मुखपृष्ठ  |  कहानीकविता | कार्टून कार्यशालाकैशोर्यचित्र-लेख |  दृष्टिकोणनृत्यनिबन्धदेस-परदेसपरिवार | फीचर | बच्चों की दुनियाभक्ति-काल धर्मरसोईलेखकव्यक्तित्वव्यंग्यविविधा |  संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 



 

 

 

 

 



   
 
        

 

सम पर आकर टूटती
लय
क्या पाती होगी वह?
अपने ही जैसी हाड़ मांस की बनी
नाज़ुक औरत के भीतर?
क्या पढ़ती होगी वह
एक लिपि अपनी ही सी गूढ़
एक शैली अपनी ही सी
कुछ जानी कुछ अनजानी
उन धड़कते सीनों का संगीत तो
अपना ही सा होगा!
नर्मो नाज़ुक कलाइयों का बंध
क्या कोई सुरक्षा का अहसास देता होगा?
कैसा अजब होता होगा वह समर्पण दोतरफा
जहां समभाव पर जाकर टूटती होगी लय
वृक्ष को उपेक्षित कर बढ़ जाती होगी
कोई वल्लरी फैलाये अपने पर्ण वृन्त
अपनी ही सी किसी लता की और
एक नदी पलट कर बहती हुई
दूसरी नदी की ओर
एक जन्मजात आकर्षण
एक कुचला अहं
एक अवश विवशता
एक अधूरी कामना
एक चोट अतीत की
एक बावरा आवारा ज़िद्दी जीन
कहां से उपजी होगी यह
स्वयं को स्वयं में पूर्ण कर लेने की
अनमनी चाह?
इस संर्कीण सी ज़मीन पर अपने भीतर
अपना सा कोई कोना ढूंढ लेने की
फड़फड़ाती चाह!
पाश्चात्य सी लगती
यह धुन नई तो नहीं
यहां इस भारतीय समाज में
पलती रही है औरत के भीतर सदियों से
ज़िन्दा रही है घुट कर सिसक कर
असामाजिक करार कर दिये जाने के बाद भी
खजुराहो की मूर्तियों में
मुगल हरमों की कहानियों में
पूरी ढिठाई से!
आज यही दबी घुटी धुन
आज सांस लेना चाहती है
यहीं इसी समाज में खुल कर
दो व्यक्तियों के आपसी आकर्षण का
एक सहज और
नितान्त वैयक्तिक मामला बन कर
आखिर फर्क क्या पड़ता है हमें
हम जो समाज की इकाइयां हैं
अपने आप में अलग परिपूर्ण
नहीं जाती एक सीमा से बंधी दृष्टि हमारी
रिश्तों की पारदर्शिता के परे
अगर नहीं देखा हमने कुछ इस दुनिया से परे
तो क्या वह गूढ़ संसार अपने आप में पूरा नहीं?
क्योंकर हो वह ' असामान्य' 'विकृत' ?
क्या हक बनता है हमें
किसी भी कोमल रिश्ते को उधेड़ने का?
आपस में लिपटी वल्लरियों की जड़ें खोदने का?
मगर फिर भी
एक उत्सुकता जागती है
क्या पाती होगी वह
कैसा अजब होता होगा वह समर्पण दोतरफा
जहां सम पर आकर टूटती होगी लय!

-मनीषा कुलश्रेष्ठ

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com