मुखपृष्ठ |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | फीचर | बच्चों की दुनिया डायरी | भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | साक्षात्कार | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | SearchWeather | FeedbackContact | Share this Page!



कथा कहन कहानी प्रतियोगिता परिणाम
में आप सब से यह खबर साझा करते हुए प्रसन्नता हो रही है कि 'हिंदी नेस्ट कथा-कहन' कार्यशाला के अंतर्गत आयोजित कहानी प्रतियोगिता के बहुत सार्थक परिणाम मिले हैं। ‘कथा-कहन’ कार्यशाला से कथा लेखन में नये लेखकों की आमद हुई है। जिनकी उम्दा कहानियां आपने हिंदीनेस्ट में पढ़ी हैं। इन कहानियों के लिए हमने ‘कथा-कहन’ के दौरान अपने प्रतिभागियों के लिए श्रेष्ठ-कहानी पर ‘दस हज़ार रुपए’ के पुरस्कार की घोषणा की थी। परिणाम हमारे सामने हैं। हमारे निर्णायक मण्डल ने हिन्दीनेस्ट कथा-कहन पुरस्कार के लिए 'गहना' कहानी को चुना है, जिसे लिखा है सरिता निर्झरा ने। सरिता को हिंदीनेस्ट परिवार की ओर से हार्दिक शुभकामनाएं।

- मनीषा कुलश्रॆष्ठ
संपादक हिंदीनेस्ट.कॉम

कथा कहन : एक रिपोर्ट  - सोनू यशराज

संपादकीय
था कहन कार्यशाला की सफलता का आनंद हम सभी आयोजक, कहन के विविध संसार के शामिल हुए विशेषज्ञ, प्रतिभागी और अतिथि पूरी तरह मना भी नहीं पाए थे कि ‘कोरोना के डेल्टा वैरियंट’ ने क़हर ढा दिया। हम सभी सहम कर घरों में बंद होकर रह गये थे।

लेकिन हमारे प्रतिभागी एक समूह से लगातार हमसे जुड़े रहे। किसी भी कार्यशाला का सफल होना केवल आयोजन का सफल होना नहीं मानती मैं। मेरे ऐसा मानने को बल दिया मैं हमारे तीस प्रतिभागियों ने। हमने कार्यशाला में कुछ सत्र विशुद्ध “लेखन” के रखे थे, जिसमें विभिन्न टास्क दिये गये थे। ब्रजेंद्र रेही जी ने स्क्रिप्ट राइटिंग पर टास्क दिया था, कैसे छोटे सा बड़े चित्रपट के लिए दृश्य लिखा जाए। दो अन्य सत्र ऐसे थे जिनमें प्रतिभागियों को टास्क दिये गये थे कि वे वहाँ दिखाए गये पांच चित्रों के आधार पर कहानी लिखें, पात्र कैसे गढ़ें, भाषा कैसे बरतें।


इस टास्क को हमारे अधिकार जिज्ञासु प्रतिभागियों ने गंभीरता से लिया और एक से एक उम्दा कहानियां लिखीं। इनमें से अधिकतर ऐसे हैं जिन्होंने पहली बार कहानी विधा पर कलम चलाई है। उन्हीं कहानियों पर आधारित है हिंदीनेस्ट का ‘कथा-कहन केंद्रित अंक’। हम इस अंक में उन्नीस कहानियां ला रहे हैं, इनमें से बेहतरीन कहानी को ‘हिंदीनेस्ट कथा पुरस्कार -२०२१’ दिया जाएगा। हमारे विशेषज्ञों सहित पाठकों की राय को ही तवज्जोह दी जाएगी। जुलाई अंक में परिणाम घोषित होगा।

हमने सभी विशेषज्ञों से आग्रह किया था कि वे कार्यशाला में अपने बोले हुए भाषण का ‘सत’ एक आलेख के तौर पर दे दें लेकिन कुछ आलेख ही आ सके,  आगे प्राप्त होने पर हम अन्य आलेखों को हिंदीनेस्ट पर अपलोड करते जाएंगे। इस अंक में डॉ संजय राय का एक बहुत महत्वपूर्ण साक्षात्कार शामिल है, जिसे मेरे आग्रह पर लोकप्रिय कवियत्री और डॉक्टर ज्योत्सना मिश्रा ने लिया है।

कथा-कहन केंद्रित हिंदीनेस्ट का यह अंक आपको सौंपते हुए मुझे प्रसन्नता है। कृपया कहानियों पर अपनी प्रतिक्रिया हमें hindinest@gmail.com  पर ज़रूर दें।


 

जून 21

कथा-कहन केन्द्रित 

हिंदीनेस्ट कथा-कहन के प्रतिभागियों की कहानियाँ : एक मूल्यांकन - लक्ष्मी शर्मा

कहानियां

गहना - सरिता निर्झरा

नीली स्याही का सच  - निरूपमा सिन्ह

तुम्हारा रणवीर - उषा दशोरा

अतिए & आशी एण्ड संस  - डॉ. सुनीता

एक ज़मीन अपन - ममता सिंह

ठप्पा - सोनू यशराज

अल अतश-अल अतश  - ग़ज़ाल ज़ैग़म

खुद को तलाशती लड़की - डॉ. वीणा चूंडावत

खिड़कियाँ - कालिंद नंदिनी शर्मा

ज़िन्दगी : कभी धूप कभी छाँव
- संगीता सेठी

पीड़ के चतुर पत् - किरण राजपुरोहित नितिला

चाहतों के अनजाने द्वीप  
- प्रज्ञा पाण्डेय

रूह रंगे कैनवास - आस्था सेठी

गयी यशो - उर्वशी साबू

ऑल इज़ वेल - विनिता बाडमेरा

स्वर्ण भस्म सी वह - सन्तोष चौधरी

प्यार के फूल - शिल्पी माथुर

रोशनी - अनु शर्मा

लांछन  - कंचन अपराजिता

यहां और अब - अवशेष चौहान


कविता

औसत - नेहा ठाकुर

 


साक्षात्कार

कोरोना वैक्सीन, एक महत्वपूर्ण वार्ता डॉक्टर संजय राय से - डॉ. ज्योत्स्ना मिश्रा

(डॉ. संजय राय ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज कम्युनिटी मेडिसिन विभाग में प्रोफेसर हैं डॉक्टर राय इंडियन पब्लिक हेल्थ एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं, डॉ. संजय राय कोवैक्सीन नामक कोरोना की वैक्सीन के प्रिंसिपल इन्वेस्टिगेटर भी है। हिंदेनेस्ट लिए यह आलेख डॉक्टर संजय राय टेलीफोन पर हुई वार्ता पर आधारित है)

कथा-कहन आलेख

सृजन है तो संसार है  - डॉ विनय कुमार

कथक कथा और कथ्य - प्रेरणा श्रीमाली

लिखना  - जया जादवानी

कथ्य कैसे ढलता है कहानी में - धीरेन्द्र अस्थाना

कहानी क्या है ? कहन कैसा हो? - मनीषा कुलश्रेष्ठ

कनोता कैम्प रिसॉर्ट राईटर्स रेज़िडेंसी

नोता कैम्प रिसॉर्ट ' राईटर्स रेज़िडेंस ' आरंभ करने जा रहा है। जयपुर से महज 10 किमी दूर  सूर्योदय से सूर्यास्त तक प्रकृति का सान्निध्य और मोहक शांति। पंछियों का कलरव और सामने विशाल झील।

आप किसी भी भाषा के लेखक हैं और अपनी किताब पूरी करना चाहते हैं आप आमंत्रित हैं।  आप अपना पसंदीदा शैड्यूल तय करें, अपने पसंदीदा लेक फेंसिंग कमरा या टेंट चुनें। हिंदीनेस्ट के रिकमंडेशन पर आपके लिए यह पैकेज सब्सिडीइज़्ड है, 45000 रु तीस दिन के लिए आपका स्टे (ब्रेकफास्ट, लंच, डिनर सहित) ।

इच्छुक मेहमान एडवांस बुकिंग करवाएं और कोविड गाईडलाइन्स की पालना करें। अन्य जानकारियों के लिए संपर्क करें

संपर्क - राजेश (मैनेजर, कनोता कैम्प रिसॉर्ट)
9929003542


 

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल |  धर्म रसोई लेखकडायरी | व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा संस्मरण | साक्षात्कार | सृजन साहित्य कोष |

(c)  HindiNest.com 1999-2021 All Rights Reserved.
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : hindinest@gmail.com