मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | फीचर | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home |  Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

You can search the entire site of HindiNest.com and also pages from the Web

Google
 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 

वह आंगन और लालटैन

15 वर्षीय रूपमती जब भारत के विभाजन से कुछ महीने पहले 25 वर्षीय प्रेमचन्द की दुल्हन बनी तो वह एक ब्याहता स्त्री के अलावा अपने घर की बडी बहू और एक ननद और तीन देवरों की भाभी भी बनी। अपनी विधवा सास के साथ कंधे से कंधा मिलाकर रूपमती नें एक उजडते परिवार को सहेजना शुरू किया। विभाजन होने से पहले ही भविष्य की भयावह अनिश्चितता भांप प्रेमचन्द अपने छोटे भाई मदन के साथ फ्रंटियर के एक छोटे से कस्बे को छोड दिल्ली आ पहुंचे। दिल्ली शहर के अपने संघर्ष, उस बडे शहर में अपने लिये जगह बनाना और आजीविका कमाना आसान न था। शहर की पटडियों पर अपनी छोटी सी किताबों की दुकान - जो कि एक चादर में सिमट जाती थी - को सजाने संवारने में दोनो भाई लग गए। इतने में मदन अपने कस्बे के दो चक्कर लगा आए और अम्मा ने समय की दशा देखते हुए मदन का भी ब्याह कर दिया। मदन अपनी पत्नी को वहीं छोड फ़िर दिल्ली आ गए, भाई के साथ संघर्ष में हाथ बंटाने को। विभाजन का समय नज़दीक आते ही अम्मा ने अपनी पुत्री का भी ब्याह रचा दिया।

राष्ट्र का विभाजन हुआऔर विभाजन के साथ शुरू हुआ जिन्दगियों के बिखराव का सिलसिलायातनाओं और हिन्दु-मुस्लिम संघर्षों की आग में पूरा हिन्दुस्तान जल रहा थाप्रेमचन्द ने जल्दी जल्दी उन्हीं संघर्ष के दिनों में एक कमरे वाला मकान किराये पर ले लिया और मदन को भेज मां, रूपमती, मदन की पत्नी और छोटे भाई को बुलवा भेजाएक कोठरी में छ: लोग महज सर छिपाने के लिये टिके थेबाहर छोटे से दालान में दोनों बहुएं मिल कर खाना बना लेती थींजल्दी ही मदन की पत्नी को यह व्यवस्था नागवार गुजरने लगी और वो दोनों इस तंगी और परेशानियों के दिनों में ही अलग हो गयेअम्मा अपने सरल से बडे बेटे और उससे भी सीधी रूपमती के साथ ही रह गईंप्रेमचंद की कडी मेहनत और अम्मा की जमापूंजी से प्रेमचंद ने कुछ ही दिनों में एक बहुत छोटी सी दुकान किराये पर ले ली, जिसमें वह सैकेण्ड हैण्ड किताबों का व्यवसाय करने लगेदुकान चल पडी तो अखबारों और पत्रिकाओं की ऐजेन्सी भी उन्होंने ले ली, पुरानी दिल्ली के एक पिछडे मुहल्ले में पिछले घर से जरा बडा घर लिया गया जिसमें एक की जगह दो कमरे थे, पर बिजली की व्यवस्था न थी उस पर दुकान से बहुत दूर था वह घरपर विभाजन के उस जमाने में ऐसा मकान भी मिल पाना दूभर थारूपमती ने अपनी गृहस्थी इस घर में जोड लीअम्मा और छोटा देवर साथ ही थेएक दिन थके हुए प्रेमचन्द के लौटने पर रूपमती ने झिझकते हुए अपने माँ बनने की खबर दी, लजाती हुई रूपमती को प्रेमचन्द ने कस कर अपने आगोश में ले लिया थाइस खबर ने प्रेमचन्द की व्यस्त थका देने वाली दिनचर्या में उत्साह भर दिया और वे और अधिक श्रम लगा कर अपनी किताबों की दुकान को विकसित करने में लग गये

यहीं इसी घर में पति के प्रेम और सास के सहयोग के साथ न जाने कब नौ महीने पूरे कर लिये, शरद ॠतु अपने कुहरे की चादर फैलाए चली आई थीनवम्बर के अंत में 17 वर्षीय रूपमती को एक रात दर्द उठा तुरन्त ही अम्मा ने छोटे रमेश को भेज रिक्शा और प्रेमचन्द दोनों को बुलावायारिक्शा आने पर वे स्वयं रूपमती को सरकारी अस्पताल में ले गईं, सुबह सुबह उसने एक प्यारे से बेटे को जन्म दिया, घने काले बाल और गहरी भूरी आँखों वाले इस बालक को जब नर्स मारिया प्रेमचन्द के पास लेकर आई तो बस बच्चे को देखते ही प्रेमवन्द ने न जाने कितने सपने देख डालेयह तो उनके घर का पहला जगमगाता चिराग थाजब वे गर्भपीडा से उबरी थकित शमित रूपमती के पास पहूँचे तो वह मातृत्व में डूबी दुनिया की सबसे खूबसूरत स्त्री लगी

'' रूप तूने मुझे दुनिया की सबसे बडी नियामत दे दी है।''
''
आप इसका नाम रखिये जी।''
''
इसका नाम राघवेन्द्र रखेंगें?''
''
हाँ, यही अच्छा है।''
''
हम इसे पढाएंगे जी, बहुत बडा आदमी बनाएंगे।''
''
जो तुम चाहोगी वही होगा।''

अब तक मारिया और अम्मा अन्दर आ गये थेप्रेमचन्द एक गहरी नजर अपने बच्चे पर डाल कर चले गये

'' अम्मा जी आपका ये पोता बहुत प्यारा है, एक दम पोस्टर के मदर मैरी के गोद में यीशू के बचपन जैसा।''
''
लो मिठाई खाओ सिस्टर''

राघव का बचपन अम्मा, माँ और बाऊजी के स्नेह और सुरक्षा की छाँव तले बीतने लगा, पहली बार जब वो बाऊजी की उंगली पकड क़र पहला कदम चला था उस दिन शाम बाऊजी उसे और माँ को कनाटप्लेस के एक स्टूडियो में फोटो खिंचाने ले गये थेआज भी वह फोटो दिल्ली के हमारे पुश्तैनी घर के एक कोने में बाऊजी की अलमारी में रखे एक एलबम में रखा है, उसका पेपर पीला हो गया हैउस फोटो को देख कर अपने जन्म की अम्मा से सुनी सुनाई कहानी अकसर मुझे याद आ जाती है

मुझे अच्छी तरह याद है वह आंगनआज भी आखिर बचपन के छह साल बिताए थे उस घर मेंचूने और सीमेन्ट की जगह जगह उधडी हुई परतों में झांकती लाल ईटों वाली दीवारें, और खम्भों वाला वह पतली ईंटों के फर्श वाला आँगन, जिसमें खट्टे अंगूरों की बेल सीढीयों पर जा चढी थी। जहाँ एक कोने में मां की छपरे वाली रसोई थी और दूसरे कोने में बाथरूमटिन के ढके हिस्से में दादी याने अम्मा का तख्त पडा रहता थाअन्दर दो कमरे

उसी आंगन में पहली बार स्कूल के लिये जाने से पहले मां ने पूजा करवा कर एक बस्ते में कलम पाटी पकडा कर स्टील के टिफिन में मेरा मनपसंद चीनी का परांठा डाल कर दिया थाजाने से पहले में खूब सुबुक सुबुक कर रोया थामां को पहली बार छोड क़र जा रहा थास्कूल पहुंच कर तो बाऊजी का कुर्ता पकड लिया था फिर जब थोडी देर बाऊजी मेरी कक्षा में खडे रहे तब जाकर बैंच पर बैठाफिर न जाने कब पीछे से मुझे अकेला छोड बाबूजी चले गयेथोडा रो कर मैं सहज हो गया थाशाम बाबूजी को स्कूल के बाहर साईकिल के साथ देख कर खुश हो गया थामुझे अपने पिता के साथ साईकिल की सवारी बहुत प्रिय थी

घर पहुँच कर माँ ने पूछा, '' रघु बता न क्या सीखा? आज क्या किया?''
''
माँ, बाऊजी हमें अकेला छोड ग़ये थेहम खूब रोयेबहनजी ने कहानी सुनाई फिर कविता सिखाई, मछली जल की रानी

मां विभोर होकर मुझे चूमती रही। माँ को अपना अनपढ होना और पिता का कम पढा हुआ अकसर सालता थावह चाहती थी मैं खूब पढूँ। जैसे ही मेरी पढाई शुरू हुई, माँ ने मेरा अतिरिक्त ध्यान रखना शुरु कर दियादो बार दूध देतीं, दाल में बडा चम्मच घी डाल कर देतींमुझे याद है मेरे पिता तब सुबह छ: बजे ही पाँच किलोमीटर साइकिल चला कर निकल जाते थे और रात ग्यारह बजे घर लौटते जब सारा मुहल्ला सो चुका होता, यहाँ तक कि दादी भीपूरा मोहल्ला अँधेरे में डूबा होता बस एक दो लोगों की आवाजाही या कुत्तों की भौं भौं के सिवा कुछ नहीं सुनाई देता था, बस हमारे कमरे में एक लालटैन जली होती थी। माँ रात में बाऊजी की प्रतीक्षा करते में कभी पुराना स्वेटर उधेड क़र नया बनाती या, बाऊजी की पुरानी पेंट को मेरे नाप का सिल उस पर तुरपाई करती। माँ जबरन मुझे भी हाथ में किताब देकर लालटैन के आगे बिठा देती, कभी मैं गणित के सवाल करता, कभी कविता याद करता, कभी पहाडेदादी डाँटती माँ को कि ये छोटे बच्चे के साथ क्यों अत्याचार करती है? पडाैसिनें भी कहती, ऐसी भी क्या पढाई ओ रब्बा!

माँ का उत्तर होता, '' जब रघु के बाऊजी थक कर देर रात आते हैं उसे पढता देख खुश हो जाते हैंवरना जब वो सुबह जाते हैं तो रघु सो रहा होता है आते हैं तो रघु सो चुका होता हैइस बहाने बाप बेटे में दो बातें होती हैं, वो प्यार करते हैं इसेइसका होमवर्क देखते हैं तब तक मैं खाना लगाती हूँ।''

तब मुझे भी माँ पर गुस्सा आता क्योंकि मैं पढते पढते अकसर लुढक़ जाता थापर माँ मुझे जगाती प्यार करती फिर पढने बिठा देतीतब मैं नहीं जानता था कि माँ के मन में क्या है? क्यों थके हारे, घर और दुकान की दोहरी जिम्मेदारी से जूझते मेरे पिता मुझे लालटैन में देर तक जाग कर पढते हुए देख कितना खुश हो जाते हैं कि उनके चेहरे से थकान जाती रहती हैनहीं समझता था तब मैं आज जब अतीत के तंग गलियारों से होकर उस आंगनमें लौटता हूँ, तो बिना बिजली की सुविधा वाले उस घर में वही लालटैन जली दिखाई देती है और प्रतीक्षा में दिप दिप करता माँ का सुन्दर कोमल चेहरा, हाथों में सुई धागा, कान अनवरत दरवाजे पर लगे, आँखे रह रह कर खिडक़ी पर उठती हुई

जब तक मैं पहरी कक्षा में आया माँ ने दूसरी बार माँ बनने की खबर दी थीपिता ने इस बार माँ से एक नन्हीं सी गुडिया की माँग की थी जब कि मैं जिद पर अडा था मुझे घुटनों के बल चलने वाला छोटा भाई चाहिये। माँ ने पिता की बात रख ली और इस बार घर में ही मिडवाईफ की मदद से एक नन्हीं गुडिया को जन्म दिया जिसे देखते ही मैं अपनी जिद भूल गया और उसे प्यार करने लगाइसका नामकरण अरुणा हुआ मेरी बचपन की साथी, मेरी नन्हीं चंचल बहन अरुणा मुझ पर अधिकार जमाती हुई दो साल की हुई तब तक पापा की दुकान बहुत अच्छी चल पडी थीअब हमने नया घर लिया जिसमें लाईट थीतीन कमरे और पक्का बाथरूम थापर वो आंगनवहीं छूट गया, इस घर में आंगननहीं था, मगर खूब चौडी छत थी जिससे शहर दिखता था। जहाँ पतंगें कट कर गिर आया करती थींकभी कभी पडाैसियों के पालतू सफेद कबूतर आ जाते थे, अम्मा के डाले दाने चुगनेबाऊजी रिफ्यूजियों को मिलने वाले जमीन के पट्टे के लिये भी एप्लाय कर चुके थेपैसे भी भर दिये थे खुशहाल दिन सफेद कबूतरों की तरह एक एक कर हमारी जिन्दगियों पर उतरते हुए प्रतीत हुएलेकिन इस नये घर की हवा न जाने क्यों माँ को रास नहीं आई

वह बीमार रहने लगी, उसके चेहरे की रौनक बीमारी ने छीन लीएक दिन बाऊजी उसे अस्पताल भरती करा आएअब अम्मा ही मुझे तैयार कर स्कूल भेजती, दो साल की अरुणा को देखती। माँ और बाऊजी का खाना बना कर अस्पताल भेजतीचाचा अब दुकान देखने लायक हो गया था और साथ ही मैट्रिक की तैयारी कर रहा था

अस्पताल गई माँ को देखने एक बार जब मैं वार्ड में पहुंचातो माँ ने सीने से लगा कर इतनी सारी बातें समझा दीं जैसे वह अभी कई दिन नहीं लौटेगीमन लगा कर पढना, दादी को तंग मत करना, अरुणा को देखनाजबकि मैं रो रो कर कहता रहा अब घर चलो मम्मीबाऊजी माँ को समझाते, '' रूप तुम ठीक हो जाओ और घर आ जाओतुम ही हिम्मत छोड दोगी तोएक से एक अच्छे डॉक्टर देख रहे हैं'' बाऊजी कहते तो पर वो जानते थे कि उनके ही आश्वासनों में उम्मीद कम ही रह गई हैमैं हर रोज माँ के लौटने की प्रतीक्षा करता

पर माँ नहीं लौटीछोड ग़ई हमें मुझे और अरुणा को बाऊजी और अम्मा कोश्मशान में बाऊजी के साथ खडा मैं उनकी धू धू करती चिता देखते हुए अचानक समझदार हो गया थामुझे पता चल गया था मुझे अच्छी तरह पढना है, माँ यही तो चाहती थी

उस रात मैं ने सपनों में वही आंगनदेखा, वहाँ खम्भे पर लटकी लालटैन देखी जो अचानक तेज हवा से बुझने को थी मैंने उसे उतारा और कमरे में ले आया और उसकी बत्ती ऊँची कर दी वह बुझते बुझते फिर जल गईआज भी किसी किसी तूफानी रात में मैं उस लालटैन को मन ही मन हमेशा तेज हवाओं से बचा कर जलाए रखता हूँ।

राजेन्द्र कृष्ण

 

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com