मुखपृष्ठ  कहानीकविता | कार्टून कार्यशालाकैशोर्यचित्र-लेख |  दृष्टिकोणनृत्यनिबन्धदेस-परदेसपरिवार | फीचर | बच्चों की दुनियाभक्ति-काल धर्मरसोईलेखकव्यक्तित्वव्यंग्यविविधा |   संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 

लघुकथा

प्रतिरोध 

कथा-पाठ करते-करते दिवाकर की भौंए तन गयी थीं। भोजपुर जिले के एक गांव में वाजिब मजदूरी मांगने के सवाल पर किस तरह सामंतो ने दस दलित महिलाओं से सामूहिक बलात्कार किया उनके लोगों को बेरहमी से मारा, इसी विषय पर लिखी अपनी हालिया कहानी का पाठ वे नगर हॉल में शहर के बुध्दिजीवियों के बीच कर रहे थे। बीच-बीच में बताते भी जाते कि किस तरह जब वे गांव में गये और उन दलितों के परिजनों से मिलकर घटना की जानकारी लेनी चाही तो दहशत के आगोश में समाये गांव के सामंतों ने दारोगा को खिला पिला कर उन्हें और उनके साथी बुध्दिजीवी मित्रों को रोकने का पूरा प्रयास किया था।

अचानक पाठ के बीच में ही दिवाकर का मोबाइल फोन बज उठा, माहौल में पैदा गरमाहाट ने दिवाकर के चेहरे पर शिकन ला दिया। झट बिना नम्बर देखे मोबाइल बंद कर दिया। अभी वे कहानी में लौट ही रहे थे कि दुबारा मोबाइल बज उठा। इसबार दिवाकर ने नम्बर देखा, लोगों से माफी मांगी और मोबाइल फोन रिसिव करते हुए किनारे गये। फोन घर से था। मामला गंभीर था। पत्नी बेहोश हो गई थी उन्हें अस्पताल मेंर् भत्ती कराया गया था। किसी तरह से दिवाकर ने कहानी पूरी की। सुनाने के क्रम में स्वर में बदलाव आ गया था।

दिवाकर के घर पहुंचने के पहले रास्ते में जो भी पड़ोसी मिलता अजीब निगाहों से उन्हें देख रहा था। पत्नी घर आ गई थी। लेकिन बार-बार बेहोश हो जाती। घर में अजीब सी खामोशी की चादर चढ़ी हुई थी। दिवाकर को अब तक सारी बातें मालूम हो गई थी। छोटा भाई जो एक कंपनी में नौकरी करता था, उसने दिवाकर की पत्नी के साथ दर्ुव्यवहार कर दिया था। पूरे घर में सन्नाटा पसरा था। जब-जब पत्नी को होश आता और देवर द्वारा किये गये काम से आहत होकर वह बेहोश हो जाती। घटना के समय घर में मां-बाबूजी भी नहीं थे। दिवाकर खामोश था। पत्नी के पास बैठे दिवाकर के पास मां ने धीरे से आकर कहा, 'बाबूजी बुला रहे हैं।' दिवाकर भारी मन से उठते हुए बाबूजी के पास गया। बाबूजी ने उसे समझाया- 'देखो, जो हो गया सो हो गया, बात को बढ़ने से रोकना होगा। अस्पताल में डॉक्टर को खिला पिला कर मामले को पुलिस तक जाने से रोक तो दिया है। ऐसा करो, सुबह की गाड़ी से बहू को लेकर उसके मायके पहुंचा दो। कुछ दिन वहां रहने के बाद जब सब सामान्य हो जायेगा तो ले आना। घर की बात है, घर तक ही रहे तो अच्छा है।' दिवाकर ने 'हूँ' में जवाब दिया और उठ कर चल दिया। उसके अंदर वह उबाल नहीं दिख रहा था, जो मुसहर टोले में एक दबंग द्वारा दलित महिला के साथ किए गए बलात्कार के कारण उसके अंदर दिख रहा था। तब दिवाकर ने ही मामले को उठाया था और पूरे शहर में आंदोलन चला कर जिला प्रशासन पर दबाव बनाते हुए दबंग बलात्कारी को सींखचों के पीछे पहुंचाया था। दिवाकर की एक जुझारू बुध्दिजीवी नेता के रूप में पहचान बन गई थी।

अगले दिन अलसुबह ही पिताजी की बात मानते हुए दिवाकर ने पत्नी को ससुराल पहुंचा दिया। हमेशा दूसरों के हक के लिए आंदोलन की बात करने वाला दिवाकर, अब ज्यादातर खामोश ही रहता था। बात मुहल्ला से होते हुए कई लोगों तक पहुंच चुकी थी। दिवाकर महसूस करने लगा था कि मित्र और आसपास के लोग उसे अजीब निगाह से देखने लगे हैं। धीरे-धीरे लोग घटना को भुल रहे थे, लेकिन दिवाकर में बदलाव नहीं हो रहा था। वह और ज्यादा ही खामोश रहने लगा था। दिन की बजाय वह देर शाम या रात में घर से निकलता था। शहर में अब दिवाकर की चर्चा नहीं होती। गोष्ठियों में भी वह नजर नहीं आता।

अचानक एक दिन दिवाकर की पत्नी मायके से वापस घर आ गई। आते ही उसने दिवाकर से देवर के खिलाफ पुलिस में रिपोर्ट करने को कहा। दिवाकर ने बुझी निगाह से देखा और बिना उत्तर दिए घर से बाहर चला गया। रात में दिवाकर के घर लौटने के बाद फिर पत्नी ने कहा कि आपके भाई ने अपराध किया है और उसे उसकी सजा मिलनी ही चाहिये। दूसरों को आप हक दिलाते रहे हैं। आज आपको क्या हो गया है ?' दिवाकर की खामोशी नहीं टूटी। दूसरे दिन सुबह दिवाकर की पत्नी ने दिवाकर के पास जा कर बोली- 'मैं थाने रपट लिखवाने जा रही हूँ। आपको चलना है या नहीं ?' दिवाकर की ओर से कोई जवाब नहीं पा कर वह घर से निकल ही रही थी कि दिवाकर ने आवाज दी 'ठहरो मैं आ रहा हूँ'। और दिवाकर अपनी पत्नी के संग थाने पहुंचा।

 

संजय कुमार
अक्टूबर1, 2007

       

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com