मुखपृष्ठ  |  कहानीकविता | कार्टून कार्यशालाकैशोर्यचित्र-लेख |  दृष्टिकोणनृत्यनिबन्धदेस-परदेसपरिवार | फीचर | बच्चों की दुनियाभक्ति-काल धर्मरसोईलेखकव्यक्तित्वव्यंग्यविविधा |  संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 

घर तुम्हारी छांव में
जैसे अपने ही पांवों की
आवाजाही से अनजान
यह भीतर तक आता — घर का रास्ता
किसी के लौटने का
इंतज़ार करता हो बरसों – बरस!
हमी ने बनाया था जिसे
अपनी जीवारी और जान की खातिर
उजाड़ में भागते आंखें मींच
हमारे ही नंगे पांवों ने झेली थी
वह चिलमिलाती धूप — समय की मार
अपनों की बेरुखी और बिसराव से
बरसों अनजान रही यह देहरी —
— यह अपनापे का बचा हुआ संसार!
आदत की बात नहीं है —
अपने अस्तित्व और घर की सलामती के लिये
रोज़ सवेरे चाहे — अनचाहे
निकलना ही होता है घर से बाहर
अपनी मेहनत का सीगा खोजने
अपने ही सरीखे हज़ारों – लाखों के बीच
हम्माली करते‚ हाड़ तोड़ते
अपनों को बचाये रखने का जतन करते —
उफनती धाराओं और घाटियों के पार
अनजाने निकल जाते दूर — अपनों की दीठ से
बांधे रखते अपनी पिराती पीठ पर
छूटी देहरी का दु:ख —
यह ख्याल रखते कि संध्या – काल
अंधेरा घिर आने से पहले
लौट जो आना है घर की ओर‚
झाड़ते – बुहारते – सींचते
तमाम तरह के अभावों
अनहोनियों के बावज़ूद
थामे जो रहते थे अपनी जान से
कि कोई आंच नहीं आये
बच्चों की नींद और उनके
सपनों में पलते घर – संसार में
कोई अलग तजुर्बा नहीं है
इस अंधेरी दुनिया से उबर आने का —
बिखरते सपनों और दरकते – टूटते आकारों में
औचक दब जाने का भय
यों अनायास ही नहीं उग आया था
हमारी आंखों में!
मैं नहीं खोज पाता
इस अबूझ ऊहापोह और
अबोलेपन से निकल आने का रास्ता
सिर्फ होना भर काफी होता
जो सिर्फ तुम्हारी आंख में साकार
मैं बना रहता यहीं तुम्हारे पास
इस रेतीली परिधि के भीतर — देहरी के सामने!
अंधेरे में आहत जब भी लौटता हूँ
थोड़े – से उजास‚ हवा और
सपनों की बची हुई दुनिया में
तुम्हारे प्यार और घर के रास्ते की
निशानदेहियां खोजता‚
तुम्हारी आंखों के उमड़ते
उलाहनों के बीच अक्सर पाता हूँ —
इतने अकाल बरसों के बाद भी
घर सलामत है तुम्हारी छांव में

-नन्द भारद्वाज

अपना घर
ईंट गारे की पक्की चहारदीवारी
और लोह – द्वार से बन्द
इस कोठी के पिछवाड़े
रहते हुए किराये के कोने में
अक्सर याद आ जाया करता है
रेगिस्तान के गुमनाम हलके में
बरसों पीछे छूट गया वह अपना घर —
घर के खुले अहाते में
बारिश से भीगी रेत को देते हुए
अपना मनचाहा आकार
हम अक्सर बनाया करते थे बचपन में
उस घर के भीतर निरापद अपना घर —
बीच आंगन के बीच खुलते गोल आसरों के द्वार
आयताकार ओरे‚ तिकोनी ढलवां साळ
अनाज की कोठी‚ बुखारी‚ गायों की गोर
बछड़ों को शीत – ताप और बारिश से
बचाए रखने की पुख्ता ठौर!
न जाने क्यों
ऐसा घर बनाते हुए
अक्सर भूल जाया करते थे
घर को घेर कर रखने वाली
वह चहारदीवारी!

-नन्द भारद्वाज

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com