मुखपृष्ठ  |  कहानीकविता | कार्टून कार्यशालाकैशोर्यचित्र-लेख |  दृष्टिकोणनृत्यनिबन्धदेस-परदेसपरिवार | फीचर | बच्चों की दुनियाभक्ति-काल धर्मरसोईलेखकव्यक्तित्वव्यंग्यविविधा |  संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 


 

 

जो टूट गया है भीतर
एक अवयव टूट कर बिखर गया है कहीं भीतर
लहूलुहान सा हो गया है मेरा अन्तकरण
पीड़ा व्यक्त होने की सीमा तक,
आकर ठहर गई है।
कुछ देर और इसी तरह मुस्कुराते रहना है मुझे
इसी सयानी दुनिया में निस्संग
सहज ही बने रहना है
सफर में, बाकी बरस कुछ और

क्या फर्क पड़ता है नदी की शान में,
कितना बदल गया है मेरा अहसास
किसे परवाह
क्यों पीली पड़ गई दिखती हैं
भरी दोपहर में दरख्तों की हरी पत्तियाँ
सड़कों पर दूर तक दहशत
और दरारें निकल आई हैं परकोटे की भींत में
सहम गई हैं उजड़े हुए किले की पुरानी दीवारें
कहीं भूकम्प आने को है शायद
समय के गर्भ में।
यह दृश्य इतना बेरंग तो नहीं दिखा था कभी
इतनी हताश तो नहीं दिखी थी
चाँद और सूरज की रौशनी,
नदी उलट कर लौटने लगी है
अपने ही उद्गम की ओर।
धुआं आसमान से उतर कर
समाने लगा है चिमनी की कोख में।
अपनी उड़ान बीच ही में समेट
उतर आए हैं असंख्य पक्षी
इस सूखे बंजर ताल में,
तुम क्यों उदास होती हो
तुम्हें तो मिल ही जाएगी
अपने हिस्से की ठण्डी झील
हरी संवेदना
मुँह अँधेरे उड़ जाना उगते सूरज की सीध
पलट कर भी न देखना
इस उजाड़ बंजर ताल को आँख भर ,

तुम किसकिस के लिये करोगी पछतावे
किसके आहत होने का रखोगी ख़याल
अपनी करवट बदलती दुनिया में,
जो टूट गया है अवयव
किसी के भीतर, उसे उबर कर आने दो
अपनी आत्म पीड़ा से
सहने दो अपने हिस्से का अवसाद
चुन लेने दो जीये हुए अनुभव का कोई अंश
शायद बच रहा हो कहीं एक संकल्प
शेष संभावना।


        

  उसकी स्मृतियों में


जिस वक्त में यहाँ होता हूँ
आपकी आँख में
कहीं और भी तो जी रहा होता हूँ
किसी की स्मृतियों में शेष
शायद वहीं से आती है मुझमें ऊर्जा
इस थका देने वाली जीव यात्रा में
फिर से नया उल्ला
एक सघन आवेग की तरह
आती है वह मेरे उलझे हुए संसार में
और सुगंध की तरह
समा जाती है समय की संधियों में मौन
मुझे राग और रिश्तों के नये आशय समझाती हुई।

उसकी अगुवाई में तैरते हैं अनगिनत सपने
सुनहरी कल्पनाओं का अटूट एक सिलसिला
वह आती है इस रूखे संसार में
फूलों से लदी घाटियों की स्मृतियों के साथ
और बरसाती नदी की तरह फैल जाती है
समूचे ताल र्में
उसी की निश्छल हँसी में चमकते हैं
चाँद और सितारे पूरी रात
सवेरे रेतीले धोरों पर उगते सूर्य का आलोक
वह विचरती है रेतीले गठानों पर निरावेग
जब
उमड़ती हुई घटाओं के अन्तराल में गूँजता है
लहराते मोरों का एकर्लगान
मन की उमंग में थिरक उठती है वह
नन्हीं बूँदों की ताल पर।

उसकी छवियों में उभर आता है
भीगी हुई धरती का उर्वर आवेग
वह आँधी की तरह घुल जाती है
मेह के चौतरफा विस्तार में

मेरी स्मृतियों के आकाश में
देर तक रहता है उसके होने का आभास
मुझे सहेज कर जीना है
उसकी ऊर्जा को अनवरत।

 

नन्द भारद्वाज
 

 

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com