मुखपृष्ठ  |  कहानीकविता | कार्टून कार्यशालाकैशोर्यचित्र-लेख |  दृष्टिकोणनृत्यनिबन्धदेस-परदेसपरिवार | फीचर | बच्चों की दुनियाभक्ति-काल धर्मरसोईलेखकव्यक्तित्वव्यंग्यविविधा |  संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 



        


इक मां बिलखती है
इक मां बिलखती है
इधर भी, उधर भी ।
इक बेटा शहीद है
इधर भी, उधर भी ।
दिल तो जला बहुत
चूल्हा नही जला है
नफरत सुलगती है
इधर भी, उधर भी ।
हिम्मत तो नंगे होकर
बज़्म में आओ
पाकीज़गी का चोला
इधर भी, उधर भी ।
मानस की ज़ात एक
ग्रंथों में रह गई
दीन का ज़ोर है
इधर भी, उधर भी ।
रब्ब से डरें “अश्क” गर
शायद कुछ कर भी पाएं
फतवों ने किया नपुंसक
इधर भी, उधर भी ।

वैंकूवर सन की 30 जनवरी 2004 की एडीशन में दो चित्र साथ – साथ थे। एक में पैलेसटीन की फातिमा अटवी और दूसरे में इज़राईल की टसीपोरा एवीटान अपने बेटों के मारे जाने पर ज़ार – ज़ार रो रहीं थी।ये कविता मेरा एक छोटा सा यत्न है उनकी पीड़ा को सामने लाने का इस. अमानवीय जंग के खिलाफ आवाज़ उठाने का ।

-हरदेव सोढ़ी 'अश्क'
फरवरी 15‚ 2004

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com