मुखपृष्ठ  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | फीचर | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |   संस्मरण | साक्षात्कार | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
साक्षात्कार
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 

लतियाना

किसी को लतिया देना, हमारी महान सभ्यता की गौरवशाली परम्परा है, आमतौर पर या तो हम किसी को लतियाते है या खुद लतियाये जाते हैं, यह हमारे जीवन का निरंतर क्रम है !

हम हमेशा चाहते है कि जिसने कभी भूतकाल मे हमसे ये सद्व्यवहार किया हो, मौका मिलते ही उसका कर्जा सूद समेत लौटा सकें ! लतियाने के लिये किसी भी आदमी का पृष्ठ भाग सबसे अधिक उपयुक्त स्थान होता है, दरअसल उसकी आत्मसम्मान ग्रंथी वही अवस्थित हुआ करती है, और यदि आप किसी को लतियाना तय कर ही चुके हैं तो फिर सामने वाले के पुट्ठो पर पदप्रहार करते वक्त किसी भी प्रकार का लिहाज करना ठीक नही ! किसी को लतियाना, फिर उसे चींचीं करके हुये, पुट्ठो को सहलाते हुये देखना परमानंद है !

वैसै किसी को लतिया देने के लिये हमारे पास कोई वाजिब कारण हो ही ये कतई जरूरी नही है, ये तो मन की मौज भर भी हो सकती है, पेट भरा है हमारा, करने को कुछ खास है नही, सामने कोई लाचार दिख गया है तो यह कार्य मात्र मनोरंजन के प्रयोजन से भी किया जा सकता है !

लतियाया गया आदमी यदि कमजोर है तो वो ऐसे व्यवहार से चौंकता नही, या तो उसे इसकी आदत होती है, या वह आपसे ऐसा ही कुछ किये जाने की उम्मीद लेकर आया होता है ! ऐसे लोगो को लतियाना कोई खास मजेदार नही होता, बहुत बार इस पुनीत कार्य के बाद उस पर दया करने की इच्छा भी हो सकती है आपकी, जो कि घाटे का सौदा होती ही है, शातिर लोग तो खुद ही ऐसा माहौल बना देते है कि कि आप उन्हे लात मारे बिना रह ना सके और बाद मे वे पाँव पकड कर अपनी बात मनवा लें !

हाँलाकि लतियाते वक्त ज्यादा सोचा विचारा नही जाता फिर भी यदि सामने वाला बंदा आपसे हर लिहाज से कमजोर हो और निकट भविष्य मे भी उसके कमजोर ही बने रहने की उम्मीद हो तो ठीक रहता है, होता ये है कि जिस आदमी को लतिया दिये जाने का अभ्यास नही होता, वो इसका थोडा बहुत बुरा मान जाता है, उसका बुरा मानना जरूरी भी है, वरना लतिया देने का सारा मजा ही किरकिरा हो जाता है जब भी ऐसा मौका मिले किसी को अकेले मे मत लतियाईये, जंगल मे मोर नाचेगा तो कौन देखेगा ? यह काम सार्वजनिक रूप से सम्पादित कीजिये, आपकी शोहरत मे चार चाँद लगेगे इससे !

यदि आप एक साथ पच्चीसो को लतिया सकते है तो यकीनन आप बडे आदमी है, आपकी इज्जत तो बढनी ही है इससे, आपका लतियाना, सामने वाले को भी इज्जत शोहरत बख्श सकता है, आप ऐसा करके अपनी औकात का भी अंदाजा लगा सकते हैं, आपके पद प्रहार के बाद सामने वाला यदि आपके प्रति और अधिक आदर भाव से भर उठे तो इसका मतलब यही है कि आप पर्याप्त सामर्थ्यवान, इज्जतदार आदमी है !


यदि आप ऐसा नही करते तो अब करके देखिये, अच्छा लगता है !

- मुकेश नेमा
 

Top

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | साक्षात्कार | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2016 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com