मुखपृष्ठ  |  कहानीकविता | कार्टून कार्यशालाकैशोर्यचित्र-लेख |  दृष्टिकोणनृत्यनिबन्धदेस-परदेसपरिवार | फीचर | बच्चों की दुनियाभक्ति-काल धर्मरसोईलेखकव्यक्तित्वव्यंग्यविविधा |  संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 

अब तो हंस दो

misc96.gif

एक दिन एक आदमी काम के बजाय घर पर था और हर जगह दर्द महसूस कर रहा था अगले दिन वह डॉक्टर के पास गया यह जांच कराने के लिए कि ये सब क्या है अन्दर घुसने पर डॉक्टर ने उसकी परेशानी पूछी तब वह बोलाः ''हर बार मेरा शरीर छूने से दर्द उठता है जब मैं चेहरे को, हाथ को और पैरों को छूता हूं तो हमेशा दर्द होता है''  डॉक्टर ने उसका एक्सरे लिया और वापस आकर बोला ''तुम्हारे साथ कोई समस्या नहीं है, सिवाय इसके कि तुम्हारी उंगली टूटी हुई है ''


तीन बेवकूफ आदमी एक नदी के किनारे बैठे थे अचानक उन्होंने पाया कि एक बच्चा पानी में डूब रहा है एक ने कहा कि एक बच्चा पानी में डूब रहा है और हम यहां चुपचाप बैठे हैं दूसरे ने हामी भरी और बोला बिल्कुल सही कहा हम लोगों को खडा हो जाना चाहिये


एक छोटी लडक़ी और एक छोटा लडक़ा खेल रहे थे
लडक़ी लडक़े के पास पहुंची और बोली, ''टॉमी, 'घर' का खेल खेलोगे ?''
उसने कहा ,''हां ,क्यों नहीं
तुम मुझसे क्या करवाना चाहती हो?''
लडक़ी ने जवाब दिया ,'' मैं चाहती हूं तुम अपनी भावनाएं व्यक्त करो
''
''भावनाएं व्यक्त करूं ! '', परेशान से टॉमी ने कहा ,''मुझे पता नहीं इसका क्या मतलब होता है
''
लडक़ी व्यंग्य से मुस्कुरायी और बोली, ''बिल्कुल सही
तुम 'पति' बन सकते हो''


पुरूष महिलाओं से क्यों नहीं जीत सकते

  • अगर आप बहुत काम करते हैं, आपके पास उसके लिए समय ही नहीं है - अगर आप अधिक काम नहीं करते, आप किसी काम के नहीं

  • अगर वो उबाऊ एक ही तरह के काम वाली नौकरी कर रही है कम वेतन में, तो यह शोषण है - अगर आप इस तरह की नौकरी कर रहे हैं, तो आपको यहां से तशरीफ ले जानी चाहिए और कहीं और बेहतर नौकरी ढूंढनी चाहिए

  • अगर आप की पदोन्निति उससे पहले होती है, यह पक्षपात है - अगर उसे आपसे पहले नौकरी मिलती है, तो यह समान अवसर है

  • अगर आप रोते हैं, आप कमजाेर हैं - अगर आप नहीं रोते, आप असंवेदनशील हैं

  • अगर आप उससे पूछे बिना कोई निर्णय लेते हैं, तो आप उसे कोई महत्व नहीं देते - अगर वो कोई निर्णय लेती है आपसे पूछे बिना, तो यह नारी की स्वतंत्रता है

  • अगर आप अपने बदन का ख्याल रखते हैं, आप फालतू हैं - अगर आप नहीं रखते, आप ढीले किस्म के आदमी हैं

  • अगर आप उसके लिए फूल खरीदते है, आप जरूर कुछ चाहते हैं - अगर आप नहीं खरीदते, आप लापरवाह हैं,उसका ध्यान नहीं रखते

  • अगर आप अपनी उपलब्धियों पर गर्व करते है, आप अहंवादी हैं - अगर आप ऐसा नहीं करते, आप महत्वाकांक्षी नहीं हैं

  • अगर उसे सिरदर्द है, वो थक गयी है - अगर अपके सिर में दर्द है, आप उसे अब प्यार नहीं करते और जरूर किसी और के साथ चक्कर चला रहे हैं


एक आदमी ने अपने डॉक्टर को बताया कि अब वह घर में वो सब काम नहीं कर पाता जो वो पहले किया करता था जब सभी परीक्षण पूरे हो गए तो वो बोला, '' डॉक्टर, मैं सह सकता हूं आप मुझे सरल भाषा में बताइए कि बात क्या है?''
''सरल भाषा में कहा जाए'', डॉक्टर ने जवाब दिया, ''तो तुम केवल आलसी हो
''
''ठीक है'', आदमी ने कहा, ''अब मुझे कोई डॉक्टरी नाम बताइए जो मैं अपनी बीवी को बता सकूं
''


एक औरत अपनी सहेली से बातें कर रही थी, ''यह मैं ही हू, जिसने अपने पति को लखपति बनाया''
''अच्छा; और तुमसे शादी करने के पहले वो क्या थे?'' सहेली ने पूछा

औरत ने जवाब दिया, ''करोडपति!''

- राजेश के गुप्ता
अप्रेल
20, 2002


एक शेर की शादी थी
उसकी बारात में एक चूहा जम के नाच रहा था

यह देख कर जन्ता का फन्दा ही हिल गया

इस चूहे को शेर की शादी में इतना मज़ा काहे को आ रहा है

तब एक बन्दर ने चूहे से पूछा -
अबे, इतना क्यों नाच रहा है?
चूहा बोला - आज मेरे भाई की शादी है, नाचूं क्यों नही?
बन्दर बोला - चल हट, शेर और तेरा भाई!
चूहा बोला - मैं भी शादी से पहले शेर था''

- मोहन ददलानी
अप्रेल 21, 2002


अध्यापक एक छात्र से - पाचन क्रिया के बारे में तुम क्या जानते हो?
छात्र - जी, यह महिलाओं में न होने वाली स्वाभाविक प्रक्रिया है


बेटा अपने पिता से - पिताजी मुझे दो रूपये दो, स्कूल में लेट जाने का फाईन देना है
पिताजी - नालायक, घर में क्या तुझे लेटने का समय नहीं मिलता, जो स्कूल में जाकर लेट जाता है


एक चींटी दूसरी से - चल-चल हम दोनों मिल कर उस हाथी को पीटें
दूसरी - रहने दे कोई देखेगा तो कहेगा कि देखो बेचारे को अकेला देख कर पीट दिया


मा बेटी को पढाते हुए - सभी ग्रह अपनी अपनी कक्षा में घूमते हैं
बेटी - मा
, तो उनकी टीचर उन्हें डाटती नहीं


एक बार इंस्पेक्टर चोर के पीछे उसे पकडने के लिये भागते हुए सिपाही से कहता है,
चोर को पकडो, मत जाने दो

थोडी दूर भाग कर सिपाही रुक जाता है

इस पर इंस्पेक्टर खीज कर कहता हैतुमने उसे भाग कर पकडा क्यों नहीं, रुक क्यों गए?
सिपाही ने उत्तर दिया -  आपने ही तो कहा था, चोर को पकड मत, जाने दो

- आयूषी श्रीवास्तव


दो दोस्त गप्पें मार रहे थे

पहला -  मैं पूरी दुनिया मिटा दूंगा
दूसरा -  मैं तुझे रबर ही नहीं दूंगा

- अंशुल सिन्हा


दो बच्चे आपस में बात कर रहे थे
पता है! मैं तो कल चिडियाघर गया था

अरे! मुझे नहीं देखा, मैं भी तो वहीं था

अच्छा! कौनसे पिंजरे में?


एक मास्टर जी गाव के बच्चों को पढा रहे थे अंग्रेजी पढाना आसान करने के लिये वो कुछ आस-पास के ही उदाहरण ले रहे थे कुछ देर बाद उन्होंने छात्रों से पूछना शुरू किया उन्होंने बोर्ड पर एम बनाया और रामू से पूछा
रामू ने कहा एम, एम से मदर याने मेरी मा
ँ ।
शाबास रामू
अब लालू तुम बताओ ये क्या है? और मास्टर साहब ने बोर्ड पर डब्ल्यू लिख कर पूछा
मास्साब ये तो रामू की मा
ही उलटी हो गई है


स्कूल से निकलते ही एक बच्ची बाहर आई और उसने एक पुलिस वाले से पूछा,
अंकल-अंकल क्या आप पुलिस वाले हो?
हा
बेटी मगर तुम ऐसा क्यों पूछ रही हो?
मेरी मम्मी ने कहा था कि कुछ परेशानी हो तो किसी पुलिस वाले अंकल से मदद ले लेना

हा
! हा! क्यों नहीं, बोलो क्या परेशानी है?
अंकल पहले तो मेरे जूते के फीते बा
ध दो और फिर मेरी नाक पौंछ दो

- कनुप्रिया


"चुनमुन ने चिम्पू से कहा"
"
कुछ भी हो तुम्हारा ये कुत्ता है बडा समझदार "
"हाँ है तो....।"
"जो भी चीज माँगो फौरन ला देता है, पर कल ही की बात है चोरों ने तिजोरी की चाभी माँगी इसने फौरन उन्हें दे दी।"

- अंशुल सिन्हा

 

 

Top 
 

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com