मुखपृष्ठ  कहानीकविता | कार्टून कार्यशालाकैशोर्यचित्र-लेख |  दृष्टिकोणनृत्यनिबन्धदेस-परदेसपरिवार | फीचर | बच्चों की दुनियाभक्ति-काल धर्मरसोईलेखकव्यक्तित्वव्यंग्यविविधा |   संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 

ऊर्जस्विता

शूल केवल फूलों के संग ही नही उगते बल्कि ये हर समाज में शब्दों या अपशब्दों के रूप में अपने विषाक्त डेने फैलाए चाहे अनचाहे अपनी परिधि मे जकड कर अपने डंक चुभाते हैं जिसकी असहनीय पीडा से व्यक्ति छटपटा कर रह जाता है अगर वह मरता नही तो मरणतुल्य जीवन जीने के लिए अभिशप्त अवश्य हो जाता है ।उ सकी आत्मा में एक नासूर अवश्य बन जाता है जो हर वक्त रिसता रहता है।समाज में उपेक्षित होकर जीने एवं आत्मग्लानि में मनुष्य का आत्मविश्वास एवं आत्मसम्मान सब कुछ चुक जाता है ।
उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जनपद के एक बहुत ही छोटे से गांव ''उमरी'' में स्वयंप्रभा का जन्म हुआ था।इस गांव की आबादी लगभग पांच हजार होगी ।स्वयंप्रभा के
जीवन कम की नींव इसी गांव में रखी गई। एक भाइ और एक बहिन में वह सबसे छोटी थी ।इसलिए माता पिता की अधिक लाडली थी ।उसके माता पिता ने बडे ही प्यार दुलार से उसका पालन पोषण किया था। गांव के नैसगिक सौन्दय में उसके बचपन को जीवन का नया अर्थ मिला था ।पीपल की छांव मे झूले झूलना, बूढे बरगद के नीचे बने देवी के मंदिर के अहाते में लुका छिपी खेलना, अमरूद के बगीचे से अमरूद चुरा कर तोडना - खाना, पत्थर मारकर कच्चे आम तोडना, बेरी झरबेरी के बेर चुन कर खाना, तालाब में नहाना - तैरना, लहलहाते खेत और पास में एक पोखर जिसमें सिगाडे की बेल पडी रहती उसमे से वह कभी भी कच्चे सिंघाडे तोड कर खाती । खेतों में कैथा और इमली के पेड भी थे जब वे पक जाते तो वह बडे चटकारे लेकर खाती और खेतों की मेडों पर छलांग लगाती कभी ईख और कभी हरे चने के बूटे उखाड कर खाती । बहुत ही मदमस्त जीवन था किसी अन्य सुख की चाह कभी नहीं हुयी ।
गांव में बालिकाओं के लिए एक छोटी सी पाठशाला थी। एक बाइजी पढाती थी ।जो पढाती कम डांटती मारती ज्यादा थी । इनकी भी बडी अजीब कहानी थी ।सफेद साडी में लिपटी उनकी कंचन काया और युवावस्था का तेज मुख पर दमकता था वे देखने मे त्याग की सजीव मूर्ति लगती थी ।वे बाल विधवा थी ।जन्म से ही एक नेत्रा थी।
पिता भाइ के सुख से वंचित थीं ।घर में केवल विधवा मां थी।जीवन की गाडी चलाने के लिए ही नौकरी करती थीं।हर रोज पांच मील पैदल चल कर आती जाती थी।पढी लिखी ज्यादा नहीं थी लेकिन पता नही उन्हें नौकरी कैसे मिल गई थी ।
जब स्वयंप्रभा पांच बरस की हुई तो शुभ दिन देख कर, पाटी पूजन कर उसका नाम इसी पाठशाला में लिखवा दिया गया।स्वयंप्रभा बहुत मेधावी किन्तु चंचल स्वाभाव की थी। पढाई तो वह पलक झपकते कर लेती और कक्षा में सबसे अव्वल रहती।इस तरह बाई जी के कोध का भाजन उसे कभी नही होना पडा, लेकिन दूसरों को पिटता देख और हमेशा बाइजी के हाथ में छडी देख वह डरती अवश्य थी।उसे मार खाना बिल्कुल पसन्द नहीं था। उसके साथ उसकी सहेली मालिनी भी पढती थी। वह पढने में कमजोर थी पर इसकी उससे खूब बनती थी।एक दिन वह मालिनी के साथ खेलने उसके घर चली गई लेकिन मालिनी यह कह कर घर के अन्दर चली गई कि वह उसका बाहर इन्तजार करे वह अभी आती है। जब वह काफी देर तक नही आइ तो उसने दरवाजे की आड से उसके घर में झांक कर देखा कइ औरतें बैठी बातें कर रही थीं। तभी एक औरत ने उसकी तरफ उगली दिखा कर दूसरी से पूछा कि यह किसकी लडकी है ।
दूसरी ने कहा तुम नही जानती ``यह तो उसी कुलटा पंडिताइन की बेटी है जो दूसरा खसम कर गई है।''
``दूसरे ने आश्चर्य से हां में हां मिलाई``
यह बात सुनकर स्वयंप्रभा के तन बदन में आग लग गइ किन्तु वह कुछ बोल न सकी और चुपचाप अपमान का विष पीकर वहां से वापस घर आ गई। कई दिन तक वह बहुत उदास रही पर उसने किसी से कुछ नहीं कहा। यूं तो सात बरस की आयु कोइ अधिक तो नहीं होती लेकिन स्वयंप्रभा को यह बात अवश्य समझ में आ गईकि यह बात उसके मां के लिए सम्मानजनक नही थी।उसके हृदय में यह अपमानित क्षण बहुत गहरे पैठ गया।उसके मन में समाज के ऐसे लोंगो के प्रति क्षोभ और घृणा उत्पन्न हो गई और उसने मन मे कोसते हुए कहा कि समाज के ऐसे लोग ही तो शब्दों की शूल चुभा चुभाकर जिस्म और आत्मा को लहूलुहान करते रहते हैं वह ऐसे शूल अपने को कभी चुभने नही देगी।
वह बहुत संवेदनशील थी और उसकी उम्र के हिसाब से उसके विचार परिपक्व एवं प्रगतिशील थे।इसलिए मां के लिए ऐसे अपशब्द सुनकर भी मां के प्रति उसकी श्रद्धा व सम्मान कम न होकर और भी बढ गया ।''उसकी मां बाल विधवा थी अगर उसने शादी करके अपना जीवन निर्वाह करना चाहा तो इसमें गलत क्या है। फिर इसकी सजा उसके बच्चों को क्यों मिले ।
``जब उसकी मां का कोई सहारा न था तब समाज के कई नर भेडियों ने उसका जीना दुश्वार कर दिया था हमेशा घात लगाए देखते रहते थे तब ये समाज के लोग कहां थे। सत्तरह बरस की उम्र में ही तो वे विधवा हो गई थी, ऐसे मे पूरी जिन्दगी बिना सहारे के गुजारना आसान नही था ।ऐसी स्थिति में अगर उसकी मां ने एक सुदृढ सहारा ढूढकर शादी कर ली तो इसमें गुनाह कैसे हो गया।''।वह मां के बारे में यह सब बातें इसलिए जानती थी क्योंकि कई बार मां को रो - रोकर अपनी सहेली को बताते हुए सुना था जब भी वह मां को रोते हुए देखती वह भी रोने लगती ।उसके कोमल हृदय में मां के लिए और भी प्यार उमडता और वह यही सोचती कि वह ऐसा कुछ न कुछ अवश्य करेगी जिससे उसकी मां को खुशी मिले और वह समाज में गर्व से सिर उठाकर जी सकें ।
बस यही वो दृढ संकल्प था जिसे पूरा करने के लिए वह कटिबद्व हो गई । समाज को भी जवाब देने का इससे बढ़िया और कोई उपाय उसके पास नही था ।उसने सोचा उसे और अधिक पढाई करनी पडेगी तभी वह अपनी मंजिल तक पहुंच पायेगी।जब उसने पाचवीं कक्षा प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण कर ली तब उसके सामने समस्या यह थी कि गांव में तो बस एक प्राइमरी स्कूल ही था आगे की पढाई वह कैसे कर पायेगी। क्या उसके पिता उसे बाहर पढने के लिए भेज पायेगे।बहुत ऊहापोह में वह कइ दिन तक रही फिर एक दिन हिम्मत करके वह अपने पिता जी से बोली मैं भी भैया की तरह आगे पढ़ना चाहती हूं और उच्च शिक्षा प्राप्त करके कुछ बडा बनना चाहती हूं पहले तो पिता जी नही माने लेकिन बेटी की मेहनत और लगन देख कर हां कर दी उसे कस्बे के स्कूल में दाखिल करवा दिया इस स्कूल मे रहने की व्यवस्था भी थी।वह अपनी मनचाही मुराद पूरी करने के लिए जीजान से जुट गई।
स्वयंप्रभा ने फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा।पढ़नें के सिवा उसके जीवन का और कोई दूसरा लक्ष्य नही था।समय बीतता गया और वह डिग्रियां हासिल करती चली गइ।तमाम प्रतियोगी परिक्षाओं से गुजरती हुइ आखिर एक दिन उसे उनमें सफलता मिल ही गइ और उसकी प्रथम नियुक्ति उप जिलाधीश के पद पर हुई ।माता पिता गर्व से फूले न समाते। उसके भाई ने ज्यादा पढाइ़ नही की बस एम ए कर कालेज में कॉमर्स के व्याख्याता बन गए । जीवन के गुजारे भर के लिए कमा लेते थे। बडी बहिन को पढ़ने में रूचि नही थी इसलिए पिता जी ने उसकी शादी जल्दी ही कर दी थी।
स्वयंप्रभा की कर्मठता एवं इमानदारी के कारण उसकी पदोन्नति शीघ्र होती गई और एक दिन वह अपने ही जिले की कलेक्टर बन गइ।जब एक दिन वह सरकारी जीप में बैठ कर अपने गांव गई तो उसे देखने के लिए भीड़ उमड़ पडी सब झुक झुक कर उसके पांव छूते और कहते `` धन्य हो बिटिया तुमने हमारा सिर गर्व से ऊंचा कर दिया है।अब हम शान से कह सकते हैं कि तुम इस गांव की बेटी हो''।
स्वयंप्रभा ने समाज की उपेक्षा ही को तो अपनी आत्म शक्ति बनाई थी और उसी आत्म विश्वास के बल पर ही तो उसने सब कुछ पाया था।मैं सोचती हूं काश सभी लडकियों की सोच उस जैसी होती और तब समाज की उपेक्षा को भी सकारात्मक काय करके वे अपनी प्रतिभा को सिद्धकर पातीं।जीवन मे चाहे कितना ही घना अंधेरा क्यों न हो उसकी सकारात्मक सोच दृढ़ संकल्प और सच्ची लगन हर बाधाओं से लड़ने की असीमित ऊर्जा देती है।रास्ते कंटकोपूण हो सकते हैं लेकिन अगर पांव लहुलुहान हो जाने पर भी चलने की क्षमता रखते हो तो उसको मंजिल तक पहुंचने से कोइ नही रोक सकता। संसार की हर महान बनने वाली महिलाओं के रास्ते भी तो आसान नहीं रहे होंगे लेकिन उन्होंने अपनी सूझ बूझ एवं दम खम से ही वो प्राप्त किया होगा जो उन्हें चाहिए था और रास्ते तो कई हैं बस उन पर चलने की देर है।काश सभी स्वयंप्रभा जैसी ऊर्जस्विता बन सकें।
चलो अब मैं चलती हूं मुझे उन महिलाओं से भी तो मिलना है जिन्होंने मुझे इतना काबिल बनाया है।

मालिनी के घर जाकर ``कैसी है काकी जी ``
``क्या आपने मुझे पहचाना ।मै पंडिताइन की बिटिया हूं''।
``यह सुनकर वे पैरों पर गिर पडी और बोली ``बिटिया तुम्हें कौन नहीं जानता।हमें माफ कर दो''।
उसकी आंखों में प्रेम के आंसू छलछला आए। उसने उन्हे उठा कर गले से लगा लिया। मन का मैल तो कब का धुल चुका था ।

डॉ. रमा द्विवेदी
दिसम्बर 13, 2006

Top

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com