मुखपृष्ठ  कहानीकविता | कार्टून कार्यशालाकैशोर्यचित्र-लेख |  दृष्टिकोणनृत्यनिबन्धदेस-परदेसपरिवार | फीचर | बच्चों की दुनियाभक्ति-काल धर्मरसोईलेखकव्यक्तित्वव्यंग्यविविधा |   संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 

आसमानी रंग
वह जिस लड़की से प्यार करते थे, वह तंग गली में रहती थी। उसके मकान के आगे-पीछे दोनों तरफ़ गलियाँ थी और दोनों गलियाँ, नालियों से अटी हुई थी और वहाँ बेज़ा गंदगी रहती थी। मकान के पीछे की अपेक्षा आगे की गली में सदैव आवाज़ाही बनी रहती थी। वह गली ठीक बस स्टाप के पीछे और उसके घर के सामने थी। पिताजी की बहुत जान-पहचान व कड़क स्वभाव और गंदी गलियों में विचरने से उठने वाले सवाल और संदेहों से बचने के लिए वह पीछे वाली गली से लाईन मारा करते थे। जहाँ अकसर उनकी प्रेमिका घर का कूड़ा-करकट बाहर फेंकती हुयी या अपने छोटे-भाई बहनों की पोंद धुलाती हुई दिख जाती थी। पूरे तीन साल गली के पूरब और पश्चिम छोर से उन्होंने ताका-झाँकी की पर पूरे प्रयत्न के बाद भी वह उसका पूरा चेहरा नहीं देख पाये। उसका बाँया और दाँया चेहरा देखकर ही उन्होंने एक खूबसूरत लड़की की कल्पना की थी। यह कल्पना उन्हें आसमानी रंग सा शकुन देती थी।

यूँ तो उनके जीवन में अनेक रंग आये और चले गये पर जो रंग उनके जीवन में आकर ठहर गये वह आसमानी और कच्चे हरे रंगों से बने पल थे। इन पलों में बहुत से उस गली में गुज़रे थे। उस वक्त़ जब उनकी समझ विकसित हो चुकी थी... बरसात के दिनों में बादलों के गरजने,बरसने और मई-जून के महीनों में सूरज के तपने और दिसम्बर में मुरझा जाने के मतलब वह समझ चुके थे। उस वक्त़ तक वह यह भी समझ चुके थे, उनका बचपना संयुक्त परिवार में बचपन जैसा नहीं अपितु निर्वाह जैसी चीज़ बनकर रह गया हैं। जीवन की बहुत अनिवार्य सुविधाएँ और भरपेट भोजन के साथ, उनके सामने एक बहुत बड़ी चुनौेती रख दी गई थी... " यह तुम्हारा जीवन है। इसे तुम जैसा चाहो बना लो।" जिले में कईक कोयला खदानें हैं। खदानों में कई तरह की नौकरियाँ हैं। जैसा और जितनी समझ और जितना ज्ञान, वैसी नौकरी की ग्यारंटी परिवार और समाज उन्हंे दे चुका था। पर कोयला खदानों में पालियों में काम करना और लोगों को करता देखना उन्हें कतई पसंद नहीं था।

बचपन का बचपना, बचपन के खेल, बचपन के मजे, बचपन की दौड़-धूप, बचपन का रोना-गाना,बचपने को मनाना-फुसलाना जैसे क्षण उनके बचपन में नहीं आये। उनके साथ ही घर में अन्य दूसरे बचपनों की भी यही स्थिति थी। यदाकदा घर की महिलायें वात्सल्य भरी दृष्टि फेर देती थी पर सदैव घर के काम में ही जुटी रहती।

उस वक्त़ सूरज के उगने के साथ ही घर में रोशनी हुआ करती थी और सूरज के डूबने के साथ ही घर अँधेरों से घिरा होता था। थोड़ी-बहुत जो रोशनी होती वह या तो चूल्हे के आसपास होती या एक छोटी सी ढिबरी में बन्द केरोसिन आईल में डूबी हुई कपड़े की ब>ाी में होती। घर के सामने तुलसी के पौधे के चौरे पर एक मीठे तेल का दीया गोधूली बेला से जलता ज़रूर था पर कम तेल होने से जल्दी बुझ भी जाता था। जितना घर के पुरूष घर के बाहर रहकर काम करते, उससे अधिक काम घर में, घर की महिलाओं के लिये होता था। उस समय तक गाँव में बिजली नहीं आयी थी और बच्चे दीये की रोशनी में घेरा बनाये बैठे अपनी पढ़ाई किया करते थे।

दादा-दादी, चाचा-चाची, बुआ, सगे व चचेरे भाई बहनों व दो मौसियों के बीच रहकर भी वह अपने आपको बेहद अकेला पाते थे। घर के सारे सदस्यों को यंत्रवत, अपनी-अपनी दिशा में घूमते देख वह अनमने से हो जाते थे। ऐसे में उन्हंे बस स्टाप के पीछे वाली गली बहुत याद आती और उनके आसपास छाये आसमानी रंग और प्रखर हो जाते। वह दसवी, ग्यारहवी कक्षा के दिन हुआ करते थे। घर और स्कूल में उनका एक ही काम था .... पढ़ाई और सिऱ्फ पढ़ाई। इसके बावज़ूद वह अपने अनमनेपन से बाहर निकलने के लिये सुबह शाम यानि स्कूल जाने से पहले और स्कूल से आने के बाद बस स्टाप के दो चक्कर अवश्य लगा लिया करते थे, जहाँ उन्हंे यदाकदा उस लड़की की थोड़ी बहुत झलक मिल जाती थी।

कई बार उन्होंने चाहा कि एक बार सामने की गली से उसके मकान के सामने से गुज़रे। उसके मकान के अन्दर तक झाँककर देखे। उसे एकदम नज़दीक से देखे... देखकर अपने बहुत अन्दर तक महसूस करे। मगर यह हो न सका। अपने पहचाने जाने की आशंका और किसी भी प्रकार के संदेह से पिता का लाल-पीला हो सकने वाला चेहरा उन्हंे हतोत्साहित करता रहा था। वह चाहकर भी ऐसा नहीं कर सके थे। उनके इसी दब्बू स्वभाव के कारण उनके सबसे प्रिय आसमानी रंग जमीन पर नहीं उतर पाये। पर इन्हीं रंगों की कल्पनाओं के साथ उन्होंने मैट्रिक किया, फिर नगर से दूर रहकर स्नातक की परीक्षा पास किया। स्नातको>ार परीक्षा के प्रथम वर्ष में ही उन्हंे पोस्ट ऑफ़िस की पोस्ट मास्टरी मिल गई थी। वह आसमानी रंगों के साथ, एक गाँव से दूसरे गाँव, एक पोस्ट ऑफ़िस से दूसरे पोस्ट ऑफ़िस में तीन-तीन, चार-चार वर्षों के अन्तराल में भटकते रहे।

अपने रिटायरमेंट के अंतिम दिनों में वह अपने नगर पहुँच गये थे। उनकी पोस्टिंग ठीक बस स्टाप के पास वाले पोस्ट ऑफ़िस में हुई, जहाँ से कभी उन्होंने आसमानी रंगों के पल बटोरे थे और जो बहुत दिनों तक उनके जीवन में धुंधले नहीं हुये थे।

एक दिन अचानक उनके कदम बस स्टाप के पीछे और उस मकान के सामने वाली गली की ओर मुड़ गये, जहाँ पहले कभी जाने से वह बेहद डर जाया करते थे। वह इन गलियों से युवावस्था में चुराये गये आसमानी रंग के बारे में सोच ही रहे थे कि उन्हें सामने से अपना बेटा दीनू आता हुआ दिखाई दिया। उसकी चाल में बेहद अल्हड़पन और आँखों में आसमानी रंगों के बादल का एक छोटा सा टुकड़ा था। एक पल तो वह ठिठककर खडे हो गये पर फौरन वहाँ से हट भी गये। वह नहीं चाहते थे कि उनके बेटे दीनू की नज़र उन पर पड़े और उसकी आँखों मं
झलक रहे आसमानी रंग डरकर बिखर जाये।


राजेश झरपुरे
मार्च 15, 2006
 

Top

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com