मुखपृष्ठ  |  कहानीकविता | कार्टून कार्यशालाकैशोर्यचित्र-लेख |  दृष्टिकोणनृत्यनिबन्धदेस-परदेसपरिवार | फीचर | बच्चों की दुनियाभक्ति-काल धर्मरसोईलेखकव्यक्तित्वव्यंग्यविविधा |  संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 

आंखों में किरकिराते रिश्ते


सुबह से मन कच्चा - कच्चा सा हो रहा थाराखी का दिनबचपन याद आ रहा थाचूल्हे पर धीरे धीरे पकती खीर में पडी क़ेसर की खुश्बू! हाथों में मेहन्दी के फूल! राखी के रेशमी - चमकीले, रंगीन धागे! सुबह से नहा कर, नये कपडे पहन कर दोनों भाई - बहन घर में दौड लगाते रहते थे, एक रौनक - सी हो जाती थी घर में

'' ऐऽ मत खा मिठाई, मैं ने सुबह से कुछ नहीं खाया तुझे राखी बांधने के लिये। मैं अकेली क्यों भूखी रहूँ?''
''
जा ऽ जा मैं तो खाऊंगा। तुझे राखी बांधनी है तो तू रह भूखी।
''
जा मैं तुझे राखी ही नहीं बांधूंगी।''
''
मैं तुझे पैसे भी नहीं दूंगा!''
''
मत दे, वैसे भी पैसे तो पापा देंगे। तू कौनसा कमाता है।''
''
मम्मीऽ मुझे भी पैसे देना, जितने इसको दो।''
''
हाँ, मेरा राजा बेटा, तुझे भी पैसे मिलेंगेपहले बहन से राखी बंधवा ले।'' बराबर के पैसे मिलने की शर्त पर राखी की रस्म पूरी होती। फिर तो वह थाली की दस की दस राखियां बांध कर दोस्तों को भरी कलाई दिखाने चल पडता।

कहाँ चला गया बचपन? कहां खो गये वो रिश्ते? एक ही कोख से जन्मे भाई - बहनों के बीच क्या ऐसे भी दूरियां आ जाती हैं? बहुत सारे आंसू आंख में भर आयेबहुत सूना - सूना सा लग रहा था आज का दिन, दोनों बच्चे अपने पापा के साथ बहुत जिद करके  कोई मिल गया  पिक्चर देखने चले गये थे, राखी की रस्म पूरी करकेबच्चों ने उससे चलने की बहुत जिद की थी पर वह रुक गई थी कि राखी का दिन है जाने कौनसी ननद चली आयें पास के शहर में ही तो तीनों रहती हैंकोई आ गया तो कम से कम वह घर पर मिलेगी

अब अकेलापन न जाने कितनी पुरानी स्मृतियां खखोर रहा था
बचपन, कैशोर्य के वो दिन जब वह उसका पूरा ख्याल रखा करता था, इस सहेली के घर से लाना, टयूशन पर छोड क़र आना, उसका पीछा करने वाले लडक़ों से झगड पडनाफिर भाई की पहली नौकरी की पहली तनख्वाह की गिफ्ट! उसकी शादी पर उसका घन्टों कमरा बन्द करके रोना फिर भाई का एक विजातीय लडक़ी से प्रेम सम्बन्ध होनाउससे विवाह के लिये घर में उसका विरोध, लडाई झगडा, एक वही थी जिसने मम्मी को मनाया था उस विवाह के लियेवह लडक़ी से मिली थी, उस लडक़ी ने कितने वादे किये थे - '' दीदी, जैसा मम्मी चाहेंगी वैसा होगा, मैं अच्छी बहू बन कर दिखाऊंगी, आपके परिवार की परम्परायें अब मेरी हैं''

कितनी - कितनी दलीलें दीं उसने मम्मी को, भाई और पद्मा की शादी को लेकरमम्मी जन्मपत्रिकाएं दिखवा कर कह चुकी थीं, '' बेटा जाति का झगडा छोड भी दूं तो यह लडक़ी शुभ नहीं है उसके लियेकल ही तो जोशी जी पत्रिकाएं देख कर गये हैं, तेरे सामने''
'' मम्मी ये पुरातनपंती बातें छो
डो। लडक़ी देखने में ठीक ही है कर दो उसके मन की''

उसीके मन की हो गयी थीपर एक महीने में ही झगडे शुरु हो गये थेफिर दोनों अलग हो गये पास ही में अलग घर लेकर रहने लगे मम्मी - पापा से मिलने आते जाते रहते थे अलग हुए छ: महीने बीते भी न थे कि वह दुर्घटना घट गई, जिसमें उसका एक पैर चला गयाइतना बडा हादसा शायद फिर परिवार को जोड रहा थालग रहा था, शायद उन दोनों को अपनी गलती का अहसास हो गया होगासुबह के भूले घर को लौट आयेंगे

मम्मी अस्पताल में दिन - रात एक करके उसकी सेवा करती रहीं थी, अपना अशक्त बुढापा भुला करतन - मन - धन तीनों झौंक कर उन्होंने तीन महीने उसके साथ अस्पताल में बिताये, उसकी पत्नी अपने मायके में थी, उसे भी चोट आई थीवह स्वयं घर - पति - बच्चे छोड क़र मायके के चक्कर काटती रहीहरसंभव सहायता करती रही उसके पति भी पीछे नहीं रहे थे भाई की सेवा में, उसे गोद में उठा उठा कर एक्सरे वगैरह के लिये ले जातेवह भी मम्मी के बहुत करीब आ गया था, दिन रात कहता, '' तुमने मुझे नयी जिन्दगी दी हैमेरा हाथ पकडे रहोमुझे सुला दो बहुत दर्द है'' मम्मी आंसू बहाती उसके करीब रात रात खडी रहतींकभी कभी वह जिद करके मम्मी को घर भेज देती देती और स्वयं उसका युरिन बैग बदलती, गन्दा बिस्तर साफ करतीशर्म छोड एक बच्चे की तरह उसके कपडे बदलवातीसबके सहयोग व सेवा से वह घर लौट आया था, कृत्रिम आधुनिक तकनीक वाले नये पैर के सहारे चलता हुआवह लौट कर अपने अलग घर में नहीं गयापत्नी से कह दिया था, '' तुझे आना हो आ जाना, मैं अब अपनी मम्मी से अलग नहीं रहूंगा''

पर कुछ सप्ताहों में ही फिर पासा पलट गया था
इस बार वह सारे रिश्ते ही तोड क़र चला गया, यह इल्जाम देकर कि , '' मेरे ससुराल वाले तो एयरोप्लेन से बम्बई ले जाते  मेरा पैर बच जाता, तुमने तो कटवा ही दिया'' सबने समझाया भी कि पैर में तो उसी दिन डिमार्केशन लाइन आ गई थी, बम्बई जाकर भी वह कटता हीलेकिन अब वह किसी की बात नहीं सुन सकता था, सिवाय अपनी पत्नी के

रिश्ते फिर किर्च किर्च बिखर गये थे दिलों में दूरियां ही नहीं हुईं बल्कि अलगाव की मोटी अभेद्य दीवारें खिंच गई थींपर मम्मी के मन में उसके अपाहिज होने का दर्द हमेशा बना रहा
'' बेटा, अपाहिज न हो गया होता तो मैं उसे भूल जाती
पर मन में रह रह कर लगता है कि न जाने वह क्या करता होगा! कैसी कैसी नयी परेशानियां होती होंगी, रोजमर्रा की जिन्दगी में''
'' करता क्या होगा, कार चलाता है, बीवी को लेकर घूमता है
खुश रहता है'' पापा चिढ क़र कहते
'' अच्छा है, खुश रहे बस हमें क्या
''
स्वयं वह उसके लिये यहीं इसी अपंगता की वजह से पिघल जाती थी
आज बार बार दिल में आ रहा था कि आज राखी के बहाने भाई को फोन कर लेक्या हुआ जो पिछली बार मायके जाने पर वह उसके सामने से मुंह मोड क़र निकल गया था, मुस्कुराया तक न थावह भूल गया तो क्या, राखी पर उसका तो फर्ज बनता हैस्वयं को बहुत रोका भी पति के डर से  वह जरूर नाराज क़र कहेंगे कि वह ही जब रिश्ता नहीं रखता तो तुम क्यों मरी जा रही हो

जब मन भावुकता के अतिरेक से भर गया तो उसने उसके मोबाइल पर कॉल किया, फोन उसकी पत्नी ने उठाया -

'' हाँ, पद्मा, मुझे शान्तनु से बात करनी है।''
नेपथ्य में आवाजें गूंजी -
''
उसीका फोन है, अरे वही ऽऽ कविताऽऽऽऽऽ।'' पंजाबी लहज़ा और कठोर हो गया था उसका नाम लेते हुए।
''
हलो।''
''
हलो।'' उसकी लरजती आवाज क़ी नमी भी, भाई की रूखी आवाज क़ो कोमल न कर सकी।
''
कैसा है? ''
''
ठीक हूँ।'' सगे भाई की आवाज क़ा रूखापन उसकी आत्मा को छील रहा था।
''
बस तेरी खैरियत जानने के लिये ही'' आगे बोल पाने की गुंजाइश नहीं थीफोन कट चुका था।

फोन लिये वह संज्ञाशून्य बैठी रही फूट फूट के रोना चाहती थी कि बाहर बच्चों का शोर सुनाई दिया
'' कोई मिल गऽऽऽऽऽऽयाऽऽऽ'' गुनगुनाते हुए दोनों बच्चे घर में घुसे

वह छिपा गई पति से फोन वाली बात हाथ मुंह धोकर वह चाय बनाने किचन में जा ही रही थी तो बाहर ड्रॉइंगरूम में से इनकी आवाज यी,
'' सुनो कविता देखो कौन आया है?''
'' अरे नीलू! कैसे हो?''
'' थीक हैं जीऽज्जी
छोचा इछ लाखी पे अपनी जिज्जी से लाखी बंधवां आयें! आज पास हैं, कल टरान्सफर पे दूर चलीं गईं तो! ''
'' कब चले? ''
'' सुभे की टरेन से चले थे, संझा होने आई

'' अच्छा किया तुमने आकर
तुम बैठो मैं चाय ले आऊं''
'' न्ना चाय - फाय तो अब लाखी बंधवाय के ही पियेंगे
बल्के खानो ही थाय लेंगे सीधे मम्मी ने कही थी लाखी बांध के ही कुछ खाइयों''

उसकी मासूम बातें सुन कर उसका मन उत्फुल्ल हो गया था, उसकी दो साल से सूनी पडी राखी आज मनेगीक्या हुआ जो उसका ये अपने सगे भाई का हमउम्र चचेरा भाई बचपन ही से मंद बुध्दि हैकम से कम अपनी इस बहन से प्यार तो रखता हैइतनी दूर से चल कर आया है, अपनी निश्छल - निस्वार्थ भावनाएं लेकर!

उसने जल्दी से रेशम के घुंघरू बंधे धागे थाली में रखे, मिठाई रखी, दिया जलाया, रोली - चावल लेकर, इस अनोखे स्नेहिल भाई के सामने आ गई, बडे स्नेह से टीका करके राखी बांधी, मिठाई खिलाईनीलू उठा उसने पैर छुए और जेब से 100 रू का नोट निकाल कर थाली में डाल दिया
'' नहीं नीलू भैया हम आपसे इतने पैसे नहीं लेंगे, आप आ गये यही बहुत है
नहीं तो हमारी यह राखी भी सूनी जाती'' आवाज में उस फोन वाली घटना की पीडा थी
'' चिन्ता च्यों करती हो जिज्जी, हम भी अब कमाते हैं, एक फैक्तरी में काम करते हैं, तुम्हें लेने पलेंगे, वलना नाराज हो जायेंगे हां हम
''

उसके आंसू अब कैसे रुकते? वह फूट फूट कर रो पडीनीलू भैया, पतिदेव, दोनों बच्चे हतप्रभ थे

 

मनीषा कुलश्रेष्ठ
अगस्त 13, 2003

Top    

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com