मुखपृष्ठ  |  कहानीकविता | कार्टून कार्यशालाकैशोर्यचित्र-लेख |  दृष्टिकोणनृत्यनिबन्धदेस-परदेसपरिवार | फीचर | बच्चों की दुनियाभक्ति-काल धर्मरसोईलेखकव्यक्तित्वव्यंग्यविविधा |  संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 



 

 

 

अपरिभाषित परिभाषा

मन में थी अभिलाषा
लिखूँ प्यार की परिभाषा .
किंतु हर बार टूटती थी मेरी आशा .
क्योंकि मैं भूल गया था .
प्यार केवल एक शब्द नहीं है .
शब्दों में व्यक्त करने का
इसका कोई अर्थ भी नही है .
प्यार तो है एक अनुभूति .
चाहे यह अनुभूति हो
माँ के आँचल के सान्निध्य की
या फिर हो
किलकारियों के लिये
हृदय मे उठते वात्सल्य की .
या हो अनुभूति
प्रेमिका के मुस्कुराहट युक्त आलिंगन की .
अरे.. यह क्या
मैं अपनी ही बात भूल गया
शब्दों की उधेडबुन में उलझ गया
और एक बार फिर
प्यार को
शब्दों में परिभाषित करने का
असफल प्रयास कर गया।

-संजय वर्मा
 

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com