मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | फीचर | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | साक्षात्कार |सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 

स्टाइलिश और फटी जींस पहनने से कोई कलाकार नहीं बनता : कैलाश खेर

कैलाश आपको कब पता चला कि आपके अंदर एक गायक छुपा है?

मैं बचपन से ही अलग तरह का म्यूजिक सुनने का शौकीन था। जो देश के विभिन्न अंचलों में गाया जाता है, जिस पर बहुत कम लोगों का ध्यान जाता है। मेरा मानना है कि जो दुनिया में अलग करता है या तो वो आउट हो जाता है या फिर सुपर हिट हो जाता है। मैं भी टेढा काम करने वालों की लाइन में था। भगवान का आशीर्वाद था मुझे एंट्री करने का टिकट मिल गया।

संघर्ष के दिनों में किसने आपको सबसे यादा सहारा दिया?

ऊपर वाले ने हमेशा मुझे अपना सहारा दिया है। इसके आलावा मेरे परिवार ने हमेशा मेरा हौसला बढ़ाया । मेरी मां, भाई और बहन ने बहुत सहयोग किया ।

कैलाश आपकी आवाज दूसरे गायकों से अलग है, आपको इसका पता कब चला ?

जब मैं संगीत सीखने लोगों के पास गया तो उन्होंने कहा कि मेरी आवाज गायकों जैसी नहीं है। उन्होंने मुझे सलाह दी की अगर मैं संगीत के क्षेत्र में आना चाहता हूं तो कुछ बजाना सीखो, गाने का ईरादा छोड़ दो। मैंने दो साल तक तबला और गिटार सीखा पर कुछ सीख नहीं पाया ।

आप सूफी संगीत यादा गाते हैं, ऐसा क्यों?

मैं पहले शास्त्रीय संगीत सीखना चाहता था, पर इस विधा में नाम कमाने के लिए आपको बूढा होना पडेग़ा । बूढे होने के बाद ही आपके नाम के आगे उस्ताद या पंडित लगता है। मेरी अपनी जिम्मेदारियां थीं, घर की हालत ठीक नहीं थी। माता और पिता के सामने मुझे अपने  को साबित करना था। इसलिए मैंने संगीत की इस विधा में गाना शुरू किया ।

आप गाने लिखते भी हैं, उनका म्यूजिक भी कम्पोज करते हैं और गाते भी हैं।

सब ऊपर वाले की कृपा है।

आपको सबसे पहला ब्रेक कब मिला ?

मैं अपनी एलबम रिकार्ड करवाने मुंबई गया था, तभी मेरी मुलाकात नरेश और परेश नाम के दो कम्पोजरों से हुई। उनके साथ मिल कर मैंने कई गाने रिकॉर्ड किए पर मेरे पास इतने पैसे नहीं थे कि मैं अपना एलबम प्रोडयूस कर पाता । इस वजह से मेरा एलबम नहीं निकल पाया । लेकिन नरेश और परेश ने मेरे गानों की रिकॉर्डिंग को संगीतकारों को सुनाई। लोगों ने मेरी आवाज की तारीफ की और मुझे विज्ञापनों में गाने का मौका मिला । इसके बाद विशाल-शेखर ने मेरी आवाज सुनी और अल्लाह के बंदे गाना रिकॉर्ड करवाया। जब ये गाना एक साल बाद बाजार में आया तो बहुत लोकप्रिय हुआ।

क्या आपको पहले अंदाजा था कि ये गाना इतना लोकप्रिय होगा?

सच कहूं तो लगा था कि ये गाना कभी बाहर नहीं आ पाएगा ।

आपने जो गाने गाए हैं उन में से आपका सबसे पसंदीदा गाना कौन सा है?

मंगल पांडे का तेरा दिवाना हूं मौला ।

इस समय इंडस्ट्री में आपको कौन सा संगीतकर सबसे यादा पसंद है?

ए. आर. रहमान साहब, शंकर -एहसान -लोए और विशाल -शेखर।

कोई मजेदार वाकया जो आपको याद हो?

मंगल पांडे की शूटिंग के दौरान जब मैं आमिर खान से मिला तो मैंने उनसे कहा, ''मैंने आपकी कोई फिल्म नहीं देखी है, पर मैं जनता हूं कि आप बेहतरीन अभिनेता हैं।'' मैंने उनसे पूछा कि मैं आपकी कौन सी फिल्म देखू? अगले ही दिन उन्होंने लगान की 10 डीवीडी मुझे दी। मैंने लगान 10 बार देखी ।

आपको लखनऊ कैसा लगा?

लखनऊ को अच्छा कहने का मतलब सूरज को दीया दिखाना होगा । यहां की हर चीज अच्छी है।

संघर्ष कर रहे युवाओं के लिए आपका क्या संदेश है?

स्टाइलिश और फटी जींस पहनने से कोई कलाकार नहीं बन जाता । बिना संघर्ष के जीवन में कुछ नहीं मिलता है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस

4 दिसम्बर 2007

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

 

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-डायरी | काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | साक्षात्कार | सृजन साहित्य कोष |
 

(c) HindiNest.com 1999-2020 All Rights Reserved.
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : hindinest@gmail.com