मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | फीचर | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home |  Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

You can search the entire site of HindiNest.com and also pages from the Web

Google
 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 

   सिर्फ इतनी सी जगह

आज गहरी उमस है, शायद बरसात होमैने रिक्शे से उतरते हुए सोचा -

'' कितने हुए?''
''
बीस रुपये।'' वह अपना पसीना पोछने लगा।

मैने उसका चेहरा देखा - काला, अधेड, सूखा चेहरा मृत आंखेसबकुछ देख कर भी कुछ न दिखती हुई हाथ-पैरों की उभरी हुई नसेंलम्बी-पुरानी खाकी पैंट और मटमैली शर्टमैने झट से उसे रुपये दिये और सामने वाले पी सी   बूथ मे घुस गई

पांच लोग पहले ही इंतजार कर रहे थे मैं अपने चेहरे का पसीना पोछते हुए अपनी बारी आने का इंतजार करने लगीकुछ लाइन्स नहीं मिल रही थी और उन पांच को निपटते-निपटते एक घंटा लग गयापहले सोचा, कही और जाऊं, पर कहां? यह पांचवा बूथ था, जहां मैं आई थीइसके पहले जो चार बूथ थे, उनमें यहां से ज्यादा भीड थीकहीं और जाते-जाते आधा घंटा और बीत जाएगामैने कुर्सी पर बैठे-बैठे उस दिन के सारे अकबार पढ डाले अपनी बारी आने तक

मेरी बारी आई और मै फौरन केबिन में घुस गईनंबर मिलाया और पूछा उधर से जवाब आया -

'' साहब तो बाथरूम में है जी।''
''
कितना वक्त लगेगा।'' मेरा दिल बैठने लगा।
''
जल्दी आयेगे जी।''
''
थैंक्स।'' मैंने रिसीवर रख दिया।

पन्द्रह मिनट बाद फिर फोन मिलाया - '' साहब तो अभी निकले नहीं है जी''

मैने ठंडी सांस भरते हुए रिसीवर रख दिया

उमस बढती जा रही हैछोटा सा पी सी हैलोग आ रहे है, जा रहे हैमै बैठी हुई हूंपंखा फर्र-फर्र की आवाज क़े साथ चल रहा हैमै कांच के दरवाजे से बाहर देखती हूंआते-जाते लोग, पैदल-वाहनों परये हजारों लोग एक जगह से दूसरी जगह पर क्या ढूंढने जाते होगे? कोई अंदर आता है या बाहर जाता है तो दरवाजा खुलते ही बाहर का शोर अंदर आ घुसता हैपहले जोर से फिर धीरे-धीरे कम होता हुआ कोनो में जा धंसता हैमैं उस शोर को तटस्थ निगाहों से देख रही हूंअंदर इतनी जगह नहीं है कि कोई दूसरा समा सके

पन्द्रह मिनट बाद फिर फोन मिलाती हूं -

'' साहब तो ब्रेकफास्ट कर रहे है जी।''
''
बताया नहीं मेरा फोन था।'' मैं खीज उठती हूं।
''
आपने नाम तो बताया नहीं था जी। नंबर भी नहीं था।''
''
कहना बेक्रफास्ट के बाद फोन के पास बैठे।''
''
अच्छा जी।''

मैं रिसीवर पटक देती हूं

मैने पहली बार मेज के पीछे बैठी उस लडक़ी का चेहरा देखा, जो लोगो को नंबर मिला कर दे रही है सांवला-दुबला सा चेहरारूखे अस्त-व्यस्त बालवह अपनी पतली-पतली उंगलियों से मशीनी ढंग से नंबर घुमा रही है

'' सारी उमर नंबर मिलाते रहो, वह कभी नहीं मिलता, जिससे हम मिलना चाहते र्है।''

मैने उसकी ओर देखते हुए सोचा उसने मेरे लिए पानी मंगवाया और सहृदयता से मुस्कायीउसके जवाब में मैं भी वैसी ही मुस्कान देना चाहती थी पर मेरे पास कुछ भी नहीं था सिवाय सूखे छिलकों केमैने उसकी तरफ से दृष्टि फेर ली और दीवार पर बनी तस्वीर देखने लगी - खूबसूरत तस्वीर - एक छोटे से खूबसूरत घर के सामने बगीचे में दो कुर्सियों पर बैठे एक लडक़ा और एक लडक़ी और उनके चारो ओर फूलों के घेरेवृक्षों के घेरे और उन पर हल्के-हल्के गिर रही ओस

ये ओस यूं ही अनंत काल तक गिरती रहे तो भी ये दोनो इसमें दबेगे नहीं, यूं तो एक-दूसरे के सामने बैठे, एक दूसरे की चाहत में डूबे मुस्कराते रहेगेंएक-दूसरे को देखकर मैने सोचना चाहा पर सोच आगे नहीं बढ पाई शायद वहां कुछ और भी होमैने अपने आप को सिकोडा और तस्वीर के अंदर आ गईअंदर सब कुछ फ्रीज थाघर जैसे जमीन पर पडा हुआ था - उसमें कुछ भी नहीं था - न लालसा, न कामना, न चाहना, कुछ भी नहींन फूलो मे महक थी, न चिडियों मे चहकमुर्दा कुर्सियो पर बैठे दो मुर्दा जिस्म...नहीं, यहां कुछ नहीं हैमैं वापस आ गई

लडक़ी मेरी तरफ देखे जा रही है मैने मेज पर रखा पानी का गिलास पिया और बिना केबिन में गये वहीं से नंबर मिलाने लगी -

'' साहब तो ऑफिस चले गये जी।'' उधर से जवाब मिला।
''
तुमने कहा नहीं।'' मै चिल्लाई दबी आवाज में।
''
कहा था जी। कहने लगे, जल्दी है। वहीं फोन कर लें आप।''

अगर मेरे हाथ में उसका गला होता, मै जरूर दबा देतीरिसीवर उसी अंदाज में मैंने पटका और निढाल कुर्सी पर बैठ गयीमैंने गहरी-उत्तेजना से कांपते अपने हाथ देखेवहां कुछ भी नहीं था सिवाय कुछ रेखायें जो कहीं नहीं मिलती - कभी नही मिलती

उसे पता है, मेरा ही फोन है, फिर? रुक नहीं सकता था थोडी देर? यहां से वहां तक फैला हुआ उसका कारोबार और उस सबके बीच अपनी जगह ढूंढती मैंबाहर बारिश हो रही है हल्की-हल्की रिमझिमलोग इधर-उधर भग रहे है इसके पहले कि बारिश तेज हो, वे सुरक्षित स्थानों पर पहुंच जाना चाहते हैएक अजीब सी भागमभाग व्याप्त हो गई है कुछ लोग पी सी   में घुस आये हैं - हल्के भीगे हुएफोन मिलाने की छिली सी उत्सुकता लिएकुछ लोगो को लाइन नहीं मिलती और वे दीवार से लगकर खडे हो गये हैउनकी आंखो की रेंगती हुई उत्सुकता मरी हुई छिपकली की तरह उलट गई हैजो उस रोशनी में हल्के-हल्के चमक रही है

एक लडक़ी फोन पर किस से बाते कर रही है - बडी तसल्ली से - हंसते हुए उसकी हंसी के टुकडे बरसाती मेढक़ से उस छोटे से कमरे में इधर-उधर फुदकते है और ज्यों ही कोई कांच का दरवाजा खोलता है - वे बाहर पानी में भीग जाते हैलोग इधर-उधर देखने का बहाना करते हुए उसकी बातें सुन रहे हैंवह इस दुनिया में खडी र्है उस दुनिया से जुडी हुईमेरी दुनिया ये नहीं है, जहां मैं खडी हूंहम हमेशा उस छोटे से रास्ते पर मिलते है, जो दो दुनियाओं को अलग करता हैआज वह रास्ता भी नहीं मिल रहा

वह चली गई हैउसकी हंसी की स्मृति अभी भी बूथ की दीवारों से चिपकी हुई हैबहुत जल्द यह सूख कर मर जायेगी और कोई उसे बुहारकर बाहर फेंक देगामैं कांच के दरवाजे से बाहर देखती हुई नंबर मिला रही हूंबारिश अचानक बहुत तेज हो गई कांच के दरवाजे पर बूंदे नहीं गिर रही पानी की धार गिर रही हैसडक़ पर इक्का-दुक्का आदमी या कभी कोई रिक्शा वाला भागता हुआ दिख जाता हैअपने आपको हर संभव उस बारिश से बचाते हुएनंबर मिल गया है -

'' हैलो, मैं बोल रही हूं ''
गला रूंध रहा है। अंदर कुछ वेग से बाहर आना चाहता है। मै बरसना चाहती हूं। इतने रोडे है कि मुझे बहने नहीं दे रहे।
''
साहब तो मीटिंग में गये है जी।'' वह मुझे पहचान कर कहता है।
''
कितनी देर में आयेगे?'' मैं अटकते हुये पूछती हूं।
''
कह नही सकता जी, आप थोडी देर बाद फोन कर लें।''

दूसरी दुनिया की तरफ खुलने वाला दरवाजा बंद हो जाता हैपानी और तेज हो गया है सडक़ पर पानी ही पानी हैउस पर कागज और फटे दोनो के टुकडे इसक्रीम के कप, इस्तेमाल की जा चुकी चीजे तैर रही र्है, जिन्हे इकट्ठा करने की कोई फिक्र नहीं करताकांच के दरवाजे से एक कीडा अंदर आ गया हैउसे पनाह चाहिएबारिश से - खुद पर से गुजरते लोगो से

लंच टाइम हो गयापूरा कमरा खाली हो गया सिर्फ मै बैठी हूं और वह लडक़ी वह लडक़ी न जाने मुझसे क्या कहती है? मैं खाली आंखो से उसकी तरफ देखती हूंवह मेरे लिए पानी लाती है और फिर देकर कुछ कहती हुई वापस चली जाती हैमै उसके होंठो का कांपना और फिर बाहर जाना देखती हूंयह अंदर जाकर झोले में रखा अपना टिफिन ले आती है और मुझे दिखाती हुई फिर कुछ बढती हैमेरे होंठ कृतज्ञता और शर्म से फैल जाते है और मैं उठकर खडी हो जाती हूंवह लपककर मेरे पास आती है बाहर पानी दिखाते हुए कुछ कहती है और कुर्सी पर बैठा देती हैफिर वापस चली जाती है

कांच का दरवाजा खुलता है और एकाएक एक अंदर आते आदमी के ऊपर से एक चिडिया एक भीगी हुई चोंच में तिनका दबाये अंदर घुसती है और सीधी ऊपर बल्ब पर जा बैठती हैमै उसे देखती हूं - घबराई हुई, पर चोंच से तिनका नहीं गिरता छोड रहीकहां से आई है मटककर? आसपास तो कोई पेड नहीं दिख रहा हैवह अपने पंख झटकाती है - गीले पंख लेकर कहां जायेगी, रुक जाये जरा सी देर, ताकत बटोर ले अगली उडान के लिए, फिर उड ही जायेगी - बाहर एक मौसम इसकी प्रतीक्षा कर रहा हैयह जायेगी और वह उसे थाम लेगा

कोई चीज मेरे अंदर से निकलकर बाहर बारिश में गिला गईअब वह गीले कागज सी बहती जायेगी दूर तक सबसे बेबास्ता सबके लिए बेकारपानी का वेग एकदम से कम हो गया है लगभग न के बराबरबस छतों पर रुका हुआ पानी अपनी पूरी रफ्तार से बह रहा हैसडक़ धुल कर साफ हो गई है फालतू चीजे बहकर दूर चली गई है सब बह जाये तो कैसा लगता है? एकदम साफ और नंगा

वह अपनी बरसाती उतार कर लडक़ी से कुछ बात कर रहा हैमैने केबिन में घुसकर आखिरी बार नंबर मिलाया - यह जानते हुए कि लंच टाइम हो गया है और अब कोई मतलब नही हैकेबिन संकरा था, वहां मुश्किल से एक आदमी के खडे हो पाने की जगह थीइतनी सी जगह कि किसी के अंदर हम सिर्फ खडे हो सकेसिर्फ इतनी सी बात और हम सारी उमर मारे-मारे फिरते हैउन सडक़ो पर बरसों आवारागर्दी करते है, जो हमें कहीं नहीं ले जाती - वापस उसी जगह पर छोड देती हैहम तुरन्त दूसरी सडक़ पर चलना शुरू कर देते र्है शायद यहीं सही हो

उधर से पूछने पर कहा गया -

'' हां जी, बैठे है। अभी देता हूं।''

मैने रिसीवर नीचे रख दियामेरे पास अब ऐसा कुछ भी नही था जिसके जरिए मैं उस तक पहुंच सकतीजितनी भरी हुई मैं आई थी, उतनी ही खाली अब लौटने को तैयार हूंमैने बिल देखकर पैसे मेज पर रखे और बाहर की ओर बढीदरवाजे के अंदर आ रहा वह कीडा जाने कब किसके पैरों की भेंट चढ चुका है और दरवाजे पर उल्टा पडा है - किसी मृत सपने की लाश की तरहमैने उसकी एक टांग से पकडक़र उठाया और बाहर बह रहे नाले में फेंक दियामैं फिर खाली सडक़ पर चलने लगी हूं

जया जादवानी
अक्तूबर 14, 2001

    

इन्द्रनेट पर हलचल - सुब्रा नारायण
अपने अपने अरण्य - नंद भारद्वाज
चिडिया और चील - सुषम बेदी
ठठरी - हरीश चन्द्र अग्रवाल
प्रश्न का पेड - मनीषा कुलश्रेष्ठ
बुध्द की स्वतंत्रता - मालोक
भय और साहस - कनुप्रिया कुलश्रेष्ठ
मदरसों के पीछे - रमेशचन्द्र शुक्ल
महिमा मण्डित - सुषमा मुनीन्द्र
विजेता - सुषमा मुनीन्द्र
विश्वस्तर का पॉकेटमार- सधांशु सिन्हा हेमन्त
शहद की एक बूंद - प्रदीप भट्टाचार्य
सम्प्रेषण  - मनीषा कुलश्रेष्ठ
सिर्फ इतनी सी जगह - जया जादवानी

कहानियों का पूरा संग्रह

 

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com