मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | फीचर | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home |  Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

You can search the entire site of HindiNest.com and also pages from the Web

Google
 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 

  भूले बिसरे लोग

जेहन में हजारों कैमरे एक साथ चलने लगते - क्लिक क्लिक क्लिक लांग शॉटसेहन, दरीचे, सहनची, सहदरा, दालान, लम्बा सीला हुआ गुसलखाना जहाँ दिन में भी अंधेरा रहता थाईंटों से चुना हुआ रोशनदान, अलगनी पर टँगे मैले कपडों का ढेर ठंडे सर्द पानी से लबालब भरी देग - संगमरमर की चौकी, घडे, घडौची, झांवे, लौटे, उबटन, बेसनदानी, रीठे आँवले से भीगी लोहे की कढाई, दीमक लगा चुर मुर करता हिलता दरवाज़ा  क्लोजअपअम्मा नावन से सर धुलवा रही हैंउनके लम्बे काले बाल लगन में कुण्डली मारे लहलहा रहे हैंमिड क्लोजअपबावर्चीखाने में तामचीनी की रकाबी में छह छह रोटी के जोडे लगाए जा रहे हैं प्यालों में आलू गोश्त का कलिया बोटी गिन के डाला जा रहा है हलवाहों के लिये अम्मा सीधा तौल रही हैं, एक सेर चावल, एक सेर आटा, आधा सेर दाल, नमक की डली, लाल मिर्च डाल कर अंगोछे बंध रहे हैं कैमरे ने अब टिल्टिंग शुरु कर दी ऊपर नीचेनीचे ऊपरसारे शॉट इम्पोज सब कुछ आपस में गडमडया अल्लाहसन ने अपना सर थाम लियाइंसान जिन्दगी की तब्दीलियों का आदी होता चला जाता है वरना मर जाये, हसन ने सोचा। लेकिन उसका शुमार तो न जिन्दों में था न मुर्दों में। वह जब से कंराची आया था चैन की नींद एक रात भी न सो पाया था। शाहाना आरामदेह ख्वाबगाह में दबीज मुलायम मखमली छपरखट पर करवटें बदलते छत से लटके बिल्लोरी फानूस को तकते तकते सुबह हो जाती।

शहला अकसर चिढ क़र कह देती, '' क्या पागलों की तरह रात भर करवटें बदलते रहते होडॉ को क्यों नहीं दिखाते?''
'' मेरा दर्द लौंदवा है बेगम
'' वो तल्खी से हँस देताउसके चेहरे की रंगत स्याह होती जा रही थी। आँखों के नीचे स्याह हलके, बालों का रंग फाख्तई, आंखों की चमक मध्दिम, नींद की गोलियां सब बेअसर साबित होतीं। जडों से कटना बेहद तकलीफदेह होता हैबरसों बीत जाते हैं कसक दिल में रह जाती है

ऐश व आराम - एयरकंडीशंड गाडियां - महलनुमा बंगला - इज्जत, शोहरत, हसीन और जमील बीवी शहलाभारी भरकम बैंक बैलेन्स, बेहतरीन लिबास खिदमत के लिये नौकरों की पलटन मौजूद लेकिन दिलकमबख्त दिलन जाने क्यों अब भी हिन्दुस्तान के छोटे से गाँव सुलतानपुर में बसा था

खाना खाते वक्त हलक में निवाले अटक जातेवह बार बार पानी पीता शहला टोकतीअम्मा डांटती थीं, ''ज्यादा पानी न पिया कर भूख मर जाती है'' झमाझम पानी बरसता...नदी नाले उबल पडते - कच्चे सेहन में घुटनों तक पानी भर जातावह कागज़ क़ी नाव बना कर तैराता भाग में आम के पेड पर नया झूला डाला जाता, बाजी कजरी गाती, महारत में सतरंगी चुनरियां रंगी जातींअम्मा बावर्चीखाने से निकला कर बाहर ढप्पर में बैठ कर बेसन भरे परांठे पकातीं, '' भैया आओ...गरम गरम खाये लियो''

'' सर लंच इज सर्व्ड '' हाथ बांधे सफेद पोशाक में सजे बैरे एहतराम से झुक कर चांदी की काबों में खाना पेश करते, (जायकानामालूम) डायनिंग हाल में सफेद, बेदाग ख़डख़डाते नैपकिन...मेज पर छुरी कांटे जगमगाते (कोई हंसी, कोई कहकहा नहीं) कांटों से खाने के टुकडे पलकों की तरह उठाये जाते, नैपकिन होठों से छूते हुए रख दिये जाते।

सुबह वह देर तक पडा सोता रहता, सोता रहता शहला भी सोती रहतीकुछ दिनों से उसने भी अपना बेडरूम अलग कर लिया थाशहला भी क्यों उसकी वजह से अपनी नींद खराब करेउसे तो रतजगों की आदत सी हो गई है

गाँव में अम्मा सुबह सुबह कमरे में आती थीं चुपचाप खडी उसे देखती रहतीं, बन्द आंखों से वह जान लेता कि अम्मा हैं आसपास, एक नर्म सा अहसास, एक खुश्बू चुपके से पैरों की चादर बराबर करतीं, खिडक़ी के परदे ठीक करतीं ताकि धूप अन्दर न आये, पंखे की रफ्तार कम करतीं, दरवाज़ा आहिस्ता से भिडातीं

नौकरानी से कहतीं, '' भैया का कमरा छोड देना...जब उठेगा तो मैं झाडू लगा दूंगी''

शहला आजिज हैलेकिन स्टेटस जानती है खुद उसने जानबूझ कर शादी की थी वह तैयार नहीं थावह तैयार थी बल्कि दिलोजान से पीछे पडी थी - बेशुमार दौलत....आलातरीन सोसायटी में शामिल होने का शौक...।

'' सबकुछ तो है।'' वह चहकती फिरती।
''
लेकिन '' वह चुप हो जाता।

इस घुटन से बचने का एक ही तरीका है, उसने सोचा चलो एक बार हिन्दुस्तान हो ही आएंबारह साल की उम्र में फूफा उसे ले आये थेफूफी के कोई औलाद न थी अब्बा से उसे मांग लाईंअब्बा के काले कलूटे, सूखे चिमरिख नौ नौ बच्चे, दिन ब दिन बढती पहाड सी मंहगाई वही शक्ल का अच्छा थाअम्मा जार जार रोई पर तेजतर्रार दौलतमंद ननद के आगे चूं न कर पाई

'' यहाँ उसका कौनसा मुस्तकबिल बनना है? हम इसे पढा लिखा कर इंसान बना देंगे।'' फूफा ने बडे घमण्ड से कहा था।
फूफा फूफी ने उसे वाकई इंसान बना दिया था। बदन से ढीला लट्ठे का पायजामा उतार कर हाफ पैण्ट चढा दी। अंग्रेजी स्कूल में पढाया, अच्छा खिलाया, पहनाया। अम्मा की मौत की इत्तिला भी नहीं दी। बाद में फूफी ने बताया, '' पहले इसलिये नहीं बताया के तुम्हारे इम्तिहान चल रहे थे।'' वह दिल - दिल खूब घुटा। लिहाफ में मुंह छिपा कर महीनों बेआवाज रोया। बालिग होने पर फूफा ने उसके नाम नई फैक्टरी डाल दी। इन्सान मेहनत और जिला से चमकता है। उसने दिल व दिमाग सब फैक्टरी में डाल दिया। चन्द वर्षों में उसका शुमार करांची के गिने चुने करोडपतियों में होने लगा था। दौलत दौलत को खींचती है। फूफा लखपति थे वह करोडपति बन गया।

आसपास हसीन व जमील लडक़ियां मंडराती

'' कूपमंडूक अब बाहर निकलो भाई।'' लोग मज़ाक उडाते। रेशम के कीडे क़ा खोल उस पर इतना सख्त चढा था कि उतरता ही न था। अम्मा के अलावा वह कभी किसी से जुडा ही नहीं। फूफी उम्र भर साथ रही। पर वह दिल से कभी उनका न हो सका। वह अपनी जाहिल, बुरकापोश, नौ बच्चों वाली अम्मा के साथ ही चिपका रहा। फूफी के बाल नये फैशन में कटे रहते। वे खुश्बुओं से महकती रहतीं। चमकीले भडक़ीले लिबास पहनतीं। मेकअप से चमचमाती। उसको कपडों की करीज बचा कर सीने से चिपकाती।

'' मेरा लाल...मेरा बेटा'' सबके सामने कहती। अकेले में हडक़ातीं - '' देहाती, भुच्च  मलिच्छा'' वह डरा सहमा रहता। पार्टियाँ होतीं तो घर के कोने खुतरों में दुबक जाता, लाख बुलाने पर निकलता। बात करता तो आवाज हलक में फंस जाती, कभी ज़ोर से हंसा भी नहीं।
''
जाने कौनसी गुत्थी है इस लडक़े के दिल में जो खुलती नहीं'' फूफी बडबडाती।
''
घुन्ना है लडक़ा'' फूफा मुंह बिचकाते।

शादी उसकी फूफी ने बडे अरमानों से की अपनी सारी तमन्नाएं निकाल लीं शानदार दावतें हुईंबडे बडे नेता व रईसजादे आए लाखों मिनटों में बहाया गया ब्यूटीपार्लर में फूफी ने उसकी रगडाई करायीमेनीक्योर, पैडिक्योर, मसाज, फैशियल, सोनाबाथ और न जाने क्या क्या लेकिन उसका खुरदरा पन नहीं गयासेहरे के अन्दर उसकी आंख बार बार भर आती, ''काश! आज अम्मा होतीं काश! आज अम्मा होतीं...काश! अम्मा'' हालांकि बिचारी अम्मा होती तो क्या करतीं? हल्दी लगाती उसे? मुंहजोर, परकटी, नीचे गले का बित्ते भर का ब्लाऊज पहने बहू को देखतीं तो गश खा जातींउसके सिर से तो चादर कभी सरकी ही नहीं थी

हसन विजिट वीजा पर हिन्दुस्तान आ गया थादिल्ली, लखनऊ, सुलतानपुर...फूलपुर खटखटखट...सडक़ पक्की हो गई हैटैक्सी दरवाजे पर लगी...कई आंखे डयौढी से आन लगींसबसे उसका परिचय कराया गया भानजियां, भानजे, भतीजियां, भतीजे, छोटी नई बहुएं, यकायक उसे अजनबियत का अहसास शिद्दत से हुआ

'' आदब बडे अब्बा...सलाम चचा..मामूजान.. तस्लीम...बडे भैया सलाम... सलाम... वालैकुम।'' उसे रोना आने लगा। उसको उसके नाम से पुकारने वाला क्या कोई नहीं बचा? हसन..हस्सू..हसनवा...हसुवा कहने वाला? मुंह धोने वह गुसलखाने में घुसा। सीले से गुसलखाने में अब अंधेरा नहीं रहा था। चुना हुआ रोशनदान खोल दिया गया था। दो गोरैया वहां बैठी तोता मैना की कहानी सुना रहीं थीं। अलगनी पर मैले कपडे नहीं टंगे थे। देग गायब थी। नल की टोंटी मुंह चिढा रही थी। रीठे आंवले गायब, शैम्पू की लम्बी बोतल सामने खडी थी। फिनायल की तेज महक दिमाग में घुसी जा रही थी। संगमरमर की चौकी जगह जगह से दरक गई थी। अम्मा...अम्मा...अम्मा उसका जी चाहा खूब जोर जोर से चिल्लाया। गुसलखाने से निकला। सहनची में मेज पर बोनचायना की नई प्लेटों में नाश्ता सजा था।

'' कोई तामचीनी की रिकाबी बची हो तो?'' पास खडी भतीजी फक से हंस पडी। बहुत ढूंढ ढांढ कर एक सफेद धारी वाली हरी रिकाबी उसके सामने रख दी गई। उसमें एक स्याह सुराख साफ नजर आ रहा था। वह रोटी नहीं रिकाबी खा रहा थी। कांटे चम्मच मेज पर रखे वह हाथ से खाता रहा। शहला देख ले उसे इस तरह खाते तो'' उफ! जानवर से बदतर'' कहेगी वह हंसा। सबने ताज्जुब से एक दूसरे को देखा। बडे शौक से उसने बीते दिनों की बात की। लेकिन बातें जल्द ही खत्म हो गईं। उसे कुछ मायूसी हुई। बातचीत का कोई विषय नहीं मिल रहा था। रात सबकी चारपाईयां बडे से आंगन में बिछ गईं। उसका पलंग एकदम कोने में डाल दिया गया। उसे बार बार अहसास होने लगा कि वह बेकार आया। जो खुलूस मोहब्बत लेने वह आया था वह कहीं नहीं थी। शायद यह बदलाव कुदरती था। वह खुद बदल गया था शायद। फासला और वक्त इन्सान को किस तरह बदल देते हैं। दूधिया चांदनी चिटकी थी। उसे हल्की सी नींद आ गई। दूर की चारपाई से एक आवाज टन से उसके कानों में टकराई -

'' कोने चक्कर में आये हैं कुछ बताईन?''
''
जायदाद मा हिस्सा बांट करे आये होंगे और काहे इतनी दूर से चले आ रहे हैं।''
''
इतनी दौलत है तब बो? ''
''
अरी  हवस का पेट कभू भरता है?''
''
एकदम सनकी लगत है''
''
रुपया ज्यादा है न वही की गरमी दिमाग में चढी है।''
''
लंगडी ख़ाला को पांच सौ का हरा पत्ता दे डाले।''
''
साले आ जाते हैं हमें जलील करने''

वह रात भर खुले आसमान में तारे गिनता रहाआसमान व जमीन के बीच भयानक स्याह शून्य जिसमें वह छोटा सा लडक़ा भटक रहा था खो गया थासुबह का तारा जाने लगा तो वह उठ बैठाबाग का चक्कर लगा आया सारे पुराने पेड सूख चुके थे नाश्ते की मेज पर उसने कहा

'' कल्लू से कहना टैक्सी ले आये''
''
क्यों? वीजा तो महीने भर का लगा है आपका? ''
''
शहला घबरा रही होगी।''

हालांकि उसे मालूम था शहला उसकी गैरहाजरी खूब एंजॉय कर रही होगी

'' अम्मा मैं कहाँ सुकून पाऊं?'' अम्मा की टूटी खस्ताहाल कब्र पर फातिहा पढते हुए उसने पूछा। कब्रिस्तान की बेतरतीब घास हंसने लगी - अम्मा, अब्बा, बाबा, चाचा, दादी की कब्रों पर धूल के बगूले नाचने लगे।

गज़ल जैग़म

    

 

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com