मुखपृष्ठ  कहानीकविता | कार्टून कार्यशालाकैशोर्यचित्र-लेख |  दृष्टिकोणनृत्यनिबन्धदेस-परदेसपरिवार | फीचर | बच्चों की दुनियाभक्ति-काल धर्मरसोईलेखकव्यक्तित्वव्यंग्यविविधा |   संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 

लघुकथा
संतोष
मकान का काम लगा हुआ था । करीब ६ मजदूर २ मिस्त्री काम पर थे । मदन मजदूर ठीक ८ बजे सुबह आ जाता व ५ बजे अपने घर चला जाता । वह सबसे मेहनती व खुशमिजाज़ इन्सान था । मकान का काम जब तेज़ी पर था तो मैंने मजदूरों को ओवरटाईम देकर पगार बढ़ाकर लालच दिया, कि काम जल्दी निपट जाये । मेरी छुट्टियाँ भी कम रह गईं थीं । मदन को छोड़कर सारे मजदूर इसके लिये राजी हो गये । दूसरे दिन जब मदन घर पर जाने लगा तो मैंने पूछा, ``क्यों भई, पैसे बुरे लगते हैं क्या, तुम भी रूक जाओ ।''

वह रूका, मुस्काया व बोला, ``साहिबा, घर पर ५ बते के बाद घरवाली बाट जोहती है, बच्चे खेलते-कूदते मेरा इन्तजार करते हैं । हम सब इकट्ठे चाय-पानी पीतें, रोटी खाते हैं । हम खुश हैं, साहिबा । पैसा जितना आएगा, खुशियाँ ले जायेगा । सलाम, साहिबा।'' और वो अपना रोटी का डिब्बा उठाये चला गया व मैं राह ताकती रह गयी ।


 

शबनम शर्मा
अप्रेल 1
, 2006
 

Top

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com