मुखपृष्ठ  कहानीकविता | कार्टून कार्यशालाकैशोर्यचित्र-लेख |  दृष्टिकोणनृत्यनिबन्धदेस-परदेसपरिवार | फीचर | बच्चों की दुनियाभक्ति-काल धर्मरसोईलेखकव्यक्तित्वव्यंग्यविविधा |   संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

रूकना रोम में 

हम घर से एक सेमीनार के लिये निकले थे जो मिलान के पास कबेला नाम के गांव में होना थाइटली में रोम हमारा पहला पडाव था और साथियों ने जब कहा कि रोम में आकर प्राचीन सभ्यता के धनी एक भारतीय को इस नगरी की सांस्कृतिक संपदा के दर्शन किये बिना नहीं जाना चाहिये तो हम तीन दिनों के लिये रोम के हो लिये

 

इतिहास को पुनर्जन्म देते रोम के चौराहे

अगर मुझे अपनी रोम यात्रा को एक वाक्य में समेटना पडे तो मैं कहूंगी कि मैने इतिहास को पुर्नजन्म लेते हुए देखा हैलगभग पचीस साल पहले मैने जिस यूरोप का इतिहास पढा था, वह जैसा का तैसा चलचित्र के फ्रेमों की तरह आंखों के सामने था

अगर आप भी इतिहास में पीछे जाना चाहते हैं तो लोगों से अपनी नजर परे रखते हुए रोम की सडक़ दर सडक़ चहल कदमी से बेहतर कुछ नहीं

रोम का रोमांच ही ऐसा है पुनर्जागरण युग की इमारतें, कलात्मक पाषाणी मूर्तियां, जीवन्त चौराहे, कला-स्थापत्य-इतिहास और मदमस्त करने वाले भोजन की सुगंध से परिपूर्ण रोम को अपने में समेट पाना मुश्किल सा लगता है

स्मारकों संग्रहालयों महलों चर्चो और कथीड्रलों का यह शहर कई शताब्दियों बाद आज भी वैसा ही हैचाहे वह पियात्सा वेनेसिया हो जो रोम का प्रमुख चौराहा है या फिर रोमन फोरम के प्रचीन खंडहर! तारीफ करनी होगी रोम वासियों की जिन्होंने इतने प्यार से अपना शहर सहेजा है कि वक्त की आंच इसे छू तक नहीं पाई है

पैनेथियोन को ही लीजिये यह रोमनों का सबसे प्रसिध्द और पुराना स्मारक हैईसा से 27 वर्ष पूर्व बने इस स्मारक को 608वीं सदी में एक चर्च के रूप में परिवर्तित कर दिया गयासौन्दर्य की दृष्टि से अपूर्व इस इमारत में महान कलाकार राफेल और इमानुएल चिरनिद्रा में सोए हुए हैंयह बेहतरीन इमारत अपने रखरखाव मरम्मत और पुनरूध्दार के कारण आज भी जैसी की तैसी है

कैटाकोम्बस की डरावनी भूमिगत गैलरियां जहां प्राचीन रोमन शवों को दफना कर सुरक्षित रखते थे या फिर कैलोसियम नाम से जाना जाने वाला वह भव्य स्टेडियम जिसे हमने अनेक विदेशी फिल्मों में देखा है आज भी शान से सिर उठाए अपनी अविस्मरणीय आभा के साथ खडे हुए हैं इसकी खूबसूरत प्रकाश व्यवस्था में नहाती रोम की मध्दम रोशनी और सिगरेट के धुएं में धीरे धीरे गरमाती रात किसी छायावादी युग की कहानी सी महसूस होती है

बारिश का एक तेज झोंका आकर निकल गयामामा मिया! हमारा सुदर्शन युवक गाइड फ्रांसेस्का खुशी से चिल्लायामैने अपने ब्रांको डयलेटर का एक गहरा पफ लियाकितनी सिगरेट पीते हैं ये रोमवासी! अपने इनहेलर के बावजूद हर जगह दम घुटता सा महसूस होता थारोम के रग रग में सिगरेट का धुआं समाया हुआ है जादातर जगहों पर स्मोकिंग एरिया और नॉन समोकिंग एरिया न तो अलग है और न बहुत दूर!

बिना फव्वारों के रोम की कहानी पूरी नहीं होती खासतौर पर त्रेवी के बिनावही त्रेवी जहां आप दाहिने हाथ से बाएं कंधे के ऊपर सिक्का उछालते हैं रोम में फिर से आने के लियेअनेक लोक कथाओं की पृष्ठभूमि यह फव्वारा अपनी कलात्मक मूर्तियों और सफेद संगमरमर के लिये प्रसिध्द हैहम तस्वीरें खीचने के लिये थोडी देर को अपने दिग्दर्शक दल के साथ बस के बाहर थे

अगर आप देर शाम यहां पहुंचे हों तो गलियों के भीतर अटे खूबसूरती के इस टुकडे पर बेहतरीन रोशनी की महीन चादर से झरते पानी की मोहक धुन, गलियों से उठती खाने की खुशबू, सैलानियों की गहमागहमी और इतालवी भाषा की मिठास इसे आपके जीवन का एक अविस्मरणीय पल बना देगीआप यहां बैठ कर दुनियां भूल सकते हैं - हम अपनी बस और यात्रा टोली भूल गये


त्रेवी- आप यहां बैठ कर दुनियां भूल सकते हैं,
हम अपनी बस और यात्रा टोली भूल गये।

इटली में अंग्रेजी बोलने-समझने वाला ढूंढ पाना बहुत मुश्किल हैहम उस दिन देर रात अपने होटल के कमरे तक कैसे पहुंचे वह एक अलग रोमांचक कहानी है

रोम की गलियां और इसके चौक रोम की आत्मा हैंफव्वारों, पत्थर की जानदार मूर्तियों खाने पीने गाने बजाने और प्रेमी जोडों से भरे इन जीवन्त चौराहों को इतालवी लोग पियात्जा कहते हैंगुनगुनी दोपहर और रंगीन शाम को यहां की आवारा हवा व अलसाए मौसम का आनंद हमने पैदल घूम कर उठायासडक़ दर सडक़, गली दर गली पदचापों के साथ रोम आपकी रगों में समाने लगता हैवे छोटे छोटे अविस्मरणीय दृष्य हमारे फोटो अलबम की अमूल्य निधि हैं

रोम कैथोलिकों का तीर्थ स्थल है और वेटिकन सिटी के बिना रोम की यात्रा अधूरी सी हैलेकिन वैटिकन अपने आप में एक सम्पूर्ण शहर हैधर्म इतिहास कला और कलाकारों की नगरीअनुभव के उस एक सम्पूर्ण टुकडे क़ो यहां एक अनुच्छेद में समेटना अन्याय होगा

बिना खाने पीने के किसी यात्रा का मजा नहीं है और अगर आप इतालवी खाने के शौकीन हैं तो पिजा, पास्ता, स्पेगेटी, रिसोतो और अनेक प्रकार के ड्रिंक्स की अनगिनत किस्में यहां मौजूद हैंतीन दिनों में हमने अनेक नये व्यंजनों के नाम सीखे और उनके स्वाद का मजा लिया

अगर आप महिला हैं तो बिना खरीदारी के यात्रा पूरी नहीं कर सकतींखास तौर पर कुछ छोटी यादगार चीजों केअगर आप कलाप्रेमी हैं तो रोम किसी स्वर्ग से कम नहींचित्र, मूर्तियां, मुखौटे, मोजेक़, वाल हैंगिंग, सजावटी सामान _ सबकुछ आप हर तरह के दाम में खरीद सकते हैंऔर यकीन मानिये उन सब में कारीगरों के नाम पिकासो, मोनेट, राफेल और माइकलेंजलो ही होंगेनिश्चित रूप से वे ऐतिहासिक कलाकार नहीं हैं पर आज भी रोम में यही नाम लोकप्रिय हैं

इटली मूंगे और एगेट पर हाथ से उत्कीर्ण कारीगरी के लिये प्रसिध्द हैअगर आप डिजायनर गहनों के शौकीन हैं तो रोम इनकी खरीदारी के लिये उपयुक्त जगह है

रोम एक प्राचीन नगर है लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि यहां नया कुछ नहीं हैरोम की प्राचीनता में नवीनता का सुंदर समन्वय हुआ हैयहां के हेन्ड्रेक किस्चियन एंडरसन म्यूजियम में प्राचीन और नवीन कलाकृतियों की अनेक दीर्घाएं हैं जो दोनों युगों के अनेक कलाकारों को जोडती हैंविला बोर्गीज ज़ो रोम का सबसे सुंदर पार्क हैवहां की ट्राम और 'जे बसें, बांगला देशियों की छोटी दूकानें, खाने पीने के रंगीन नुक्कड र तराशे हुए चेहरों वाले सुंदर इतालवियों के आधुनिक परिधान आपके इतिहास को रबर की तरह खीच कर वर्तमान से जोड देते हैं

तीन दिन तीन पल की तरह गुजर गयेरोम में रूकने का समय कैसे पूरा हो गया पता ही नहीं चलाप्रस्थान का समय आगयापतिदेव मुझे जल्दी उठाते हैंब्रेक फास्ट का समय निकला जा रहा है हमें फ्लोरेंस की ट्रेन पकडनी है  ..वीवा ला रोम, ग्रेशिया  ....अल्विदा  .....चाओ हम अगले पडाव की ओर बढ चले

पूर्णिमा वर्मन
सितम्बर
1 2000

Top
 

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com