मुखपृष्ठ  कहानीकविता | कार्टून कार्यशालाकैशोर्यचित्र-लेख |  दृष्टिकोणनृत्यनिबन्धदेस-परदेसपरिवार | फीचर | बच्चों की दुनियाभक्ति-काल धर्मरसोईलेखकव्यक्तित्वव्यंग्यविविधा |   संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 

स्वाध्याय - एक क्रांति
   
 

स्वाध्याय के प्रणेता श्री पान्डुरन्ग शास्त्री आठवले, स्वाध्याय अर्थात जीवन जीने का सही तरीका, आज के भोग में लिप्त, पशुतुल्य बने जीवन तथा मानव जीवन में अंतर समझानें वाली, बैठे को खडा करनें वाली, खडे क़ो चलानें वाली, चलते को दौडानें वाली श्रीमद भगवतगीता के विचार जो कहती है

मुफ्त में लूंगा नहीं जीवन से लाचारी का नाश
 कभी निराश
बनूंगा नहीं
 लघुग्रंथि
रखूंगा नहीं
 कार्य करनें की शक्ति तुझमें है, कार्य करता जा पुकारता जा मदद तैयार है

 विश्वास
गवांउगां नहीं

क्या कभी हमने सोचा है, किसने हमे बनाया, कौन हमें सुलाता है, कौन हमारे बीते दिन की यादों को बनाये रखता है, कौन हमारे रक्त को बनाता है ऌन तमाम सवालों का एक ही जवाब है जरूर कोई शक्ति सतत कार्यरत है इस दुनिया में जो एक माँ की तरह अपनें बच्चों का अर्थात हमारा सतत ख्याल रखती है इस शक्ति को हम कहते है भगवान हमारे लिए इतना कुछ करने वाले भगवान के लिए हम क्या करते है, यह चेतना हमारे अंदर जगा कर, उस भगवान के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने के कई सोपान स्वाध्याय नें हमे दिए हैं उनमें से एक है

त्रिकाल संध्या - जो कहती है दिन में सिर्फ तीन बार भगवान को याद करना

सुबह उठने के बाद , दोपहर को भोजन के समय और रात को सोने से पहले । तीनों कालों के लिए स्वाध्याय ने हमें अलग अलग तीन मंत्र दिए है।

सुबह उठने के बाद :

1.      कराग्रे वसते लक्ष्मी, करमूले सरस्वती
करमध्ये तू गोविंद प्रभाते कर दर्शनं


हमारे हाथ के अग्र भाग में लक्ष्मी, तथा हाथ के मूल मे सरस्वती का वास है अर्थात भगवान ने हमारे हाथों में इतनी ताकत दे रखी है,ज़िसके बल पर हम धन अर्थात लक्ष्मी अर्जित करतें हैं
जिसके बल पर हम विद्या  सरस्वती  प्राप्त करतें हैंइतना ही नहीं सरस्वती तथा लक्ष्मी जो हम अर्जित करते हैं, उनका समन्वय स्थापित करने के लिए प्रभू स्वयं हाथ के मध्य में बैठे हैं। ऐसे में क्यों न सुबह अपनें हाथ के दर्शन कर प्रभू की दी हुई ताकत का अहसास करते हुए तथा प्रभू के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करते हुए दिन की अच्छी शुरूवात करें

 

2.     समुद्रवसने देवि पर्वतस्तन मंडले
विष्णुपत्नि नमस्तुभ्यं पादस्पशं क्षमस्व में।


इस श्लोक के अंर्तगत धरती
माँ से माफी की याचना की गई है कहा गया है, हे धरती माँ मै ना जाने कितने पाप कर रहा हूँ तुझ पर, रोज मैं तेरे उपर चलता हूँ, तुझे मेरे चरणों का स्पर्श होता है, फ़िर भी तू मुझ जैसों का बोझ उठाती है अतः तू मुझे माफ कर दे। यहां धरती माँ को बिष्णु की पत्नि कहा गया है

 

3.     वसुदेव सुतं देवं ,कंस चारूण मर्दनं
देवकी परमानंदं, कृष्णं वंदे जगतगुरूं।


वसुदेव के पुत्र, कंस तथा चारूण का मर्दन करने वाले, देवकी के लाल , भगवान श्रीकृष्ण ही इस जगत के गुरू हैं
उन्हें कोटि कोटि प्रणाम

दोपहर के खाने के समयः

       यज्ञशिष्टाशिनः संतो मुच्च्यंते सर्वकिल्बिषैः ।
भुञ्जते ते त्वधं पापा ये पचन्त्यात्मकारणात ।।
यत्करोषि यदश्नासि यज्जुहोषि ददासि यत ।
यत्तपस्यसि कौन्तेय तत्कुरूष्व मदर्पणम ।।
अहं वैश्वानरो भूत्वा प्राणिनां देहमाश्रितः ।
प्राणापानसमायुक्तः पचाम्यान्नं चतुविधम ।।
ॐ सह नाववतु सह नव भुनक्तु सह वीर्यं करवावहै ।
तेजस्वि नावधीतमस्तु मा विध्दिषावहै ।।
ॐ शांतिः शांतिः शांतिः ।।

यज्ञशिष्ट याने यज्ञ से देवों को समर्पण करके बाकी बचा हुआ उपभोगने वाला सज्जन सभी पापों से मुक्त होता है, जो केवल अपने लिए ही स्वार्थ सिध्दि से अन्न पकाता है वह पाप का अन्न भक्षण करता है हे अर्जुन तू जो जो कर्म करेगा, जो जो सेवन, जो जो हवन करेगा, जो जो देगा अथवा जो जो तप याने व्रताचरण करेगा वह सभी मुझे परमेश्वर को अर्पण कर मै परमात्मा अग्निरूप और सभी प्राणियों के आश्रय से प्राण, अपान वगैरह आयुओं से युक्त होकर चतुर्विद्य खाद्य, पेय, लेह्य, और चौष्य अन्न पचाता हूँ। हे परमात्मन् हम दोनो का गुरू तथा शिष्य का बराबर रक्षण कर, हम दोनों ही समान बल प्राप्त करें, हम दोनो में परस्पर द्वेष न हो हम दोनो की अध्ययन की हुई विद्या तेजस्वी रहे हमारे सभी संतापों की निवृत्ति होने दो

हमें भगवान की कृपा से अन्न मिलता है पकाने वाला या उगाने वाला भले कोई भी हो, तो भी उसके पीछे भगवान की ही कृपा होती है हम कहते हैं कि किसान बीज बोते हैं और तब अन्न मिलता है, लेकिन प्रथम बीज कहाँ से आया खेत में चार दानें बोनें के बाद चार हजार दाने बनाने मे किसान की कौन सी शक्ति काम मे आयी जो जीव को जन्म देता ह,ै वही उसके पोषण की चिंता करता है जिसने दांत दिये उसी ने दानें दिये अरे, उस करूणानिधि नें अपने शरीर की रचना भी कैसे की है ज्वार बाजरे की रोटी खायें या गेहूँ की रोटी खायें सभी का खून लाल ही बनता है खाने के बाद अन्न किस प्रकार पचता है, इसकी चिंता कौन करता है अन्नरस खून में मिलकर सतत् शक्तिप्रदान करता है, इतना ही हम जानते हैं बडे बडे वैज्ञानिक भी विविध पदार्थों से एक ही रसायन नही बना पाते है ऌसीलिए इस अदृश्य शक्ति को जिसने हमारे लिए अन्न उगाया और् हमारा खाया हुया पचाया, लाल खून बनाया है, उसे खाते समय कृतज्ञतार्पूवक नमस्कार करना ही हमारी संस्कृती का आदेश है खाना खाते समय भगवान को याद करना ही चाहिए

भोजन सिर्फ उदर भरण ही नहीं है वह एक यज्ञकर्म है सभी यज्ञों का स्वामी और भोक्ता भगवान ही है

क्रमशः

- धीरेन्द्र मिश्र
सितम्बर 9, 2001

यह सारी बातें स्वाध्याय के प्रणेता परमपूज्य पांडुरंग शास्त्री जिन्हें स्वाध्याय परिवार प्यार से दादाजी कहता है, के प्रवचनों पर आधारित है

Top  
 

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com