मुखपृष्ठ  |  कहानीकविता | कार्टून कार्यशालाकैशोर्यचित्र-लेख |  दृष्टिकोणनृत्यनिबन्धदेस-परदेसपरिवार | फीचर | बच्चों की दुनियाभक्ति-काल धर्मरसोईलेखकव्यक्तित्वव्यंग्यविविधा |  संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 

मीरां का भक्ति विभोर काव्य-3

माई री म्हाँ लिया
 गोविन्दा मोल

थें कह्
याँ छाणे म्हाँ काँ
 चोड्डे लि
याँ बजन्ता ढोल
थें कह्
याँ मुँहघो म्हाँ कह्याँ सस्तो
 लिया री तरा
जाँ तोल
तण वारां म्
हाँ जीवण वारां,
 वारां अमोलक मोल

मीरां कूं प्रभु दरसण दीज्
याँ,
 पूरब जनम को कोल

 

- मीरां   

प्रसंग -
प्रस्तुत पद में मीरां के समर्पण की पराकाष्ठा देखी जा सकती है। इस पद में मीरां दर्शन देने के पूर्व जन्म के वचन की ओर संकेत करती हैं।

व्याख्या -
मीरां अपनी
माँ को सम्बोधित कर कहती हैं, हे माँ मैं ने तो अपने प्रिय कृष्ण को मोल ले लिया है, यानि अब मेरा पूरा अधिकार है उन परतुम कहती हो छिपकर अपने अराध्य से प्रेम करो, पर मैं ने तो सबके सामने उन्हें स्वीकारा है वह भी ढोल बजाकर, क्योंकि सच्चा प्रेम लुक-छिप कर नहीं होताअब चाहे तुम इसे मँहगा सौदा कहो, मेरे लिये तो यह तन-मन जीवन वार कर भी सस्ता सौदा हैक्योंकि कृष्ण तो अनमोल हैंअब तो गिरधर नागर दर्शन दे दो, क्योंकि पिछले जन्म में आपने मुझे दर्शन देने का वचन दिया था 

पाठान्तर -
माई री,
मैं तो लीन्हो गोविन्दा मोल

कोई कहे
मँहगा, कोई कहे सस्ता, लियो तराजू तोल
ब्रज के लोग करै सब चर्चा, लियो बजा के ढोल

सुर नर मुनि जाकि पार न पावै, ढक लिया प्रेम पटोल

जहर पियाला राणा जी भेज्यां, पिया मैं अमृत घोल

मीरां प्रभु के हाथ बिकानी, सरबस दीना मोल

manaIYaa kulaEaoYz
jaulaa[- 22‚ 2001

मीरां का भक्ति विभोर काव्य
123   


कहाँ कबीर कहाँ हम
अमीर खुसरो - जीवन कथा और कविताएं
जो कलि नाम कबीर न होते...’ जिज्ञासाएं और समस्याएं

कबीरः एक समाजसुधारक कवि
कबीर की भक्ति
नानक बाणी
भक्तिकालीन काव्य में होली
भ्रमर गीतः सूरदास
मन वारिधि की महामीन - मीरांबाई
मीरां का भक्ति विभोर काव्य
मैं कैसे निकसूं मोहन खेलै फाग
रसखान के कृष्ण
रामायण की प्रासंगिकता

सीतायाश्चरितं महत

सूर और वात्सल्य रस
विश्व की प्रथम रामलीला
 

Top  
 

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com