मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | फीचर | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home |  Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

You can search the entire site of HindiNest.com and also pages from the Web

Google
 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 

  बौनी होती परछांई

वजह ऐसी भी खास नहीं कि जिसके लिये इतना मूड खराब किया जाये। हँ क्या बेवकूफी भरी बात हैये साले गर्ल्स कॉलेजेज क़ी बहनजी टायप मैन्टेलिटी जाती ही नहीं लोगों कीयुनिवर्सिटी में अच्छी थी, क्या हुआ एडहॉक लैक्चरर थी तो!  कम अज क़म ये पर्सनल मामलों में फालतू की टांग तो नहीं अडाई जाती थी, मुझ सी न जाने कितनी लैक्चरर्स थीं गैरशादीशुदा, आज़ाद और उदार मानसिकता वालीं

एक तो यह मध्यमदर्जे की मानसिकता वाला शहर मेरठ उस पर गर्ल्स कॉलेज! मैं क्या करुं अगर कॉलेज के आखिरी अनमैरिड मेल लैक्चरर की शादी हो रही है तो!  दो चार बार ही तो वह उसके साथ कैन्टीन में बैठ गई थीकरती भी क्या बाकि लैक्चरर्स पति, बच्चे, अचार, साडियां, लडक़ियों के चरित्रों, प्रिन्सीपल की बुराईयों के अलावा किसी अन्य विषय पर बात ही नहीं करतीं थींऐसा था ही क्या उसके और सुबोध के बीच? कैसे कैसे कमेन्ट हुए सुबोध की शादी का कार्ड देखकर!

''हाय! रोहिणी तुझे प्रपोज नहीं किया था सुबोध ने?'' ये इन्दु थी उसकी दोस्त होने का दावा करती है, कैसे खिलखिला रही थी।

'' हम तो इस कार्ड में आपके नाम की उम्मीद कर रहे थे, मैडम।'' हिन्दी के आचार्य सर बोले, जो इस गर्ल्स कॉलेज में सर कम मैडम ज्यादा लगते हैं। हमेशा लडक़ियों को मुंह लगाना, उनसे अपनी हंसी उडवाना इनका प्रिय शगल है।

बैल होते ही जब वह क्लास के लिये निकली, पीछे से जुमला उछला, '' आखिरी चान्स था, खो दियाबाकि शब्द लडक़ियों के शोर में खो गये

लडक़ियों की खुसुर पुसुर, एकाध क्लास में लडक़ियों ने इतनी भी हिम्मत कर ली, '' मैम, आज आपका मूड न हो तो'' गुस्से में उसने दो दो क्लास ले डाली जूलोजी कीढेर सारा काम पकडा दिया लडक़ियों को
मन तो किया था कि कह दे सब से क्यों नहीं, हिन्ट्स तो बहुत दिये थे सुबोध ने, किसे काटती है कमाऊ पत्नी, वह तो मैं ही हूँ जो कोरी भावुकता में आ बरसों पाली पोसी आजादी नहीं खोना चाहती थीतुम खुदको देखो दिन रात की गृहस्थी की गुलामी, कभी ये बच्चा बीमार कभी वो पति कहीं और पोस्टेड तुम यहां
उसे पता था इन्दु का जवाब -  तेरी तरह हमारी रातें तो भारी नहीं कटतीं

घर तक चला आया है, उसके पीछे पीछे उसका बुरा मूडआज उसने मकानमालकिन मिसिज सब्बरवाल को भी महज रूखा सा अभिवादन कर दिया और खटाखट सीढियां चढने लगी कहने को पोता हो गया है पर आंटी कहने से चिढती हैं '' क्या रोहिणी, आंटी कहती हो मुझे! तुमसे पांच छ: साल ही बडी होऊंगीवो तो सोलह में आते ही रिश्तों का ढेर लग गया था, सो सबसे बढिया रिश्ता देखकर बाऊजी ने शादी करदीफिर बच्चे भी जल्दी हो गये''
''
हँ, बढिया रिश्ता मोटा जनरल स्टोर वाला सब्बरवाल ''
कमरे में घुसते ही कामवाली काशीबाई पर खीज निकाली, आज फिर वही दाल?
'' क्या करती, भैनजी, साग भाजी थी ही नहीं
''
'' तो ले आती
''
'' आज पहले ही देर हो गई घर पर बच्चे भूखे बैठे होंगे
चार बजा लिये आपने

कमबख्त भूख ही नहीं बची, पर किसी तरह खाना ठूंसाहमेशा तो वह चार से छ: जम कर सोती हैफिर सैर को निकल जाती है पर उसके बाद का वक्त नहीं कटता, किताबें, टीवी, संगीत भी उसकी अन्यमनस्कता नहीं मिटा पाते

अगर रविवार हो तो, पूरा दिन पहाड सा हो जाता हैकोई हलचल नहीं होती उसके फ्लैट में, न सुबह जल्दी उठने की हडबडाहट, न साडी प्रेस करने का झंझटवह आंख खुलने के बाद भी बस लेटी रहती हैबालकनी में सफेद गुलाब की बेल से लिपटी धूप देखा करती हैआस पास के घरों का शोर नेपथ्य में चलता रहता हैआज रविवार तो नहीं ईद की छुट्टी है, अपना कोई त्यौहार होता तो, राधा भाभी के घर चली जातीवे सारे त्यौहार मनाती हैं संक्रान्ति से लेकर शीतला सप्तमी, अहोई जैसे छोटे छोटे त्यौहार भी, सुबह सुबह नहा धोकर बढिया चम चम साडी पहन कर रसोई में खप जायेंगीफिर फोन करेंगी,

'' रोहू, चली आ। '' वह पन्द्रह किलोमीटर उनके प्रेम में पगी चली जायेगी, उनके तीन किशोर लडक़ों के लिये कुछ न कुछ लेकर। पचास की हो गईं पर उत्साह नहीं गया। जीवन जीना कोई उनसे सीखे। उसे देख कर भाईसाहब से कहेंगी, '' लडक़ी की रौनक ही कुछ और होती है। मेरी तो किस्मत में लिखी ही नहीं थी। ये तीन तीन बांध दिये, जिन्हें न मां का दर्द न परवाह'' पर भाईसाहब उनके लिये एक पैर पर खडे रहते हैं, ऐसा है उनका जाऽदू। भले ही पांचवी पास हैं और भाईसाहब इन्जीनियर। हर बार जब से वह अपने रिश्ते के एक विधुर भाई का जिक़्र जिस लहजे में उससे करने लगी हैं। वहां भी जाने से मन अब कतराने लगा है।

आज ईद को क्या करे? यूं नाहिद ने बुलाया था सिंवई खाने पर और कहा था सुबह से आजाना दिन भर यहीं रहना रात को पार्टी है हैल्प भी हो जायेगी, खुब गप्पें भी मारेंगे न मन नहीं है, कौन उठ कर जल्दी जल्दी नहाये फोन पर मुबारक बाद दे देगीबस नौ ही बजे हैं, आज तो ये दिन चींटी की चाल चलेगा उसने उठ कर कॉफी बनाईधूप के एक टुकडे क़ो पकड क़र कुर्सी वहां खींच कर बैठ गई

सामने शीशे पर नजर गईउसे चेहरा अजनबी लगा उसे लगा उसका चेहरा इन कॉस्मेटिक्स की बॉटल्स में बन्द है, जिसे वह हर सुबह साडे आठ बजे अपने ऊपर लगा लेती है, लौट कर इन्हीं में बन्द कर देती हैफाऊण्डेशन की एक परत, काम्पेक्ट की दूसरी परत, ब्लशर के हल्के स्ट्रोक्स, आईलाईनर की महीन लाईन्सबालों का गहरा भूरा रंग पर्स के खुली परत में से सुबोध की शादी का सुनहरा कार्ड झांक रहा था

क्या शादी इतनी जरूरी होती है? छीज छीज कर मां मर गईंछोटे भाई और बहन ने अपनी अपनी शादियां करवा लींयहां कॉलेज में आये छ: महीने बीते हैं, लोग उसकी उम्र का कयास लगाते हैं और शादी करने की राय देते हैंएक बार तो रेखा मैडम से झगड ही पडी थी, '' अरे, आपको मेरी आजादी क्यों अखर रही है? आपको मुझे लेकर क्या कॉम्लेक्स है?''

काशी आ गई है, सब्जियों भरा थैला लेकर हरी भरी, सुर्ख लाल, पीली, बैंगनी सब्जियां भली लग रही हैं''काशीबाई, आज मैथी के परांठे और मटर आलू की सब्जी बनाओ, खूब मसाले डाल कर''
''
आप तो मना करते हो तेल मसाले को''
''
आज अपने हिसाब से बना लो''

किसी तरह लंच निपटा एक बडे योजन सा फिर लम्बा समय पसरा था उसके आगे रेंग रेंग कर आगे बढ रही रिजर्वेशन की क्यू हो मानो

चिट्ठियों के अम्बार में दिल्ली युनिवर्सिटी की उसकी कलीग कामना की शादी का कार्ड भी थातो शादी कर रही है, अब पैंतीस की उमर मेंउसीसे? अपनी उम््रा से बहुत छोटे एक क्रिश्चन मैडिकल रिप्रेजेन्टेटिव सेक्या पागलपन है, उस लडक़े ने बस बढिया युनिवर्सिटी की नौकरी के अलावा क्या देखा होगा उसमें? गोरी लाल भभूके सी मोटी कामना

उसे याद है दिल्ली में वो दोनों एक ही फ्लैट शेयर करते थेदेर रात को वो लैडी चैटरलीज लवर और फैन्टसी के ताजा अंक पढा करती थीउसे दया आती थी उस पर उसकी अलमारी में सिमोन द बाऊवार, सार्त्र, मिलर वगैरह के अलावा हैल्थ पत्रिका के अंक रहा करते थेकामना कई बार बहस करती

''क्या तुझे प्राकृतिक भूख नहीं महसूस होती?''
''
मेरा ध्यान ही नहीं जाता''
''
तू अपनी इच्छाएं दबा लेती है, यह ठीक तो नहीं रोहिणी।''
''
पता नहीं कामना, अकेलापन जरूर खिजाता है, किसी पुरुष से बात करना स्वस्थ लगता है। पर आगे कभी ध्यान ही नहीं जाता।''
''
इरोटिक किताबें या किसी फिल्म का कोई सीन''
''
मैं कहाँ पढती हूँ वैसी किताबें, फिल्म देखे अरसा हो गया।''

वह उसे जितना टालती वह उतना ही सैक्स और शरीर की भूख पर बहस करना चाहती थीशादी न होना उसकी मजबूरी थी बिहारी कायस्थ कामना के अध्यापक पिता दहेज न जुटा सके थेउम्र तीस पार कर गई थी अब चॉईस ही नहीं थी

'तो कामना जी अपनी कामनाओं पर विजय न पा सकीं। कामना पर हंसते हंसते एकबारगी वह रुक गई। एक गंभीर ख्याल उठा, तो क्या उसके शादी न करने की वजह कामनाओं पर विजय पाना हैहँ...वह कोई जोगन थोडे ही बनना चाहती है! क्या उसके मन कामनाओं से सूना है? नहीं सूना तो नहीं, सुबोध की शर्ट के पहले खुले बटन से झांकते सीने के बालों ने क्षणांश को उसे उत्तेजित किया था एक बार। वह अलग बात है कि उसने हमेशा अपने आप का ध्यान बंटाया है, खुद को बरगलाया है। अचानक से अपने आप पर ठीक उसी तरह दया आ गई जैसे कि लोग उसपर किया करते थे। चचऽच बेचारी में कमी क्या है? सुन्दर है, कमाऊ है।सांवली है पर नक्श कितने अच्छे हैं, साल दर साल उम्र बढती जा रही है।

अपने ही इन ऊटपटांग ख्यालों से उसे स्वयं पर गुस्सा आ गयावह उठ बैठीपैर कम्बल से ढक घुटनों पर सिर टिका दिया, ये स्साला मनहूस मन आज न उसे गर्त में ले जाये

आखिर शादी न करने का निर्णय उसका था

बस एक बार बी एससी करते ही जब पहले रिश्ते की बात पर जब लडक़े वाले देखने आये थेपापा जी जीवित थे तब तब लहराते लम्बे बाल, तरल लम्बी आंखें, वह साडी में स्वयं को देख कर पहली बार अपने ऊपर मुग्ध हो गई थीख्वाबों की उस कोमल पारदर्शी उम्र का कांच छन्न से टूटा था, ''लडक़ी जरा काली है'' तब सब कांच के टुकडे बटोर उसने फेंक दिये थे और लानत भेजी थी इस शादी ब्याह नामक संस्था परतब स्वयंसिध्दा होने की राह चुन ली थी उसनेएम एससी करने के बाद चार साल पी एच डी में लगायेफिर एक प्रोजेक्ट के तहत जूनियर साईन्टिस्ट बन दो साल के लिये लन्दन चली गई थीलन्दन से याद आया, उसके सांवले सौन्दर्य का जादू उसकी लैब में एक बार चल गया था
वह आस्ट्रेलियाई डॉक्टर एक बार पूछ बैठा था, '' हाऊ कुड यू गैट दिस परफेक्ट टैन्ड कॉम्पलेक्शन ? ''
वह मुस्कुरा दी थी
तब से एक कोमल कोना उगा था उसके लिये उसके मन मेंदोनों घूमते रोहिणी प्रतीक्षा में थी कि वह उसे प्रपोज क़रेगाजैसे ही रोहिणी को पता चला वह विवाहित है पर सेपरेशन पीरियड में चल रहा है, उसकी भारतीय मानसिकता उसे बिदका गईतब तो बहुत ही संस्कारी व आदर्शवादी थीआदर्शवाद और जवानी का बहुत बडा सम्बन्ध हैअवसरवादिता, आदर्शों में लचीलापन, समझौते बुढापे की निशानी हैं

वह हैरान थी, आज पहली बार है जब वह अपनी ही कहानी अपने आपको पूरे विश्लेषण के साथ सुना रही थीअब तक मौका ही नहीं मिला, न मन इतना भुरभुरा हुआ था कभी कि छूने पर पाउडर बन जाये

उसकी नजर फिर टीपॉय पर पडे ख़ुली बन्द चिट्ठियों के बण्डल पर गईमहिमा की भी तो चिट्ठी आई है, अगले महीने डयू है, मम्मी के जाने के बाद सबकी जचगी में जाने की अब उसकी डयूटी हो गई हैवही फालतू है न! वह फोन कर देगी इस बार नहीं...वह लडक़ियों के साथ गोआ जूलोजीकल टूर पर जा रही है

मन किया कि फोन कर महिमा को खूब झिडक़े, ''हैं तो दो लडक़ियां, तीसरे की क्या जरूरत!'' यूं भी सुबह से वह जो घर में खपती हैइसे तैयार करो, नाश्ता बनाओ, इसे खिलाओकभी रूठी सास को मना तो कभी बिगडे पति कोकभी ससुर की फरमाईशछुट्टी के दिन भी वही सुबह छ: बजे उठ जाना और उठा लेना घर भर का जुआ कन्धों पर कोल्हू के बैल की तरह उसकी यही लाडली सबसे छोटी बहना घर में सबसे बाद में नौ बजे उठती थीवह भी तब जब पापाजी, हंस कर चिल्लाते कि  लो भई कचौडी ज़लेबी लाया हूँ। तुम सब खालोमहिमा को सोने दोतब वह कूद कर बिस्तर से उठती, दांतों पर दो बार ब्रश चलाती और नाश्ते की टेबल पर आ जाती थीदो मिनट मेंआज वही महिमा उसके टोकने पर आंखों में चमक भर के कहती है, '' ये सब प्यार भी तो कितना देते हैंदेखो सास ने ये सतलडा मंगलसूत्र बनवा के दिया है''

इतने सारे ख्यालों ने उसे विचलित कर दिया हैवह दीवान से उठ आई है बालकनी में नीचे अहाते में बच्चों ने मार कांय कांय मचा रखी हैएक झुण्ड क्रिकेट खेल रहा है, कुछ छोटी लडक़ियां स्टापू खेल रही हैं

'' ए ऐ ये कोई बॉल है, ठीक से फेंक बे!''

'' चीटिंग, निम्मी तू कऽब से चीटिंग कर रही है। तेरा पैर छुल गया था लाईन से।''

ये शोर भला लग रहा हैछ: भाई बहनों वाला उसका घर ऐसी ही किचपिच से गुलज़ार रहा करता थाउन्हें खेलने बतियाने के लिये सहेलियों की जरूरत कम रहा करती थी

आज नहाने में आलस कर गई थी वह अभी शाम नहीं हुई है, नहा ही डालेमां कभी धूप उतरने के बाद उसे नहाने नहीं देती थींजबकि वह छुट्टी के दिन हमेशा दो तीन बजा लेती थी नहाने मेंउसने बाथरूम के आईने में देखा गरदन की त्वचा ढीली पडने लगी हैतीन गहरी रेखाएं दूर से दिखने लगी हैंसिहर कर रोहिणी ने आंखें बन्द कर लींउसने ढेर सारा स्क्रब लिया और गरदन रगडने लगीउसे याद आया सिनर्जी की रिंकलफ्री क्रीम  अपने आज को कल में बदलिये फिर परसों क्या होगा? एक व्यंग्य मन में उभराउसे किसी का जुमला याद आया  गैर शादीशुदा औरत बूढी नहीं होती ढलती नहीं है...वह सूखती है दीमक लगे पेड क़ी तरहमन खट्टा होकर दिन का पूरा स्वाद कसैला करता उससे पहले ही उसने स्वयं को संभालाछि: किसलिये स्वयं को नकारना?

उसने अगर सोचा है कि वह ग्रेसफुली बिना फ्रस्ट्रेशन के बुद्ढी होगी तो बस वही फाईनलकल से ये सब हटा देगी नो हेयर कलरिंग, नो सनस्क्रीन, नो मास्क नथिंग ढेर सारी पेस्टल शेड्स की साडियां पहनेगीसारी अगडम बगडम गोल्ड ज्वैलरी जो मां उसी के पैसों से बनवा कर छोड ग़ई थीं, बेच बाच कर डीसेन्ट पर्ल्स और सॉलिटेयर डायमण्ड्स पहना करेगी

उसने कस कस कर बदन रगडा, कोहनियां, एडियां और चेहरा बिना दुबारा आईने में देखे बाहर निकल आईकल यह कमबख्त आईना ही बाथरूम से उखडवा देगीबाहर आकर पैरों पर हाथों पर हैण्डलोशन मल कर उसने बाथरोब उतार दिया फिर सामने ड्रेसिंग टेबल शरीर के खुले हिस्से की बनिस्पत शरीर का ढका हुआ हिस्सा अभी इतना ढला नहीं है सारे अवयव अपनी जगह पर हैंकसे हुएफिर अपने आप पर मुग्ध होने ही लगी थी कि लौटती धूप में दीवार पर पडती अपनी बौनी और मोटी होती अपनी ही परछांई देख फिर सिहर गईड्रेसिंग टेबल पर रखी रंग बिरंगी शीशियों में से एन्टीसेल्यूलाईट बॉडी लोशन निकाल देह पर चुपड लियाअपना मूड ठीक करने के लिये नारंगी रंग का ब्राईट सलवार कुर्ता निकाल कर पहन लियाबाल फैला लिये

अब? चार बज गये थेरोहिणी ने अखबार उठा लिया उठ कर धूप के एक टुकडे क़े केन्द्र में में आ खडी हुईअहाते और फिर सडक़ पर कोलाहल जारी थाबच्चों के झुण्ड, स्कूटर - कार टेक्सियों में भर भर कर आते जाते लोगउसेर् ईष्या हुईकहां आते जाते होंगे ये लोग अपनों से मिलने मिलानेसपरिवार छुट्टी बिताने

कॉलेज में व्यस्त रहती है तो नौ से चार बजे तक पता ही नहीं चलताक्लासेज, फ़िर प्रेक्टिकल्स स्टाफरूम रोज क़ोई न कोई आयोजन कभी साईन्स फेयर कभी ये कॉम्पीटिशन कभी वो इसीलिये वह प्रिन्सीपल को किसी एक्स्ट्राकैरिक्युलर एक्टिविटी में इनवॉल्व करने के लिये मना नहीं करतीचाहे वह ड्रामा या डान्स ही क्यों न होकुछ नहीं तो लैब में बैठकर स्लाईड्स तैयार करने में लैबअसिस्टेन्ट की मदद भी कर देती हैतब फार्मलीन की स्थायी रूप से बस गई गन्ध भी इस भीषण एकान्त से भली लगती है

वह फिर अन्दर आकर तकिये पर गीले बाल फैला पसर गईबालों में से आती शैम्पू की गंध उसे नई लगीदुपटट्ा बगल में रखा था, नीचे गले के कुर्ते में से ताम्बई त्वचा का उठान दिख रहा था, उसने अपनी इस अस्तव्यस्तता को ठीक नहीं किया, बल्कि वहां बार बार बार देखना अच्छा लग रहा थासाथ ही उसे सुबोध के सीने के बाल याद आ गयेदेह मीठे रस से सराबोर हो गयी न जाने कब उसकी आंख मुंदी वह सो गयी उठी जब काशीबाई आई

'' बर्तन मांज लो बस। आज खाना मैं बाहर खाऊंगी।''

ड्रेसिंगटेबल पर रखी बॉटल्स में से उसने अपना मनपसन्द आकर्षक चेहरा निकाला लगा लियानाहिद के घर जाते हुए टैक्सी में वह बहुत कुछ सोच रही थी

'सबसे पहले अब वह कार लोन के लिये एप्लाय करेगी।

' बहुत दिनों बाद आज नाहिद के कुक के हाथ के सीख कबाब खाने को मिलेंगे।

' नाहिद का हस्बैण्ड है हैण्डसम....बडी रुचि लेकर बात करता है। आखिर है भी तो आर्मीऑफिसर।

'नाहिद कितना कहती है, ''मेरी पर्सनल पार्टीज में तो आ जाया कर। हैं कुछ क्रोनिक बैचलर भी हमारे युनिट में।'' ऐसी बात पर वह चिढ क़र कहती थी सीधे सीधे कह न हण्ट पर आ जा।

उसने टैक्सी एक बुक शॉप पर रोकी, पास के फ्लोरिस्ट से ढेर सारे फूल लिये, फिर अन्दर उसे लैडी चैटरलीज लवर दिख गई उसने खरीद कर पर्स में डाल ली, मुडक़र एक ढीठ मुस्कान के साथ टैक्सी में जा बैठीसूखे हाथों पर एक बार फिर हैण्डलोशन मला, कॉम्पेक्ट का एक स्ट्रोक चेहरे पर लगाया सडक़ पर बाहर देखने लगीकैन्टोनमेन्ट पहुंचने के संकेत मिलने लगे थे

मनीषा कुलश्रेष्ठ

Top    

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com