मुखपृष्ठ  कहानीकविता | कार्टून कार्यशालाकैशोर्यचित्र-लेख |  दृष्टिकोणनृत्यनिबन्धदेस-परदेसपरिवार | फीचर | बच्चों की दुनियाभक्ति-काल धर्मरसोईलेखकव्यक्तित्वव्यंग्यविविधा |   संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

पिरामिडों के पार

हम कुवैत मे रहनेवालों को दिसंबर जनवरी के सुहावने मौसम में छुट्टी के दिन समन्दर किनारे बैठे पिकनिक मनाने में मजा आता हैऐसे ही एक छुट्टी का दिन हमारे घरेलू मित्र परिवार के साथ मनाया जा रहा थापिकनिक का मजा  लेते हुए बात चली  कहीं घूमने की और सोचते सोचते इजिप्ट का नाम सामने आया सभी पिरॅमिड के नामसे उछल पडे देखते  देखते वहीं प्रोग्राम बन गयाएक  हफ्ते के लिये जाना तय हुआ

 

लक्सर टेम्पल के सामने लेखिका अपने पति विकास जोशी के साथ

हम अपने एक मित्र परिवार के साथ छुट्टीका इन्तजाम करके महीने भर में इजिप्ट के लिये रवाना हो गयेइतिहास  में दिलचस्पी रखने वाले मेरे पतिदेव ज़रा ज्यादा ही खुश थेसबकी सुविधा से प्रोग्राम बनाया गया इजिप्ट का वीसा यहीं कुवैत में मिलासबसे  पहले लक्सर पहुँचेहवाई जहाज से  उतरते ही पता चला कि इजिप्ट समृध्द देश नहीं हैंइजिप्ट याने रेगिस्तान, लेकिन नाइल नदी के कारण हरा भरा भी हैं

हाँ हरियाली की गोद से निकलते छोटे छोटे झरने देख के दिल खुश हो गयासबसे पहेले कारनाक और लक्सर मन्दिर देखने गयेडॉ रगब म्यूजियम नाइल नदी में बोट पर बनाया गया हैइजिप्ट की खासियत पपायरस  नाम के पौधे से बने पेपर पर किया गया पेन्टिग हैअसली पेन्टिग इस म्यूजियम से खरीदे जा सकते है 

 


मिस्र के पिरामिड

dUसरे  दिन राजे रामसेस और तुतनखामन के मकबरे देखने गयेतुतनखामन एक रामसेस का बेटा था जो बहुत ही कम उम्र में गुजर गयासुननेमें जरा अटपटा सा लगता हैं लेकिन  उस जमाने में राजे महाराजे पहेले से ही अपने मरने के बाद की तैयारी कर के रखते थे इसलिये जितना राजा बडा उतना पिरॅमिड बडा सबकी ममीयां हां पहले रखी हुई थी जो अब कैरो म्यूजियम में रखी हैंरानी नेफ्रेतीती के मकबरे में सीधे जानेकी इजाजत तब भी नहीं थी आज भी नहीं है

अवशेष में बचा हुआ 4000 साल पुराना मजदूर लोगों का गाँव भी देखने लायक हैं उससे उनके रहन सहन का अंदाजा लगाया जा सकता है

कैरो इजिप्ट की राजधानी का शहर होनेसे अच्छा हैंकैरो की खासियत वहां का म्यूजियम हैं। काँच की पेटी में बन्द ममी देखने में जरा अजीब लगती है लेकिन आज इक्कीसवी सदी में पहुंचे हुए हम लोगों को उस जमाने के ममी बनाने के नुस्खों को भी मानने के लिये मजबूर होना पडता हैतुतनखामन की ममी के लिये बनाया गया करीब 100 किलो सोनेका कवच और सोने दूसरी कई सारी चीजें यहां रखी हैंढेरों पुरानी चीज़ों से म्यूजियम को सजाया गया है

नाइल नदी को पार करके गीझा में पिरॅमिड हैंविश्व के सात अजूबों में से एक के सामने हम खडे थे इस पर यकीन करना नामुमकिन सा लग रहा थाकितने भव्य! कितने दिव्य! रेतमें थोडा  मज़ा ऊँट की सवारी का लेकर आखिरकार हम पिरॅमिड के बगलमें पहुंच ही गयेहां सबसे बडा पिरामिड 460 फूट ऊंचा हैंअन्दर जानेका रास्ता जरा मुश्किल सा है4फुट की ऊंचाई होनेसे झुक के जाना पडता हैऊपर बडा सा कमरा है वहां ममी रखी गयी होगी

अब आयी स्फिंक्स की बारी कहते है स्फिंक्स को पिरामिडों की रक्षा के लिये मनुष्य के चेहरे और शेर के शरीर वाले एक बलवान पहरेदार के रूप में बनाया गया होगालक्सर में कारनाक मन्दिर और कैरो में पिरॅमिड स्फिंक्स के पास होनेवाला लाइट साऊंड शो अप्रतिम हैआधुनिक तकनीक की लेसर किरणों से वहां का इतिहास समझाने का तरीका और भी लुभावना है
 

जब इजिप्ट जाते हैं तो डा रगब का फेरॉनिक विलेज भी देखना जरूरी सा हो जाता हैनाइल नदी पर ही बनाया हुआ यह गाँव बोट में घूमके देखना होता हैयह गाँव उस समय खेती कैसे की जाती थीममी बनाने की पध्दति, पिरॅमिड कैसे बनायें गये होंगे इसकी जानकारी के बारेमें काफी कुछ कह जाता हैं

इजिप्ट के आखरी पडाव में हमें नाइल नदी में होनेवाली रात की बोट की सफारी पर जाना थाइस सफर का मजा वहां के बैंड और साथ में नाचनेवाली बेली डान्सर से ही है

देखते देखते एक हफ्ता कैसे बीत गया पता ही नहीं चला। हँसी खुशी और इजिप्ट की लाजवाब यादें साथ लिये हम कुवैत वापस पहुँच तो गये लेकिन याद करके सोचते हुए उस अजूबे पिरॅमिड के पास मैं कब पहुँच जाती हूं पता ही नहीं चलता

- दीपिका जोशी
मई 17 , 2000

 

Top 
 

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com