हैं। इनके काष्टकारी की  वस्तुएं ,दाउ, मुकुट, नेकेलेस आदि आर्कषक होते है जो एक ही नजर में भा जाते हैं। नागा मित्र ने बताया कि जिला के लांगवा गांव की खासियत यह है कि यहंश के अंघ :पारंपरिक मुखिया: के घर का एक हिस्सा भारत में हैं तो आधा हिस्सा म्यानमार में है।  जिले के वेदा चोटी से किसी साफ मौसम वाले दिन में बह्मपुत्रा और चिंदवीन नदी का नजारा एक साथ देखने का रोमांच अद्भुत है।

      रंगीन ऑर्किडों की बहुतायत वाला ''फेक`` जिला चाकेसांग और पोचूरियों का क्षेत्र है। यहंश पर विरले ट्रैगोपन पक्षियों का भी आवास है। समुद्र सतह से २१३४ मीटर की उचंशई पर स्थित फेक जिला का फूटजीरो शहर राज्य का सबसे उंचा और ठंडा जगह है जो हरी सब्जियों के लिये भी जाना जाता है। पदचिन्ह के आकार वाला यहां का सिलोई झील भारत और म्यंमार के सीमा के पास है, जिसकी खूबसूरती लोगों को अपनी ओर खींचती है। जिस तरह नागालैंड विभिन्न बोलियों और समुदाय के लिये एक छोटे भारत के तौर पर जाना जाता है, उसी तरह ''त्वेनसांग`` भी कई नागा जनजातियों का क्षेत्र होने के कारण छोटा नागालैंड के तौर पर जाना जाता है। नागालैंड का ''वोखा`` शहर लोथा जनजातियों वाला क्षेत्र है। यह कोहिमा से मात्र ८० किलोमीटर पर स्थित है। जिला के तीयी पर्वत के बारे में ऐसी धारणा है कि यह मृत आत्माओं का निवास स्थल है। यहां के पत्थरों में रंगीन रोडोडेन्ड्रान के पेड़ उगते हैं।

      ''जुन्हेबोटो`` सेमा जनजाति का क्षेत्र है। जो मार्शल आर्ट और युद्ध कौशल में पारंगत माने जाते हैं। यह कोहिमा से १५० किलोमीटर पर है। यहां का सतोई क्षेत्र जंगलों के लिये जाना जाता है। यह भी विरले ट्रैगोपन पक्षियों का प्राकृतिक वास और रोडोडेन्ड्रान का क्षेत्र है। ''जुन्हेबोटो`` के घोसू वर्ड सेन्चूरी में सितम्बर माह में अप्रवासी पक्षी बड़ी तादाद में आते हैं।नागालैंड की वास्तविक संस्कृति देखनी हो तो ''टूरिस्ट विलेज`` में जाना चाहिये। राज्य भर में चुने हुये कई गांवों में ''टूरिस्ट विलेज`` बनाया गया है, जहंश ठहरने के अलावे सभी सुख-सुविधा उपलब्ध रहती है।

      नागालैंड के जीवन के कई पहलू को करीब से देखने का मौका मिला और सभी ने अलग-अलग ढंग से प्रभावित किया। इनमें इनका धार्मिक महत्व भी शामिल है। धर्म और संस्कृति के संगम को एक साथ देखने की सुखद अनुभूति नागालैंड के गिरजाधरों में मिली। विभिन्न नागा जनजाति, प्रजाति और बोलियां की तरह, या यों कहें कि इसी कारण इनके चर्च भी अलग अलग हैं। चर्चो का नाम भी जनजातियों के नाम से जोड़ कर रखा गया है। मसलन ''आओ चर्च `` जहां आओ जनजाति के लोग ही प्रार्थना के लिये जाते हैं। यही वजह है कि पूरे राज्य में चर्चो की संख्या काफी है। अलग चर्च होने की वजह से  दो अलग अलग नगा जनजाति के बीच शादी होने से, बारी बारी से वे दोनों चर्च में शादी की रस्म अदा करते हैं। लगभग सभी गिरजाधरों में नागा समाज और संस्कृति से जुडें  तमाम पहलुओं को कलात्मकता के साथ रेखांकित किया गया है। चर्च में नागाओं के पारंपरिक चिन्ह के तौर पर भैंसे के सिर और पारंपरिक हथियारों की सजावट देखने को मिलती है।

      ऐसा भी नहीं हैं कि नागालैंड में केवल ईसाई धर्म से जुड़े पर्व-त्योहार ही मनाये जाते हैं या फिर केवल गिरजाधर ही हैं।  कोहिमा में दशहरा के दौरान दुर्गा पूजा बड़ी धूमधाम से मनायी जाती है। इस छोटे से शहर में चार-पांच मूर्तियां बैठायी जाती। इसमें नागाओं को भी उल्लास के साथ भाग लेते देखा। इसी तरह विश्वकर्मा पूजा में भी पूरा शहर सजा रहता। मंदिर, मजिस्द और गुरूद्वारा भी यहां है। गुरूनानक जयंती पर गुरूद्वारा में सिख भाईयों को उत्साह में सरोबर देखा तो मुसलमान भाईयों को ईद के दौरान मुसलमान परिवारों को कैथेड्रल चर्च के मैदान में पिकनिक मनाते देख एक सुखद अनुभूति हुई। शिक्षा के प्रति यहां लोगों में रूझान देखा। लेकिन पढ़ाई के मामले में लड़कियां, लड़कों से आगे हैं। जनजाति और पिछड़ा क्षेत्र होने के बावजूद लोगों को देश दुनिया की खबर पर नजर रखते हुये देखा। नागालैंड में हिन्दी अखबार प्रकाशित नहीं होता है, लेकिन कई राष्ट्रीय पत्र-पत्रिकाएं यहां आते हैं। ज्यादातर अंग्रेजी पत्र ही यहां छपा करते हैं। प्रमुख पत्रों में ''नागालैंड पोस्ट``, नार्थ ईस्ट हेरल्ड``, ''नागालैंड मिरर``, ''नागालैंड पेज`` और डाइलेक्ट समाचार पत्रों में ''चापी``, ''तेनीया रेलहा``,''आओ मिलन``,क्योग येथेन`` प्रमुख है। अधिकाशं समाचार पत्रों का प्रकाशन नागालैंड के व्यवसायिक शहर दीमापुर से होता है। कुछेक डाइलेक्ट पत्र ही राजधानी कोहिमा में छपते हंै।

      और आखिर में वह समय भी आया जब मेरा तबादला वापस पटना हो गया। आदेश मई २००४ में आया। पत्र पाकर जहां मैं खुश था वहीं यहां से जाने का दर्द भी सताने लगा। जहां नागा मित्रों को छोड़ने की बात से मन उदास हो उठता वहीं वापस अपने राज्य में जाने की कवायद के बीच उदास मन में एक उत्साह भी आता रहा । मेरे तबादले से कई नागा मित्रों को अच्छा नहीं लगा, लम्बे समय से उनके बीच रहने का भावनात्मक लगाव स्पष्ट था ।

      हालांकि नागालैंड के बारे में जो भी भ्रम मेरे अंदर था वह दूर हो गया था। खैर, जाने की तैयारी शुरू हो गई। पत्नी ज्यादा खुश थी। करीब तीन साल तक नागालैंड में मेरे साथ उसने भी बिताया था उसे बस एक ही बात सताती थी कि यहां पर लाइफ नहीं हैंं। और मुख्यधारा से कटे रहने की वजह से सारी चीजें यहां बासी हो जाती थी। एक बात और पूर्वोत्तर राज्यों में दूर दराज में रहने वालों के साथ एक बड़ी समस्या है कि यात्रा शिचनत होते हुए भी अनिश्चितता बनी रहती है। कब आंदोलनकारियों का अनिश्चितकालीन बंद ऐलान हो जाय या फिर किसी न किसी कारण से रास्ते बंद हो जाये। तब घर आना-जाना मुश्किल हो जाता है। खास कर इमरजेंसी के समय। मेरे साथ भी कई बार ऐसा हुआ, कि टिकट रद्द करवानी पड़ी। बहरहाल, मैं वापसी की चर्चा कर रहा था। क्योंकि नागालैंड की वापसी ने मेरे दिलो दिमाग पर असर छोड़ा। कुछ तकनीकी कारणों से मेरी वापसी सितम्बर २००४ के अंतिम सप्ताह में संभव हो पायी। आने के क्रम में गैर नागा मित्रों ने जहां स्नेह से विदा किया वहीं नागा मित्रों ने भावुकता के साथ पूरा सम्मान देते हुए गिले शिकवे भूलने का अनुरोध करते हुए विदा किया। मुझे घर वापसी की खुशी हो रही थी वहीं नागा मित्रों से बिछुड़ने का दर्द भी सता रहा था।     

 

प्रस्तुति - संजय कुमार  

Top

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com