मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | फीचर | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home |  Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

You can search the entire site of HindiNest.com and also pages from the Web

Google
 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 

  बुध्द की स्वतंत्रता

बहुत समय पहले हिमालय की घाटियों के एक गांव के निवासी बुध्द के अनुयायी थेवह गांव पूरी दुनिया से अलग शान्त और संपूर्णता का जीवन व्यतीत कर रहा थाबहुत अधिक ऊंचाई पर होने के कारण गांववासियों को अधिक समय तक प्रचंड शीत का सामना करना पडता था इसलिए ग्रीष्म ॠतु वह समय था जब गांववासी इकट्ठे होकर भोजन और जलाने की लकडी क़ा उचित प्रबन्ध कर के अपने को आने वाली शीत लहरों के लिए मानसिक रूप से तैयार कर लेते थे

गांव के मध्य में एक छोटा सा मठ था, भगवान बुध्द की एक बहुत पुरानी विशालकाय लकडी क़ी प्रतिमा से सुसज्जितदैनिक प्रार्थना सभा के अतिरिक्त मठ गांव के निवासियों की सुरक्षा तथा उन्हे तीक्ष्ण तथा तूफानी मौसम की चपेटों में सुविधाओं की आपूर्ति भी करता थाप्रतिदिन मठाधीश लामा गांववासियों के साथ बुध्द प्रतिमा की धार्मिक रीति से पूजा में हिस्सा लेते थेनवासी वर्षीय लामा स्वयं बुध्द प्रतिमा के साप्ताहिक मस्तकाभिषेक को पूर्ण समर्पित भाव से समस्त धार्मिक रीतियों का निर्वाह करते थेये अतिश्योक्ति नहीं होगी कि लामा समस्त जन के मार्गदर्शक, नेता तथा प्रेरणास्रोत थेसबको यह पता था कि स्वयं लामा को बुध्द की प्रतिमा से ही प्रेरणा मिली है - उनकी जीवन शक्ति का स्रोतगांव में यह अफवाह भी थी कि रात के सन्नाटे में बुध्द की प्रतिमा सजीव हो लामा में ज्ञान का संचार करती थी

एक बार शीत का आगमन अपने समय से पूर्व ही हो गया और पर्याप्त भोजन और जलाने की लकडी क़ा प्रबन्ध नही हो पाया शीत के पूर्व आगमन ने स्थिति को और भी गंभीर बना दिया जब उसकी त्रीवता बढती ही गईगांव के सबसे बुजुर्ग व्यक्ति ने अपने अनुभवों के पन्ने पलटते हुए कहा कि शीत की जो प्रचंडता का अनुभव इस बार सबको करना पड रहा है उसका विवरण मात्र ही उन्होने अपने पुरखों से सुना हुआ हैइस स्थिति के विषय में बात करने के लिए सब लोग मठ में एकत्र हो गए और आग जलाकर उन्होने शीत के प्रकोप को कम करने का प्रयत्न कियालेकिन आग की गर्मी उस मौसम में गरमाहट नहीं ला सकी और लकडी क़ा अंतिम टुकडा भी उस हवन में स्वाहा हो गयाशीत अपनी तीव्रता को बढाता जा रहा था और सब लोगो ने उससे बचने के लिए कम्बलों और शॉलों की शरण लीभोजन की कमी ने स्थिति को और भी गंभीर बना दिया

लकडी क़ा एक-एक टुकडा अग्नि को समर्पित हो गया था और मौसम की तीक्ष्णता मनुष्य को कितना निठुर बना देती है कि अब सबको शीत से बचने का एकमात्र उपाय ही दिखाई दे रहा था - बुध्द की लकडी क़ी प्रतिमा जिसे जला कर वह शीत से अपने को बचा सकते थेलेकिन किसी की भी यह हिम्मत नहीं थी कि वह लामा से इस विषय में पूछ सके, जो इस समय अपने कमरे में ध्यान में लीन थेलेकिन जब मृत्यु का भय लोगो के चेहरे पर साफ दिखााई देने लगा तो यह सब उनके लिए असहनीय हो गया और एकमत हो उन्होने गांव के सबसे बुजुर्ग व्यक्ति से निवेदन किया कि वह जाकर लामा से इस विषय में बात करेंवह बुजुर्ग व्यक्ति लामा के निवास पर गया और ध्यानमग्न लामा से अपनी अन्तर्मन की समस्त शक्ति एकत्र करके कंपकपाती आवाज में सारी स्थिति से उन्हे अवगत कराया -

'' हमने अपनी सारी इकट्ठा की हुई लकडियां जला दी है, यहां तक की घर का सामान तथा बच्चों के खिलौने भी अग्नि को समर्पित कर दिए है। अब हमारे बचने का कोई भी उपाय नजर नही आ रहा है और हमारी मृत्यु निश्चित है। आप हमारा मार्गदर्शन कीजिए नहीं तो हमारा विनाश निश्चित है।हम क्या करें?''

लामा ने उसे स्नेह से देखा और अपने पलंग से उठ खडे हुएवह शान्त भाव से मठ के मध्य में पूजागृह की ओर चल पडे, वह वृध्द व्यक्ति एक मासूम बच्चे की तरह उनके पीछे चल पडा लामा उस पूजागृह में पहुंचे जहां समस्त गांववासी दुबके पडे थेबुध्द की प्रतिमा के प्रति उनका स्नेह और श्रध्दा उनकी आंखो से साफ दिखाई दे रहा था

प्रतिमा के पास पहुंच कर वह आदरपूर्वक उनके आभूषण उतारने लगेऔर फिर श्रध्देय प्रतिमा को लकडी क़े टुकडों के रूप में बदल दियागांववासी, लामा को किंकर्तव्यविमूढ हो देखते रह गए, जो बिना किसी शंका और हिचकिचाहट के लकडियों को एकत्र कर रहे थे जो कभी बुध्द की प्रतिमा में मस्तक के रूप से सुशोभित थे और फिर उन्हे अग्नि के अवशेषों को समर्पित कर दिया

कुछ ही समय में अग्नि फिर से जीवंत हो उठी, लोगो के मन में जीवन के प्रति एक नए उत्साह के आगमन के साथजब लामा अपने निवास की ओर वापस जाने लगे तो उन्होने मधुर स्वर में मुस्कराते हुए कहा -

'' आज हमारे प्रिय बुध्द हमारे में विलीन हो गए है।''

मूलकथा मालोक
अनुवाद: नीरजा सक्सेना

   यही कहानी अंग्रज़ी में

 

     
 

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com