मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | फीचर | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | साक्षात्कार |सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
साक्षात्कार
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 

प्रेम-संगिनी
I
नमक की डली
जैसी होती है प्रेम-संगिनी
प्रेम करने वाली
पल में गुस्सा हो
बन जाती है कठोर
फिर पिघल भी जाती है दुसरे ही पल
जीवन के हर साग में
डलकर पिघलती-घुलती रहती है
बेस्वाद जीवन को
स्वादिष्ट बनाने के लिए...

II

प्रेम में
दर्द झेलती हैं
परन्तु दवा प्रेम की ही पीती हैं
वो जीती जाती है
चेहरे पर अभिमान लिए
साबित करने
जुनूनी प्रेम की महत्ता
जो होता है उसके लिए
आरती के सजे थाल सा सुंदर
कुरान की आयतों सा पाक...

III

आकार हो
या निराकार
सजीव हो
या निर्जीव हो
जीव हो
या जन्तु
सब जगह हर सुरत में
हर मुरत में
दिखती है उसे छवि
अपने मन में बसे पुरूष की...

IV

सामाजिक बंधन
जो बनकर रूकावट
रखना चाहते है बांधकर उसे
उन सब बंधनों को
हवा की तरह भर
अपने अंतस के गुब्बारे में
बांध लेती है इच्छाओं के धागे से
फिर उड़ती जाती हैं स्वछंद
ऊंचें आसमानों में
प्रेम पाने की उम्मीद संजोए...

V

संगिनी धर्म निभाते हुए
चलती रहती हैं नंगे पाव
अंगारे बिछे पथ पर
पर वो आधुनिक सीता है
जले तलवों के साथ चलने वाली
जो कर देती हैं साफ इंकार
लांछनों से डरकर
शुचिता साबित करने खातिर
चुपचाप हाथ जोड़कर
धरा में समा जाने से...

VI


लांछनों की
दुश्चरित्र कहलाई जाने की
संगी द्वारा परित्याग की
सब प्रेम-पीड़ाएं
दिल में समाए लिखकर
उदासी भरी कविताएं
करती रहती है मनुहार
तो कभी छलका देती है आंखें
याद कर बीते दिनों के
खुशनुमा लम्हें ...

VII

लाख न चाहने के बावजूद
विभाजित होते देख
दो टुकड़ों में
अपने पुरूष के प्रेम को
तबाह कर देना चाहती हैं
खोलकर तीसरी आँख
क्रोधित शिव की तरह
तो कभी बहने लगती है स्वयं
अश्रुओं की जलधारा बन
शिवजटा में समाई गंगा की तरह...

VIII

बार बार मनुहार कर
अपने संगी से प्रेम में
चाहती है वो सिर्फ
स्वीकृति
उसे 'संगिनी' मान लेने की
चूंकि होता हैं अन्तर्निहित
'मान' पुरूष के रूहानी प्रेम का;
'संग' पंचभूती देह का
सिर्फ एक बार कह देने में
'संगिनी' शब्द...

डॉ शालिनी यादव

Top  

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | साक्षात्कार | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2016 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com