मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | फीचर | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home |  Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

You can search the entire site of HindiNest.com and also pages from the Web

Google
 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 

अन्तर्वेदना 

एक समय की बात है राजा रणतूर्य कीर्तिनगर के राजा थे शासन का कामकाज सुचारू रूप से चल रहा था सारी प्रजा ऐसा राजा पाकर धन्य धन्य हो गयी थी किसी को किसी प्रकार की शिकायत नहीं थी न्ग्गर सेठ श्रीधर राजा के घनिष्ठ मित्र थे मित्रता भी ऐसी कि दोनों जगने के बाद जो मिलते तो रात सोने के समय ही अलग होते थेएक दूसरे के बिना दोनों को चैन नहीं था सेठ का बडा बेटा बहुत ही होनहार था उसने सारा कारोबार सम्भाल लिया था सेठ जी के पास अब अपने मित्र के लिये पूरा समय था राजा भी सेठ श्रीधर को अपना पूर्ण सहयोगी मानते थे यहाँ तक कि राज काज के कामों में भी सेठ का सलाह मशविरा लिया करते थे अगर एक दिन किसी कारणवश नहीं मिल पाते तो दोनों ही एक दूसरे को खोजने निकल पडतेकई बार तो ऐसे अवसरों पर दोनों एक दूसरे को खोजने में रास्ते में ही मिल जाते फिर दोनों खुब हँसते राज्य में इस दोस्ती की चर्चा सर्वत्र थी समय गुजरता रहा

राजा और सेठ श्रीधर दोनों ही उम्र के तीसरे पडाव पर थे मिलने मिलाने का सिलसिला उसी प्रकार चल रहा था गर्मी का मौसम जाने को था और आकाश में बादल के पहाडों का तैरना शुरू हो गया था ऐसे ही एक सुहावने मौसम में सेठ राज दरबार में पधारे। प्रत्येक दिन की भांति आज भी वे राजा के बगल में विराजमान हो गएपर आश्चर्य, राजा ने उनकी तरफ देखा तो जरूर मगर कुछ बोले नहीं श्रीधर भी चुपचाप बैठे रहे राजदरबार चलता रहा शाम हो गयी सारे दरबारी अपने अपने घरों को चल पडे महाराज की चुप्पी सेठ श्रीधर के लिए असह्य थी

वे भी चलने को हुए तभी राजा ने कहा ''कहां चल दिए चलो कहीं चलकर बैठते हैं''

सेठ जी रूक गये फिर दोनों घूमने निकल पडेपर दोनों ही रोज की तरह सहज नहीं हो पा रहे थे थोडी बहुत बातें हुयींपर एक चुभन सी दोनों को ही टीस रही थी जो अव्यक्त होते हुए भी स्पष्ट था इसी तरह रात हो गयी दोनों ही सोने के लिये अपने अपने घरों को चल दिए

सुबह हुयी रोज की तरह राजा और सेठ मिलते पर अब पहले वाली बात नहीं रही दोनों मिलते जरूर परंतु पहले जैसी आत्मीयता वाली बात अब न रही दोनों ही इस बदलाव से दुखी थेजब अलग होते तो एक दूसरे से मिलने की इच्छा होती पर मिलने पर एक अव्यक्त दूरी दीवार बनकर पहले से ही खडी मिलतीआग दोनों तरफ लगी थी कि आखिर बात क्या है पास रहकर भी यह दूरी असह्य हो रही थी सेठ तो कुछ ठीक भी थे पर राजा को अचानक न जाने क्या हो गया कि श्रीधर का चेहरा देखते ही बेचैनी सी महसूस होने लगती उनकी इच्छा होती कि इसे फौरन देशनिकाला की आज्ञा दे दूं फिर सोचते कि आखिर सजा किस बात कीपर इस मनः अन्तर्वेदना की पीडा असह्य होती जा रही थी घुटन सीमाएं लांघने को बेताब थी

एक दिन राजा ने सोचा क्यों न श्रीधर से इस बारे में बात की जायउस दिन जैसे ही सेठ श्रीधर राजदरबार पहुंचे राजा उन्हें अपने शयनकक्ष में ले गए फिर अपनी पूरी पीडा कह सुनायी श्रीधर ने भी स्वीकार किया कि वह भी इस बदलाव से काफी दुखी है इसका निदान क्या हैयह जानने के लिए दोनों ही मित्र राजगुरू के पास पहुंचे

राजगुरू दोनों की समस्या सुनकर गंभीर हो गए कुछ क्षण पश्चात उन्होंने कहा -

मानव के अन्तर्मन में अच्छी व बुरी दो तरह की भावनाएं सदैव तरंगित होती रहती हैं और जब दो मनुष्य आपस में अच्छी भावना से करीब आते हैं तो भावनात्मक सबंधों के मिश्रण से प्रेम की एक अनवरत बहने वाली सरिता का प्रस्फुटन होता है समाज इस अदृश्य सरिता को प्रेम कहता है चूंकि भावनाओं के अपने शब्द नहीं होते अतः इसे व्यक्त होने के लिए भाषा का सहारा लेना पडता हैकई बार गलत भावनाओं को मनुष्य द्वारा भाषा का परिधान न दे पाने के वजह से वे जान बूझकर नंगी दबा दी जाती हैं मनुष्य इन्हें दबा तो देता है पर इन दमित कुंठाओं का रस प्रेम सरिता में घुलकर बहना शुरू हो जाता हैऔर यह अदृश्य रस पावन सरिता को भी कुंठित कर आप लोगों जैसी स्थिति उत्पन्न करता है

अतः आप लोगों के इस प्रेम में ऐसी ही दमित दुर्भावना समाविष्ट हो गयी है जिस कारण आपके इस प्रगाढ प्रेम में भी अन्तर्वेदना अंकुरित हो जाती है

अब आप दोनों ही अपने अपने मन में अपने घुटन का कारण ढूंढो। अगर न ढूंढ सके तो इसका निदान असंभव है

राजा और सेठ दोनों ही सोचने लगे

कुछ देर बाद सेठ ने चुप्पी तोडी
और कहा -

'' हे राजगुरू ! सारा कुसूर मेरा है।

मैं कर्म से व्यापारी हूं मेरे लडक़े ने पिछले वर्ष ही चंदन की लकडी सस्ते दामों पर खरीद कर पूरा गोदाम भर लिया ताकि समय आने पर ऊंचे दाम पर बेच कर ज्यादा मुनाफा कमा सके उसमें मेरी बहुत ही पूंजी लगी हैपर दुर्भाग्यवश मौसम के अनुकूल न होने के वजह से बाहर के व्यापारी यहां नहीं आ पाए और पूरा का पूरा लकडी ग़ोदामों में पडा रह गयाअब तो उसमें दीमक भी लग गए हैं मेरी सारी पूंजी नष्ट होने के कगार पर हैएक दिन मैं सोच रहा था कि दूसरे राज्य के व्यापारी तो अब बारिश में आएंगे नहीं ऐसी हालत में इस पूंजी के बचने का एक ही उपाय है कि अगर राजा की मृत्यु हो जाए तो उनके जलाने के लिए सारा चंदन का लकडी बिक जाएगा और हमारी पूंजी बच जाएगी अगर पूंजी ही नहीं बचेगी तो भीख मांगने के सिवा दूसरा चारा न रहेगा

हे संत! यही दुर्भावना मेरे मन में घर कर गयी थी सेठ इतना कहकर राजा से लिपटकर रोने लगे राजा के आंखों से भी आंसू आ गए दोनों मित्र गले लगकर खूब रोए

राजगुरू ने कहाअब जब दुर्भावना खुलकर सामने आ गयी तो वह दुर्भावना नहीं रहीअब तुम दोनों के बीच का मैल धुल चुका है

राजा ने कहा हे मित्र ! पहले ही यह बात बता देते तो हम दोनों को इतना कष्ट तो नहीं सहना पडतालो मैं तुम्हारी समस्या का समाधान किए देता हूं उन्होंने मंत्री को बुलवाकर एक चंदन का महल तैयार करवाने का हुक्म दिया

इस प्रकार सेठ की पूंजी और उन दोनों की मित्रता दीर्घायु हो गयी

''संसार के प्रत्येक मनुष्य में दुर्भावनाएं जन्म लेती हैं, पर बुध्दिमान मनुष्य उसका खुलासा कर सबको सुखी बना देते हैं। साथ ही दुर्भावनाएं चाहे मन के किसी भी कोने में जन्म लें। अव्यक्त रखने पर भी अन्तर्सम्बंधों में दरार डाल ही देती हैं। अतः हर चैतन्य प्राणी को इसके प्रति सचेत रहना चाहिए। ये विकास पथ के अवरोधक हैं।''

- सुधांशु सिन्हा हेमन्त
 

Top  

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com