मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | फीचर | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home |  Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

You can search the entire site of HindiNest.com and also pages from the Web

Google
 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

इस सभा में चुप रहो 

इस सभा में

चुप रहो

हुआ बहरों का

आगमन ।

ये खड़े हैं

आईने के सामने

 

यह जानते हैं

अपने ही

दाग़दार

चेहरे नहीं पहचानते हैं ।

तर्क का

 उत्तर बचा

केवल कुतर्कों

का वमन ।

बीहड़ से चल

हर घर तक

आ चुके हैं

भेड़िए ।

हैं भूख से

व्याकुल बहुत

इनको तनिक न

छेड़िए ।

लपलपाती

जीभ खूनी

ज़हर भरे इनके वचन

हलाल इनके

हाथ से

 जनता हुई है

 आजकल ।

काटते रहेंगे हमेशा

लूट -डाके की फ़सल ।

याद रखना

उतार लेंगे

लाश का भी

ये कफ़न ।

-रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

Top

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com