मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | फीचर | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home |  Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

You can search the entire site of HindiNest.com and also pages from the Web

Google
 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 

सच्चा सुख

बात बीस बरस पहले की हैउन दिनों मैं विवाह के उपरान्त लाला जयचन्द जी के घर के सामने किराये के मकान में रहती थीएक दिन अचानक सामने के बंगले से किसी के रोने की आवाज आई थीमैं ने देखा कि एक लडक़ा जो लगभग तीस वर्ष की आयु का था वो अपने पिता जयचन्द जी से बहस कर रहा था और बात बढते बढते इस हद तक पहुँच गई थी कि उसने अपने पिता को जिनकी उम्र लगभग सत्तर के करीब होगी, उन्हें इस बुरी तरह से ढकेला था कि वो गिर पडे थेउनकी हड्डी टूट गई थी उसके बाद वहाँ काफी भीड ज़मा हो गई थीउसकी मां जो रेवा बा के नाम से प्रसिध्द थीं, जोर जोर से रो रहीं थीं और डांट रही थी कि क्या इसीलिये तुझे इतना बडा किया था कि ये दिन देखना पडे? मेरे जीवन में तो यह पहला अनुभव था कि बेटा बाप को मारेअभी तक सुना तो था लेकिन पहली बार साक्षात अनुभव किया थामुझे उस लडक़े से घृणा हो रही थी

जयचन्द जी को उठने में परेशानी हो रही थी इसलिये वहां अस्पताल से एम्बुलेन्स बुलाई गईउनकी तबियत वहां काफी बिगड ग़ई थीपुलिस ने उनकी रिर्पोट लिखना चाही और पूछा कि यह सब कैसे हुआ तो उन्होंने कहा था कि वे पलंग से गिर पडे थेउनके साथ गए लोग उन्हें कितना समझाते रहे कि आप सच बता दें, ऐसे दुष्ट लडक़े को तो दण्ड मिलना ही चाहिये लेकिन जयचन्द जी ने पुलिस को अपने बयान में यही कहा कि वे पलंग से गिर पडे थेगवाह साक्षी थे कि उनकी अपने बेटे से बहस हुई थी, वह जायदाद का बडा हिस्सा मांग रहा था और बात बढने पर उसने उन्हें धकेल दियालेकिन जयचन्द जी ने कहा कि ऐसा कुछ भी नहीं है और उनके लडक़े को कोई सजा नहीं मिलीडॉक्टर ने देखा पीठ पर डंडे के मारे हुए कई नीले निशान थे और पैरों की हड्डियों में तीन चार फ्रैक्चर भी थे किन्तु उनकी जिद के आगे डॉक्टर क्या किसी की भी नहीं चली उन्होंने अपना बयान नहीं बदलाअस्पताल में वे छ: महीने रहे और उसके बाद वापस कभी उस घर में लौट कर नहीं गये

मेरी उत्सुकता बढ ग़ई थी कि आखिर वे कहाँ रहने चले गये थेउस क्षेत्र में उनका बंगला ख्यातिनाम थाजल्दी ही लोगों से उस घटना का पूरा ब्यौरा मुझे आस पास के लोगों से मिल गया

जयचन्द जी का तीन लडक़े और एक लडक़ी का भरापूरा परिवार थाहर समय मेहमानों का तांता लगा रहताकहते हैं कि वे हीरे के बहुत बडे व्यापारी थेअपनी जवानी में उन्होंने बहुत कमायाएक बार कोई व्यक्ति उनके नाम का एक कमरा किसी वृध्दाश्रम में बनवाने के लिये दान मांगने आया था, तब उन्होंने उसे पांच लाख का चन्दा दिया थाउन्होने तब सोचा था कि वृध्द लोग उन्हें हृदय से आर्शीवाद देंगे

एक एक करके तीनों लडक़ों और लडक़ी का विवाह हो गयातीनों बहुएं मिल जुल कर रहती थींसारे त्यौहार वे धूमधाम से मनाया करते थेघर में बहुओं से रौनक आ गई थी जयचन्द जी और रेवा बा खुशहाल वृध्दावस्था का आनन्द उठा रहे थेउन्हें लगता था कि उनकी जीवनभर की तपस्या पूर्ण हुई अबतीनों बेटे व्यापार में उनका हाथ बंटाते थेबंग्ला काफी बडा था सबके अपने अपने बेडरूम थे पर खाना एक साथ ही बनता था

एक दिन बडी बहू ने न जाने अपने पति के कान में क्या मंत्र फूंका कि उसने जयचन्द जी से कहा कि वह अलग होना चाहता है स्वतन्त्र रूप से रहना चाहता है यानि खाना पीना भी अलग कर लेना चाहता है क्योंकि उसकी पत्नी के ऊपर घर के कामों की जिम्मेदारी अधिक आ गई है, बाकि दोनों बहुए तो मजा लूटती हैंरेवा बा ने बहुओं को और जयचन्द जी ने बेटों को खूब समझाने का प्रयास किया किन्तु अन्तत: तीनों बहुओं ने अपने अपने रसोईघर अपने अपने हिस्सों में बना लियेरेवा बा और जयचन्द जी अकेले रह गयेअब पैंसठ की उम्र में उन्हें अपने हाथ से खाना बनाना पडता थाबेटे बहुएं कोई झांकते तक नहीं थेआस पडौस के लोगों में कानाफूसी होती जब तीनों बहुएं अलग अलग सब्जी खरीदने बाहर आतींसाथ ही रेवा बा भी अपनी अलग सब्जी खरीदतींलोग मुस्कुराते और बातें बनाते लोगों से यह बात अब छुपी न रह सकी कि वे सब अलग हो गये हैं

एक दिन बडे भाई ने बाकि दोनों भाइयों को पास बुलाकर मीटींग की और तय किया कि अब वक्त आ गया है कि वे पिताजी से व्यापार में अपना हक मांग लेंपर उनका सामना करने की किसी अकेले बेटे में हिम्मत न थीअंतत: तय हुआ कि तीनों मिल कर यह बात पिताजी से करेंजयचन्द जी ने जब सुना तो उन्हें बडा आघात लगाउन्होंने फिर समझाया कि आज व्यापार इतना बढा हुआ है कि इसमें जितना पैसा लगाया जाये कम है, फिर बंटवारा होने से तो इस पर बहुत बुरा असर होगालेकिन किसी ने भी यह बात नहीं मानी और बंटवारा होकर रहाजयचन्द जी ने अपने लिये शेष जीवन के लिये आवश्यक पर्याप्त धन रख शेष तीनों बेटों में बांट दिया व्यापार भी बांट कर उन्हें संभला दिया, घर अपनी पत्नी के नाम कर दियारेवा बा ने लडक़ों से कहा कि वे सब जब तक चाहें इस घर में रहें उन्हें आपत्ति नहीं हैदोनों बडे लडक़ों ने अपना अलग अलग मकान खरीद लिया किन्तु छोटा मां के ही साथ रहने लगादोनों को लडक़े का सहारा था, मन में संतोष था कि चलो एक लडक़ा तो उनके साथ है

एक दिन बडा लडक़ा उनके घर आया और उसने जयचन्द जी से कहा कि वे मकान भी बेच दें और अपने रहते हुए उस धन के तीन हिस्से कर दें नहीं तो बाद में कहीं यह आलीशान मकान कहीं छोटे को न मिल जाये वैसे भी उसका व्यापार कुछ ठीक नहीं चल रहा उसे पैसों की जरूरत हैजयचन्द जी ने कहा कि यह असंभव हैछोटा लडक़ा उनके साथ अपने परिवार को लेकर रह रहा हैबची खुची एक यही तो चीज है जिसे वे अपने जीते जी नहीं बेचेंगे

सुबह का समय था, छोटा लडक़ा व्यापार के सिलसिले में घर से बाहर गया हुआ था तभी यह बडा लडक़ा घर आया थापहले धीरे धीरे बात करता रहा किन्तु जब उसने देखा कि पिताजी तो अपनी बात से टस से मस नहीं हो रहे तो उनकी पीठ पर उन्हीं की लाठी से जोर से दे माराजयचन्द जी वहीं गिर पडे। ईस पर भी उसने उन्हें उठाने की कोशिश नहीं की, बडबडाता हुआ वहीं खडा रहारेवा बा उन्हें उठाने में मदद करने आगे आईंअभी वे पूरी तरह से उठ भी नहीं पाए थे कि उसने उन्हें जोर से धक्का दे दियाअबकि बार जो वे गिरे उनके उठने की शक्ति जाती रही वे बेहोश हो गये और एम्बुलेन्स में उनको अस्पताल ले जाया गया

अस्पताल में छ: महीनों के दौरान बडा, मंझला लडक़े और दोनों बहुएं बच्चे मिलने आते थे, बडे लडक़े ने एक बार कहा भी, ''पिताजी मुझसे बहुत बडी भूल हो गई, मैं अकेले व्यापार चला न पाने के तनाव में थामुझे माफ कर दीजियेआगे से कभी मैं ऐसा व्यवहार नहीं करुंगा'' पर सम्बन्धों में दरार आ गईमानो प्रेम के धागे में टूटने के बाद जोडने पर गांठ पड ग़ई थीनफरत से जयचन्द जी ने मुंह फेर लियाकिन्तु कभी डॉक्टर और पुलिस या किसी के भी सामने कह न सके कि क्या हुआ था? सबसे यही कहते पलंग से गिर पडा थातन से ज्यादा तो मन पर चोट आई थी

धीरे धीरे वह दिन भी आया जब डॉक्टर ने उन्हें घर जाने की इजाजत दे दीउन्होंने रेवा बा से कहा कि उनकी एक इच्छा है क्या वे पूरी करेंगी? तब उन्होने कहा कि, '' मेरा जीवन तो आप ही के लिये हैआप के कारण तो मैं माथे में सिन्दूर लगाने की अधिकारिणी हूँ। कह डालिये आपको क्या कहना है?'' '' इस बार मेरी घर जाने की इच्छा नहीं हैयदि मुझे तुम्हारा साथ मिले तो मैं बाकि की जिन्दगी वृध्दाश्रम में गुजारना चाहता हूँ। क्या तुम इसके लिये तैयार हो? '' उन्होंने कहा तो रेवा बा ने सहर्ष अपनी सहमति दे दीछोटे लडक़े से उन्होंने वचन लिया कि उनकी मृत्यु के बाद अपनी मां का ख्याल रखनाउन्होंने अपनी पत्नी के बाद छोटे के नाम बंगला कर दिया

जयचन्द जी रेवा बा के साथ वृध्दाश्रम आ गये। यहाँ उन्हें नई ही दुनिया देखने को मिलीउन्होंने पाया वहाँ रहने वाले अन्य लोगों के दु:खों के आगे उनका दु:ख तो कुछ भी नहींहम लोगों के पास कम से कम पर्याप्त धन तो है कि वे जो चाहें खरीदें, जहां चाहें यात्रा करें और बाकि के दो बच्चे और उनके परिवार के लोग और बेटी कम से कम कभी कभी तो मिलने आते हैंलेकिन वहाँ जो लोग थे, उन्हें तो जैसे उनके बच्चे घर से निकाल कर भूल गये थेवृध्दाश्रम आने से पहले जिन्होंने अपने माता पिता के भरपेट खाने तक पर पाबन्दी लगाई थीइस उम्र में भी कमा कर पेट भरना पडा करता था उनकोकिसी को अपने लडक़े से शिकायत थी तो किसी को बहू से

वहाँ पर एक रुक्मणी बा थीं उनकी स्थिति काफी खराब थी, उनसे रेवा बा ने पूछा तो वे रो पडींउन्होंने बताया वह एम ए तक पढी हैंउसके चार बेटे हैं, सबकी शादी हो चुकी हैकिन्तु घर में सबकी नजर उसी के पैसों पर थीसारी जिन्दगी हाड तोड मेहनत की थी, शिक्षिका थी तो जो कुछ पैसे बचा पाई वो उसने बैंक में फिक्स करवा कर रख दिये थेबस एक दिन चारों बच्चों ने उससे यह कह कर कि वह उन्हें ॠण दे दे थोडे ही समय में वे उसे वापस कर देंगे उसके भोलेपन का फायदा उठाते हुए उससे पैसे तो ले लिये और जो हर महीने ब्याज आता था वह भी हाथ से गया हालत इतनी खराब हो गई कि उनके खाने पर भी बहुओं ने टोका टोकी शुरु कर दीकहती थीं कि इस बुढापे में इनको खाने का कितना लालच बढ ग़या हैउन्हें हलुवा बहुत प्रिय था वह भी सूजी की जगह आटे का, वह भी खाने को तरस गईं। यहाँ वृध्दाश्रम आकर अब शान्ति हैअपनी पेन्शन के पैसों से चाहे समाचार पत्र पढे या कोई किताब खरीदे किसी के आगे हाथ नहीं फैलाना पडता है न किसी के आगे हाथ फैलाना पडता है

उस वृध्दाश्रम में एक नियम था

सभी लोगों को सुबह पांच बजे उठ जाना पडता था और फिर नित्यकर्म से निपट कर प्रार्थनासभा में जाना पडता था, जहाँ कभी मुरारी बापू तो कभी आसाराम बापू के प्रवचन सुनने का सुअवसर भी मिलता थासबसे बडी बात यह थी कि सभी वृध्द लोगों को एक एक जिम्मेदारी सौंपी गई थीउन सभी को चाय नाश्ते व खाने के समय साथ रहना होता था। वहाँ लाईब्रेरी भी थी और खेलने के लिये एक छोटा सा मैदान थाजयचन्द जी को अपना बचपन याद आ गयाधीरे धीरे वे पूर्ण स्वस्थ हो गये अब उन्हें लकडी क़े सहारे की जरूरत नहीं थीउन्होंने अपने पिछले जीवन को भुला दिया थारेवा बा भी खुश थीं यहाँ। अपनी हमउम्र सहेलियों के साथ वे रचपच गईं थींवृध्दाश्रम के रूप में उन्हें अमूल्य रत्न हाथ लगा थासुन्दर उपदेशों के रूप में प्राप्त पारसमणि के स्पर्श पश्चात पिछले जीवन की लौह कालिमा अब अमूल्य कंचन में परिणित होकर जीवन को प्रकाशित कर रही थीउन दोनों को लगने लगा था कि यहाँ तो उन्हें बहुत पहले आ जाना चाहिये थाघर पर तो वे लोग अपने लिये समय ही नहीं निकाल पाते थे पर यहाँ सारा समय अपने ही लिये था

इस प्रकार वृध्दाश्रम में जयचन्द जी और रेवा बा बहुत ही आनन्दपूर्वक जीवन यापन कर रहे हैंकुछ दिन पहले ही मैं उनसे मिलने गई थी, उनसे पूछा कि क्या उनको अपना परिवार याद नहीं आता? कभी उन सबसे मिलने की इच्छा नहीं होती? तो आंखों में आंसू भर रेवा बा ने कहा था - अब यही मेरा परिवार हैइन सबके बीच हमें जो अपनापन मिला है वो खून के रिश्तों से भी बढ क़र हैअब ये ही मेरे अपने हैंपास बैठे जयचन्द जी मुस्कुरा रहे थे

जया शुक्ला


 

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com